शहर में पांच दिन से नहीं हुई सफाई, हर तरफ गंदगी, लोगों में आक्रोश

मधुबनी। शहर के सार्वजनिक स्थलों के अनेकों कूड़ेदान कचरा से भरे पड़े हैं। उन्हें उठाने

JagranWed, 02 Jun 2021 12:08 AM (IST)
शहर में पांच दिन से नहीं हुई सफाई, हर तरफ गंदगी, लोगों में आक्रोश

मधुबनी। शहर के सार्वजनिक स्थलों के अनेकों कूड़ेदान कचरा से भरे पड़े हैं। उन्हें उठाने वाला कोई नहीं। कूड़ेदानों में जमा कचरे में बेजुबान पशु चारा की तलाश कर रहे हैं। चारा में उन्हें खाने को कुछ मिले ना मिले पॉलीथिन जरूर मिल जाता है। इन बेजुबान पशुओं को क्या पता कि चारा के रूप में चबाने वाले पॉलीथिन के टुकड़े इनके लिए जानलेवा हो सकते है। मगर, इसकी चिता नगर निगम को नहीं है। जाहिर है कि नगर निगम क्षेत्र में पांच दिनों से गंदगी की सफाई और उठाव कार्य ठप है। जिससे शहर के चौक-चौराहों पर गंदगी का ढेर लग गया है। कूड़ेदानों कचरा से भरा पड़ा है। नगर निगम प्रशासन और सफाई कर्मियों के बीच गतिरोध समाप्त होने की संभावना भी नहीं दिख रही। ऐसे में कहना मुश्किल होगा कि शहर में सफाई कब से शुरू होगी। शहर की स्थिति हर बीते दिन के साथ बिगड़ती जा रही है। लोगों के लिए घरों से बाहर निकलना मुश्किल हो रहा है। कई इलाकों में अब भी जलजमाव है। ऐसे में कचरा का उठाव ठप होने और नालों की सफाई नहीं होने से शहर की स्थिति नारकीय होती जा रही है। निगम प्रशासन को जल्द गतिरोध समाप्त कर सफाई कार्य शुरू कराने के लिए ठोस पहल करने की जरूरत है।

----------------

गंदगी से पनपने वाले बीमारियों के फैलने का बढ़ा खतरा :

दैनिक वेतनभोगी सफाई कर्मियों द्वारा सफाई कार्य ठप रखने से जगह-जगह गंदगी से पनपने वाले बीमारियों के फैलने का खतरा बढ़ गया है। जाहिर है कि शहर को स्वच्छ रखने में फिसड्डी नगर निगम प्रशासन कोरोना संक्रमण के इन दिनों में सैनिटाइज का दावा ढकोसला साबित हो रहा है। लॉकडाउन से पूर्व तक शहर में कुछ खास मौकों पर ही ब्लीचिग या चूना का छिड़काव किया जाता रहा है। इधर, कोरोना संक्रमण के बीच गंदगी से पटे शहर में ब्लीचिग का छिड़काव, सैनिटाइज कार्य मंद पड़ गया।

-----------------

सात वार्डों की सफाई निगम के नियमित सफाई कर्मियों के हवाले :

नगर निगम के वर्तमान में कुल 30 वार्डों में से कुल सात वार्डों में निगम के नियमित सफाई सफाई कार्य कर रहे हैं। निगम के नियमित सफाई कर्मियों द्वारा मुख्य पार्षद के वार्ड तीन के अलावा वार्ड पांच, वार्ड सात, वार्ड 13 व सशक्त स्थाई समिति के सदस्य व पार्षद के वार्ड 21, वार्ड 29 तथा वार्ड 30 में सफाई कार्य चल रहा है। शेष कुल 24 वार्डों में सफाई कार्य मंगलवार को पांचवें दिन भी ठप रहने से शहरवासियों में आक्रोश गहराता जा रहा है। इधर, निगम के शेष 23 वार्डों के पार्षदों में सफाई कार्य को लेकर असंतोष का माहौल बन गया है। कई पार्षदों ने कहा कि सफाई कार्य में भेदभाव की नीति अपनाया जा रहा है। वार्ड पांच के पार्षद निर्मला देवी ने बताया कि वार्ड क्षेत्र में नगर निगम के नियमित कर्मी द्वारा एक पाली में ही सफाई कार्य कर रहा है। वहीं, वार्ड 30 पार्षद प्रभावती देवी ने बताया कि वार्ड में ब्लीचिग, चूना का छिड़काव नहीं किया जा रहा है। छिड़काव और सफाई कार्य के नाम पर लूट-खसोट मची है। इधर, नगर निगम के उप नगर आयुक्त अरुण कुमार ने बताया कि सफाई कार्य को शुरू कराने के पहल चल रही है।

----------------

कचरा की डंपिग की व्यवस्था अब तक दुरुस्त नहीं :

शहर से प्रतिदिन निकलने वाले बड़े पैमाने पर कचरा की डंपिग की व्यवस्था अबतक दुरुस्त नहीं हो सकी है। कचरा डंपिग के लिए शहर से सटे मूसा नगर स्थित भाड़े की पांच एकड जमीन पर कचरा डंपिग ग्राउंड बनाया गया है। मगर, शहर से निकाली गई कचरा यहां तक नहीं पहुंच पाता है। शहर से उठाए गए कचरा शहर के ही कई हिस्सों में डाल दिया जाता है। इधर, कचरा निस्तारण के लिए वार्ड 25 में नगर परिषद की जमीन पर करीब 50 लाख की लागत से कचरा से मेटल रिकवरी सेंटर का निर्माण कराया गया। मगर, यह सेंटर भी कर्मी के अभाव में बंद पड़ा है। वर्तमान में कचरा डंपिग ग्राउंड तक कचरा नहीं पहुंच रहा है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.