असफलता से घबराएं नहीं, लगातार प्रयास से मिलती है सफलता

मधेपुरा। संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) परीक्षा में 22 वां स्थान प्राप्त कर नीतेश कुमार जैन ने क्ष्

JagranSat, 25 Sep 2021 09:44 PM (IST)
असफलता से घबराएं नहीं, लगातार प्रयास से मिलती है सफलता

मधेपुरा। संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) परीक्षा में 22 वां स्थान प्राप्त कर नीतेश कुमार जैन ने क्षेत्र ही नहीं बिहार का नाम रोशन किया है। यह सफलता उन्हें छठे प्रयास में मिली है। इससे पहले वह वर्ष 2018 के संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा में अखिल भारतीय स्तर पर 96 वां रैंक प्राप्त किया था। उसके बाद भारतीय राजस्व सेवा (आयकर) विभाग में कार्यरत हो गए थे, लेकिन वह इतने पर संतुष्ट नहीं हुए। उन्होंने फिर से वर्ष 2019 में भाग्य आजमाया, लेकिन 219 वां रैंक आया। बावजूद वह जरा भी विचलित नहीं हुए। वर्ष 2020 की परीक्षा में 22 वहां रैंक लाकर साबित कर दिया है लगातार प्रयास निश्चित रूप से सफलता देती है। सफलता प्राप्त करने के बाद दूरभाष पर नीतेश ने कहा कि असफलता से बिना घबराए, निरंतर किया गया प्रयास मंजिल की ओर जाती है। बिहार में रहकर भी छात्र तैयारी कर सकते हैं। उसके इस सफलता पर नितेश के घर में खुशी का माहौल है। बधाई देने का सिलसिला जारी है। पुरैनी प्रखंड जैसे सुदूर ग्रामीण इलाके से यूपीएससी की परीक्षा में बड़ी सफलता सचमुच ही आनंदित करने वाला है। नीतेश ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा मध्य विद्यालय पुरैनी से प्राप्त कर वर्ष 2008 में पुरैनी प्रखंड के नरदह पंचायत अंतर्गत बासुदेव उच्चतर माध्यमिक विद्यालय नयाटोला से मैट्रिक की परीक्षा 70 प्रतिशत अंकों से पास की। उसके बाद वे कोलकाता चले गए, जहां इंटर कामर्स की परीक्षा 83 प्रतिशत अंकों के साथ पास किया। साथ ही सेंट जेवियर्स कालेज से 65 प्रतिशत अंकों के साथ बीकाम किया। पहले ही प्रयास में वर्ष 2013 में सीएमए व वर्ष 2014 में सीए की परीक्षा में सफलता प्राप्त किया। इसके बाद वे यूपीएससी की तैयारी में जुट गए।

पत्नी को वर्ष 2019 में मिला है 32 वां रैंक नितेश कुमार जैन की पत्नी सीनम जैन वर्ष 2019 की सिविल सेवा परीक्षा में 32 वां रैंक लाने में सफल रही थी। फिलहाल उनकी पत्नी सीनम जैन सूचना व प्रसारण विभाग दिल्ली में कार्यरत हैं। नितेश की बहन खुशी जैन व मौसम जैन इंजीनियरिग की पढ़ाई कर रही हैं। छोटे भाई योगेश जैन बी-कामर्स की पढ़ाई कर रहा है। जबकि नितेश कुमार जैन के दादा हनुमानमल जैन व पिता आनंद जैन की प्रखंड मुख्यालय में पुश्तैनी कपड़े की दुकान है।

सफलता पर गदगद है परिवार नितेश कुमार जैन की इस सफलता के बाद उनके दादा हनुमानमल जैन, दादी कलावती जैन, पिता आनंद जैन, माता सुधा जैन सहित परिवार के अन्य सदस्य काफी गदगद हैं। नीतेश ने बताया कि माता-पिता के सहयोग व स्वजनों की दुआओं व मित्रों के प्यार की बदौलत यह सफलता मिली है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.