शांतिपूर्ण माहौल में बूथों पर पहुंचकर मतदाताओं ने किया मतदान

मधेपुरा। लोकसभा चुनाव में प्रशासन ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए थे। मतदान केंद्रों पर किसी प्रकार का व्यवधान न हो इसके लिए सुरक्षा के सख्त पहरा रहा। गड़बड़ी करने वाले पर पुरी तरह से चुनाव आयोग ने नकेल कसा रखा। इससे मतदान शांतिपूर्ण माहौल में संपन्न हुआ। बूथों पर केंद्रीय बलों की तैनाती रहने से बूथों पर मतदाता के अलावा कोई भी परिदा भी पर नहीं मार सका। सुबह सात बजे से मतदान की प्रक्रिया शुरू की गई थी। मधेपुरा संसदीय क्षेत्र के 18 लाख 82 हजार 668 मतदाता थे। इसी के साथ 13 प्रत्याशियों का भाग्य इवीएम में कैद हो गया। चुनाव में कुल 1940 मतदान केंद्र बनाए गए थे। जिले के सभी बूथों पर पारामिलिट्री एवं अर्धसैनिक बलों के नौ हजार 304 जवानों की तैनाती की गई थी। सामन्य व क्रिटिकल बूथों पर पारामिलिट्री व बीएमपी के जवानों ने कमान संभाली रखी थी।

---------------------------------

आठ हजार 560 मतदान कर्मी ने लोकतंत्र के पर्व को कराया संपन्न

लोकसभा चुनाव शांतिपूर्ण सम्पन्न कराने को लेकर पीठासीन पदाधिकारी, आब्जर्बर सहित अन्य आठ हजार 560 मतदान कर्मियों को सभी बूथों पर लगाया गया था। प्रत्येक 10 मतदान केंद्र पर एक सेक्टर मजिस्ट्रेट हर गतिविधि पर रख रहे थे। संवेदनशील मतदान केंद्रों पर वोटिग के दौरान वीडियोग्राफी के साथ सुरक्षा का रहा पुख्ता इंतजाम किया गया था। सुरक्षा में सशस्त्र सुरक्षा बल व होमगार्ड व स्काउड गाइड के स्वंयसेवी भी तैनात रहे।

--------------------------------

चुनाव के दौरान सीमा रही पुरी तरह से सील

लोकसभा चुनाव को लेकर जिले की सभी सीमाएं सील कर दी गई थी। 35 जगहों पर बैरियर लगाया गया था। वहीं बैरियर पर पुलिस पदाधिकारी के साथ अ‌र्द्धसैनिक बलों की तैनाती की गई थी। बैरियर पर पुलिस प्रशासन ने कड़ी चौकसी रखी गई थी।

--------------------------------

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.