पाली के मुखिया पद की पुनर्मतगणना कराने की मांग, प्रदर्शन

संवाद सहयोगी लखीसराय बड़हिया प्रखंड अंतर्गत पाली पंचायत के पराजित मुखिया अभ्यर्थी भोलाराम धार

JagranPublish:Fri, 03 Dec 2021 06:44 PM (IST) Updated:Fri, 03 Dec 2021 06:44 PM (IST)
पाली के मुखिया पद की पुनर्मतगणना कराने की मांग, प्रदर्शन
पाली के मुखिया पद की पुनर्मतगणना कराने की मांग, प्रदर्शन

संवाद सहयोगी, लखीसराय : बड़हिया प्रखंड अंतर्गत पाली पंचायत के पराजित मुखिया अभ्यर्थी भोलाराम धारी दर्जनों महिला-पुरूष समर्थकों के साथ शुक्रवार को समाहरणालय पहुंचे। पंचायत के मुखिया पद की पुनर्मतगणना कराने की मांग को लेकर प्रदर्शन करने लगे। इस दौरान वे मुखिया पद की मतगणना में धांधली करके विजेता अभ्यर्थी को गलत तरीके से पराजित करने का आरोप लगा रहे थे। पराजित मुखिया अभ्यर्थी भोलाराम धारी एवं उनके समर्थक पाली पंचायत के मुखिया पद की मतगणना के समय की वीडियोग्राफी एवं मूल पैड दिखाने तथा पुनर्मतगणना कराने की मांग कर रहे थे। इस दौरान जिलाधिकारी के सुरक्षा गार्ड को हंगामा कर रहे लोगों को शांत कराने में काफी मशक्कत करनी पड़ी। पराजित मुखिया पद के अभ्यर्थी भोलाराम धारी ने बताया कि मतगणना के दौरान उन्हें विजयी बता दिया गया। इसके बाद कुछ देर तक वीडियोग्राफी बंद कर दी गई। इसके बाद लक्ष्मी देवी को विजयी घोषित कर दिया गया। पाली पंचायत की मतगणना के समय की वीडियोग्राफी देखने से यह स्पष्ट हो जाएगा। उन्होंने इस संबंध में जिलाधिकारी को आवेदन दिया। इसके बाद जिलाधिकारी ने जिला पंचायती राज पदाधिकारी को तर्क सम्मत कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। जिलाधिकारी ने बताया कि जिले में पूरी तरह निष्पक्ष, स्वच्छ एवं पारदर्शी मतगणना संपन्न कराया जा रहा है। उदाहरण देते हुए कहा कि एक पंचायत समिति पद के एक अभ्यर्थी तीन मतों से विजयी हुए। विरोधी की मांग पर पुनर्मतगणना कराने पर भी संबंधित अभ्यर्थी तीन मतों से ही विजयी हुए। इससे स्पष्ट है कि मतगणना में पूरी तरह पारदर्शिता बरती जा रही है। उन्होंने कहा कि पाली पंचायत से लक्ष्मी देवी 60 मतों से विजयी घोषित हुई है। लक्ष्मी देवी को 1,342 मत एवं भोलाराम धारी को 1,282 मत प्राप्त हुआ है। इसलिए इसमें कोई गुंजाइश नहीं है। कुछ लोगों के दुष्प्रचार के कारण लोग गलतफहमी के शिकार हो गए हैं।