अब एएनएम भी होंगी हाईटेक, करेंगी पेपरलेस वर्क

किशनगंज। एएनएम कागज के बदले अब टैब से ऑनलाइन रिपोर्टिंग करेगी। जिले के 325 एएनएम को अनमोल कार्यक्रम अंतर्गत टैबलेट एवं बायोमैट्रिक डिवाइस दिया जा रहा है। इस कार्यक्रम के तहत जिले के स्वास्थ्य केंद्रों में कार्यरत एएनएम को हाईटेक करने की योजना है। परिवार कल्याण मंत्रालय के निर्देश पर शुरू की जा रही अनमोल कार्यक्रम अंतर्गत एएनएम के कार्यों को सुचारू रूप से संपादन करवाने का निर्णय लिया गया। टैबलेट किशनगंज पहुंच चुका है, प्रशिक्षण के बाद वितरण किया जाएगा।

यह जानकारी देते हुए प्रभारी सिविल सर्जन डॉ. रफत हुसैन ने बताया कि टैबलेट आ चुका है। विधानसभा उपचुनाव के बाद एएनएम को प्रशिक्षण दिया जाएगा उसके बाद टैबलेट वितरण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि टैबलेट में दिए एप से एएनएम शहरी व गांव के महिलाओं के स्वास्थ्य की जानकारी ऑनलाइन करेंगी। मातृत्व मृत्यु एवं शिशु मृत्यु दर को कम करने सहित अन्य योजनाओं में पारदर्शिता लाने लिए राज्य सकरार ने एएनएम को हाईटेक कर रही है। एएनएम के द्वारा स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध के साथ ही उनके द्वारा 15 से 18 रजिस्टरों का संधारण भी करना पड़ रहा है। जिस कारण उनका कार्य गृह-भृमण की गतिविधि ससमय एवं गुणवत्तापूर्ण संपादित नहीं हो पा रहा है। गृह-भ्रमण के अभाव में ससमय मां और बच्चों की समस्या की पहचान नहीं हो पाती है। इन सब कारण को देखते हुए एएनएम को टैबलेट दिया जा रहा है। कुपोषण मुक्त करने, मातृ मृत्यु एवं शिशु मृत्यु दर को कम करने, प्रजनन दर को कम करने, ग्रामीण क्षेत्रों की स्वास्थ्य सेवा को बेहतर व सुगम बनाने के उद्देश्य से राज्य स्वास्थ्य विभाग के द्वारा यह कार्यक्रम चलाया जा रहा है।

-----------------------------------

- 17 एएनएम की और होगी बहाली

शहरी क्षेत्र के टीकाकरण में सुधार हेतु स्थापना एवं प्रतिबद्ध व्यय के अंतर्गत संविदा पर 21 एएनएम नियोजन किया जा रहा है। जिसमें 4 एएनएम मॉडल एममुनाइजेशन सेंटर पर कार्य हेतु नियोजन किया जाएगा।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.