सीमा सड़क का निर्माण वर्षो से अधूरा, बढ़ी परेशानी

भारत-नेपाल सीमा से सटे धनतोला पंचायत के अधिकतर गांव में कजला से मोहामारी गांव की ओर जाने वाली सीमा सड़क का निर्माण पिछले कई वर्षों से चला आ रही है।

JagranPublish:Sun, 28 Nov 2021 08:25 PM (IST) Updated:Sun, 28 Nov 2021 08:27 PM (IST)
सीमा सड़क का निर्माण वर्षो से अधूरा, बढ़ी परेशानी
सीमा सड़क का निर्माण वर्षो से अधूरा, बढ़ी परेशानी

संवाद सूत्र दिघलबैंक (किशनगंज): भारत-नेपाल सीमा से सटे धनतोला पंचायत के अधिकतर गांव में कजला से मोहामारी गांव की ओर जाने वाली सीमा सड़क का निर्माण पिछले कई वर्षों से चला आ रही है। सड़क निर्माण करने वाली एजेंसी के द्वारा पहले की सड़क व पुल-पुलिया कलवर्ट को काट कर सड़क को अपने हिसाब से बनाने का जिम्मा उठा ली है। सड़क पर अपने हिसाब से कार्य भी तेजी गति से शुरू किया था। लेकिन अब कछुए की चाल से सड़क निर्माण का कार्य कर रही है जिससे सड़क जो पहले से चलने के लायक थी, वह सड़क अब मौत को दावत दे रही है।

निर्माण एजेंसी के द्वारा जगह-जगह पर सड़क को काट दिया गया है जिससे आने-जाने वालों को यह पता भी नहीं चलता है और राहगीर गड्ढे में गिर जाते हैं। ना ही निर्माण एजेंसी के द्वारा कोई सावधानी वाली बोर्ड ही दिया गया है ना ही कोई चेतावनी। ऐसे में घटना होना तो लाजिमी है। हालांकि, पहले से बने रहे एक अच्छे सड़क को गड्ढे में तब्दील कर दिया है। सड़क की बदहाली को लेकर लोगों में काफी आक्रोश है। आक्रोशित लोगों ने कई बार स्थानीय प्रशासन को कही और प्रशासन के लोगों द्वारा संबंधित एजेंसी के द्वारा कलवर्ट के नीचे डायवर्जन भी कराया गया जो कि नाकाफी साबित हुआ। ऐसे में सड़क का निर्माण नहीं होने से लोग अब आंदोलन का मन बनाने लगे हैं। ग्रामीण शुशील, अमरनाथ सिंह, ठाकुर प्रसाद सिंह, नवीन कुमार सिंह, महेंद्र कुमार सिंह, इंदर कुमार सिंह, मु. मंसूर, पूर्व मुखिया नजरूल इस्लाम, मु. जलील, शिवा कुमार सिंह आदि ने बताया कि सड़क का हाल वर्षों से जर्जर और जानलेवा बना हुआ है। गड्ढों में जलजमाव होने से वाहनों का परिचालन नहीं हो पा रहा है। इस सड़क पर अगर जिला प्रशासन ने ध्यान दिया तो शायद यह सड़क चलने लायक हो सकती है। जबकि यह सड़क नेपाल की बार्डर को छूती है। जहां दोनों देश की जवान की पहरेदारी है। ऐसे में यह सड़क काफी महत्वपूर्ण है।