सीसीटीएनएस नेटवर्क से जुड़े सभी थाने

सीसीटीएनएस नेटवर्क से जुड़े सभी थाने
Publish Date:Fri, 25 Sep 2020 11:23 PM (IST) Author: Jagran

संवाद सहयोगी, किशनगंज: विधानसभा चुनाव के दौरान जिले में शांति व कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए एसपी कुमार आशीष ने पुलिस पदाधिकारियों के साथ बैठक की। वर्चुअल संवाद के दौरान चुनाव की तैयारी व सीसीटीएनएस की अद्यतन स्थिति की जानकारी ली। एसपी ने बताया कि जिले के लगभग सभी थाने सीसीटीएनएस नेटवर्क से जुड़ गए हैं। जिनका लिक देश के अन्य थानों से जुड़ गया है। अब एफआइआर से लेकर थाने के अन्य डाटा को दूसरे थाने की पुलिस भी देख सकेगी। सीसीटीएनएस परियोजना इंटीग्रेटेड क्रिमिनल जस्टिस सिस्टम (आइसीजेएस) का एक हिस्सा है। इसके तहत न्यायालय, थाना, अभियोजन और एफएसएल को जोड़ा जाएगा। इससे थाने भी कोर्ट से सीधे जुड़ जाएंगे। एफआइआर से लेकर वारंट तक ऑन लाइन हो जाएगा। अब लोग ऑनलाइन शिकायत दर्ज करा सकते हैं। इसके अलावा चरित्र सत्यापन, गुमशुदा व लापता सामग्रियों की सूचना, चोरी हुए वाहनों की जानकारी ऑनलाइन मिलेगी। इससे गुमशुदा व्यक्तियों और अज्ञात शवों की भी जानकारी हासिल की जा सकती है। घरेलू नौकर के सत्यापन से लेकर पासपोर्ट और वरीय नागरिकों के सत्यापन के लिए फॉर्म भरे जा सकते हैं। पीड़ित अपनी एफआइआर को भी देख सकते है। इसके साथ ही केस की प्रगति का भी पता लगाया जा सकता है।

एसपी ने बताया कि जिले में कोई अपराधी दूसरे राज्य से अपराध करके छिपा है और पुलिस के हत्थे चढ़ जाता है, तो उसकी वेरिफिकेशन सीसीटीएनएस के जरिए आसानी से हो जाएगी। चंद मिनटों में ही उसका आपराधिक रिकार्ड आसानी से उपलब्ध हो जाएगा। इससे घटना के खुलासे में भी पुलिस को मदद मिलेगी। अपराधियों का फिगरप्रिट ऑनलाइन किया जाएगा। इसके बाद किसी घटनास्थल से फिगर प्रिट एफएसएल की टीम को उपलब्ध होगा। तो एफएसएल की टीम कंप्यूटर में डालकर फिगरप्रिट के सहारे अपराधियों का पूरा इतिहास पता लगा सकती है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.