धरती गा रही उदासी का नगमा, फीकी रहेगी दिवाली

खगड़िया। धनतेरस और दिवाली को लेकर बाजार रंग-बिरंगे सामानों से सज गया है। बाढ़ और लगातार बारिश के बाद लोगों में पर्व को लेकर खास उत्साह नहीं दिख रहा है। बीते दिनों गंगा और बूढ़ी गंडक की बाढ़ से जिले की लगभग पौने दो लाख की आबादी प्रभावित हुई। 12 लोगों की डूबने से मौत हो गई। बड़ी संख्या में घर गिरे और क्षतिग्रस्त हुए। हजारों एकड़ में लगी फसलें नष्ट हो गई। राहत शिविरों में बाढ़ पीड़ितों को शरण लेनी पड़ी। ऐसे में लोगों में धनतेरस और दिवाली को लेकर खास उत्साह नहीं है।

बरसात और बाढ़ की विभिषिका झेल चुके ऐसे लोग अभी घर-द्वार को भी ठीक से व्यवस्थित नहीं कर पाए हैं। रही-सही कसर सितंबर और अक्टूबर की भारी बारिश ने पूरी कर दी। इससे शहरी इलाके में भी बाढ़ जैसा दृश्य देखने को मिला। अभी भी खगड़िया शहर से पूर्ण रूप से बरसात का पानी नहीं निकला है। लोगों में पर्व को लेकर उत्साह नहीं है।

पीड़ितों का दर्द

फोटो कोट के साथ

फोटो 4

तीन बीघे में गोभी की खेती की थी। डेढ़ बीघे में सोयाबीन लगाया था। गोभी में फूल आने वाला था, लेकिन भारी बारिश में फसल डूब गई। जल जमाव से सोयाबीन की फसल भी नष्ट हो गई। गोभी की खेती में 60 हजार और सोयाबीन में 18 हजार पूंजी लगी थी। सारी पूंजी डूब गई। ऐसे में क्या खाक दिवाली मनाएंगे? पर्व है, तो एकाध दीप जला लेंगे। अब तक फसल क्षतिपूर्ति मुआवजा नहीं मिला है। मिलेगा कि नहीं, कहना मुश्किल है।

-दिवाकर प्रसाद दिलेरी, बड़हरा, दक्षिणी जमालपुर पंचायत

-------------------

फोटो 5

कृषि ही जीविकोपार्जन का साधन है। 10 कट्ठे में गोभी लगाई थी। उसमें 10 हजार की पूंजी लगी। लगातार बारिश में फसल नष्ट हो गई। अपने खाने लायक भी गोभी नहीं है। इस परिस्थिति में दिवाली कैसे मनाएंगे। बहुत ही खराब स्थिति है। गांव में 25 एकड़ में गोभी की खेती हुई थी। किसान गोभी काटकर मक्का लगाते, लेकिन जल जमाव के कारण अब मक्का की खेती में देरी हो रही है। रैंचा की खेती नहीं हो पाई।

-मधुकर प्रसाद, मलिया, मुश्किपुर पंचायत

-----------------

फोटो 6

बाढ़ ने किसानों की कमर तोड़ दी है। गंगा की बाढ़ से रहमीपुर की तीनों पंचायत प्रभावित हुई हैं। मैंने दियारा में 12 एकड़ में मक्का की फसल लगाई थी। सारी फसल डूब गई। हमारी पंचायत के किसानों की हजारों एकड़ खेतों में लगी मक्का की फसल नष्ट हो गई। इससे त्राहिमाम है। घर में अन्न रहेगा, तब न दिवाली मनाएंगे। यह दिवाली फीकी ही रहेगी।

-गौरिश कुमार, पचखुट्टी, रहीमपुर उत्तरी पंचायत

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.