पहले बहुत होती थी बूथ कैप्चरिग की घटना

पहले बहुत होती थी बूथ कैप्चरिग की घटना
Publish Date:Fri, 23 Oct 2020 12:12 AM (IST) Author: Jagran

खगड़िया। सियादतपुर अगुवानी पंचायत के डुमरिया बुजुर्ग निवासी 74 वर्ष के अमरनाथ चौधरी लाठी के सहारे चलते हैं और चश्मा के सहारे देख सकते हैं। उनके मानस पटल पर कई चुनावों की छवियां अंकित हैं। इस दफा भी तीन नवम्बर को वे मतदान करने बूथ पर जाएंगे। वे कहते हैं कि इस बार बूथ तक जाने में लाठी का सहारा लेना होगा। चौधरी कहते हैं कि पहले चुनाव के समय बूढ़े-बुजुर्गों के हाथों में कमान होती थी। अब युवा कमांडर हैं। उन्होंने बताया कि मतदाताओं में जागरूकता बढ़ी है। वे सोच-विचार कर वोट करते हैं। मुद्दों पर बहस होती है। बूथ कैप्चरिग नहीं होती है। पहले ऐसी घटना बहुत घटती थी। पहले चुनाव में बैलगाड़ी और टमटम का उपयोग होता था। अब तो चार पहिये वाहन से नेता नीचे उतरते ही नहीं हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.