परिवर्तन की बयार में 30 में से 26 मुखिया की हुई हार

संवाद सूत्र कदवा (कटिहार) कदवा पंचायत चुनाव के लिए संपन्न मतगणना में भी परिवर्तन की बयार चली। यहां तीस में से 26 मुखिया की हार हुई है।

JagranThu, 02 Dec 2021 11:44 PM (IST)
परिवर्तन की बयार में 30 में से 26 मुखिया की हुई हार

संवाद सूत्र, कदवा (कटिहार) : कदवा पंचायत चुनाव के लिए संपन्न मतगणना में भी परिवर्तन की बयार चली। यहां तीस में से 26 मुखिया की हार हुई है। चौंकाने वाले परिणाम को देख पराजित निवर्तमान प्रतिनिधि में निराशा एवं हताशा देखी जा रही है। वहीं पांच वर्षों में मिलने वाले अधिकार का प्रयोग कर मतदाताओं ने अपना पावर दिखा दिया है। चुनाव परिणाम के बाद गत डेढ़ दशकों से कुंडली मार कर बैठे कई मुखिया को जनता ने नकार दिया है। मतदाताओं ने पुराने प्रतिनिधि को बदल कर नए लोगों पर विश्वास जताया है। जबकि निवर्तमान प्रतिनिधि ने चुनाव जीतने के लिए जमकर खर्च किया। सभी हथकंडे अपनाए, बावजूद जनता का विश्वास नहीं मिला। अंतिम समय तक मतदाता खामोश रहे एवं अपनी सरकार चुन ली। पंचायत चुनाव का परिणाम आने के बाद कुम्हारी पंचायत से मुखिया पद पर दूसरी बार सुलेखा देवी को, भोगांव पंचायत से राजकुमारी देवी, बलिया बेलोन पंचायत में मेराज आलम एवं शेखपुरा पंचायत में रागिया बसरी को मुखिया पद की दूसरी बार ताज मिली है। जबकि शेष 26 पंचायतों में जनता ने मुखिया पद पर नए चेहरों पर विश्वास जताया है। जिसमें सिकोरना पंचायत से नूर मोहम्मद, कुरसैल से गुड्डी देवी, गैथोरा से खुशबू सिंह, रिजवनपुर से तहमीद सद्दाम, तैयबपुर से मारुफ अहमद, धपरसिया से बीबी सगुन खातून, चंदहर से राबिया बसरी सहित अन्य पंचायतों से नए प्रतिनिधि का चयन हुआ है। वहीं कुम्हरी पंचायत में संजीव ठाकुर लगातार तीसरी बार वार्ड सदस्य बने, कंटिया से परशुराम मंडल दूसरी बार समिति बने। जबकि सिकोरना पंचायत में समिति पद पर लगातार तीन बार से चुनाव जीत रहे प्रतिनिधि को रुबीना खातून ने पटकनी दी है द्य कमोवेश सभी पदों में बदलाव की बयार बही। चुनाव परिणाम के बाद जनता का फैसला देखने को मिला।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.