ऐसे हो पदाधिकारी तो कैसे नहीं हारेगी कोरोना महामारी

ऐसे हो पदाधिकारी तो कैसे नहीं हारेगी कोरोना महामारी

हो सकता है आसमान में भी सुराख एक पत्थर तो तबीयत से उछालों यारो यह कथन जिले में चल रही कोरोना महामारी के प्रकोप कार्यकाल में स्वयं संक्रमित होने पर चिकित्सकीय सुझाव पर होम आइसोलेशन में रहकर कोरोना को हराने वाले योद्धा जिलाधिकारी नवदीप शुक्ला पर सार्थक सिद्ध हो रहा है।

JagranTue, 18 May 2021 05:08 PM (IST)

कैमूर। हो सकता है आसमान में भी सुराख, एक पत्थर तो तबीयत से उछालों यारो यह कथन जिले में चल रही कोरोना महामारी के प्रकोप कार्यकाल में स्वयं संक्रमित होने पर चिकित्सकीय सुझाव पर होम आइसोलेशन में रहकर कोरोना को हराने वाले योद्धा जिलाधिकारी नवदीप शुक्ला पर सार्थक सिद्ध हो रहा है। उन्होंने अपनी दृढ इच्छा शक्ति व आमजन के प्रति अपनी संवेदनशीलता को व्यवहार में अमल में लाने के लिए सदर अस्पताल में पूर्व के बने 30 बेड के नोबल कोरोना वार्ड को पहले चरण में 45 बेड का बनवाया। इसके बाद सदर अस्पताल परिसर में स्थित एएनएम प्रशिक्षण स्कूल में भी 30 बेड का कोविड केयर सेंटर बनवाने के साथ अनुमंडलीय अस्पताल मोहनियां में भी संक्रमित मरीजों को भर्ती कर इलाज कराने के 36 बेड की व्यवस्था कराकर इलाज शुरू कराया। इतने पर भी संभावित रोगियों की संख्या में इजाफा होने के पूर्वानुमान के आधार पर मोहनियां के कटरा कला में स्थित जेएनएम स्कूल में मरीजों को भर्ती कर इलाज के लिए 150 बेड की व्यवस्था कराई। जहां वर्तमान समय में भी पांच मरीजों को भर्ती कर इलाज किया जा रहा है।

सरकार व वरीय पदाधिकारियों से वार्ता कर औरंगाबाद से नियमित रूप से आक्सीजन सिलेंडर के आपूर्ति की व्यवस्था कराते हुए मरीजों को उपलब्ध कराई जा रही आक्सीजन की व्यवस्था की भी पड़ताल किया। इसके चलते सदर अस्पताल व अनुमंडल अस्पताल में भर्ती संक्रमित मरीजों को पाइपलाइन से आक्सीजन की आपूर्ति की जा रही है। एएनम व जेएनएम स्कूल में सिलेंडर के माध्यम से आक्सीजन की आपूर्ति की जा रही है। उनके प्रयास से सदर अस्पताल को पांच बाइपेप मशीन भी उपलब्ध हो चुकी है। यह मशीन उन रोगियों के लिए संजीवनी है जो आक्सीजन आपूर्ति के बाद भी स्वयं श्वांस नहीं खीच पाते हैं। इसके माध्यम से उन्हें नाक के माध्यम से फेफड़े तक आक्सीजन की आपूर्ति की जा सकती है। इसके चलते उन्हें वेंटीलेटर पर नही रखना पड़ेगा।

ज्ञात रहे कि सतर्कतावश सदर प्रखंड के दुमदुम गांव के बगल बने न्यू ब्लाक भवन में भी संक्रमित मरीजों को भर्ती कर इलाज करने के लिए 150 बेड की व्यवस्था की जा चुकी है। कराए गए कार्यो के प्रति जब जिलाधिकारी से उनका विचार जानने का प्रयास किया गया तो उन्होंने कहा कि मुझे अपने अधिकार ही नहीं कर्तव्य का भी ज्ञान है। अपने कर्तव्य को पूरा करने में हम ही नही पूरा जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के लोग भी लगे हुए है। उन्होंने जिले के सभी लोगों से अपील करते हुए कहा कि आप सभी लोग दिल से सरकार की गाइडलाइन का अनुपालन करते हुए अपने व परिवार के लोगों को सुरक्षित रखने में प्रशासन का सहयोग करे। भूले नहीं याद रखें दो गज दूरी- मास्क जरूरी है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.