top menutop menutop menu

अब पंचायत स्तर पर शिविर में बनेंगे लाभुको के गोल्डेन कार्ड

जिले में प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के आयुष्मान भारत कार्यक्रम को गति देने का धरातलीय प्रयास शुरू कर दिया गया है। स्वास्थ्य संस्थानों व कॉमन सर्विस सेंटर से बनाए जा रहे गोल्डेन कार्ड के कार्य को विस्तार देने के साथ अब पंचायत स्तर पर शिविर लगाकर वर्ष 2011 की जनगणना के आधार पर बनी सर्वे सूची के अनुसार लाभुकों के गोल्डेन कार्ड बनाए जाएंगे। इस कार्य को सही ढंग से पूर्ण कराने के लिए शनिवार को प्रत्येक पंचायत के कार्यपालक सहायकों को गोल्डेन कार्ड बनाने का व्यवहारिक प्रशिक्षण पटना से आए मास्टर ट्रेनर शाहबाज खां ने दिया। उन्होंने कार्यपालक सहायकों कार्य की तकनीकी जानकारी देते हुए व्यवहारिक समस्याओं के निदान का उपाय भी बताया। इसके बाद वे सदर अस्पताल में चल रहे आयुष्मान भारत कार्यक्रम के पंजीयन व परामर्श केंद्र पर जाकर भी व्यवहारिक जानकारी देते हुए कार्य की गति बढ़ाने के टिप्स दिए। साथ में जिला समन्वयक साकेत बिहारी पांडेय भी रहे। प्रशिक्षण के समय सिविल सर्जन डॉ अरूण कुमार तिवारी, डा. सिद्धार्थ राज सिंह व डीपीएम धनंजय शर्मा भी उपस्थित थे। ज्ञात रहे कि जिले के 121328 परिवारों के छह लाख 55 हजार लाभुकों के कार्ड बनाने के लक्ष्य के सापेक्ष 26 हजार 956 लोगों के गोल्डेन कार्ड सदर अस्पताल सहित नेट की सुविधा न होने से अधौरा को छोड़कर दस सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों द्वारा बनाए गए हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.