आधा से अधिक संचालित हो रहे अवैध नर्सिंग होम व क्लीनिक

आधा से अधिक संचालित हो रहे अवैध नर्सिंग होम व क्लीनिक
Publish Date:Mon, 03 Aug 2020 07:07 PM (IST) Author: Jagran

जमुई। जिले भर में आधा से अधिक नर्सिंग होम व क्लीनिक अवैध रूप से संचालित हो रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़े के मुताबिक जिले में सिर्फ 20 नर्सिंग होम ही रजिस्टर्ड हैं, जबकि 53 नर्सिंग होम व क्लीनिक बगैर निबंधन के संचालित हो रहे हैं, जबकि इसके अलावा कई ऐसे भी नर्सिंग होम हैं जिसमें प्रमाणित चिकित्सक का भी अभाव है। जिस वजह से कई नर्सिंग होम में थोड़ी सी चूक की वजह से आए दिन मरीजों की जान जा रही है। इसके बावजूद ऐसे नर्सिंग होम पर अब तक विभाग की कोई कार्रवाई नहीं हुई है। नतीजतन, नर्सिंग होम अवैध रूप से और बगैर प्रमाणित चिकित्सक के फल-फूल रहा है।

स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार फिलहाल 53 नर्सिंग होम व क्लीनिक ऐसे हैं जो अवैध रूप से संचालित हो रहे हैं। इसके अलावा अवैध रूप से संचालित तकरीबन तीन दर्जन से अधिक ऐसे नर्सिंग होम व क्लीनिक हैं जो स्वास्थ्य विभाग की सूची से गायब हैं। स्वास्थ विभाग भी ऐसे अवैध नर्सिंग होम व क्लीनिक को ढूंढने में दिलचस्पी नहीं दिखा रहा है। नतीजतन, आज के दौर में हर गली-मुहल्ले में नर्सिंग होम व क्लीनिक धड़ल्ले से खुल रहे हैं। इतना ही नहीं, सदर अस्पताल के इर्द-गिर्द कई ऐसे नर्सिंग होम संचालित हो रहे हैं जो निबंधित नहीं हैं, फिर भी प्रमाणित चिकित्सक का फर्जी बोर्ड लगा कर संचालित किया जा रहा है।

--

पंजीकृत क्लीनिक व नर्सिंग होम की सूची

स्वामी विवेकानंद हॉस्पिटल सिमुलतला, मैक्सि मैक्स फैमली केयर हॉस्पिटल आढ़ा अलीगंज, कोकिल्या हेल्थ केयर जमुई, भगवान महावीर हॉस्पिटल लछुआड़ सिकंदरा, श्रीसाईं हॉस्पिटल अलीगंज, देव पुष्पा कंप्यूटराइज्ड ऑर्थोपेडिक-पॉली क्लीनिक सेंटर जमुई, परवेज स्पेशलिस्ट हॉस्पिटल सेंटर प्राइवेट लिमिटेड सोनो, स्वामी विवेकानंदा हॉस्पिटल सिमुलतला, जेपी हॉस्पिटल जमुई, ओम साईं हॉस्पिटल जमुई, आशा सेवा सदन अलीगंज, मानव सेवा सदन झाझा, रूपा सेवा सदन झाझा, केके हॉस्पिटल महिसौड़ी चौक जमुई, सत्यम नर्सिंग होम सिकंदरा, आरबीसी हॉस्पिटल जमुई, सादाब क्लीनिक महिसौड़ी, जमुईए मोदी हॉस्पिटल बोधवन तालाब जमुई, आरपी पॉली क्लीनिक जमुई, पुष्पांजलि इमरजेंसी हॉस्पिटल जमुई।

--

कोट

सभी पीएचसी प्रभारी से संचालित नर्सिंग होम की जानकारी मांगी गई है। अवैध रूप से संचालित नर्सिंग होम की जांच कर कार्रवाई की जाएगी। साथ ही नर्सिंग होम में प्रमाणित चिकित्सक की भी जांच की जाएगी।

डॉ. विजेन्द्र सत्यार्थी, सिविल सर्जन, सदर अस्पताल, जमुई।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.