नींबू की खटास ने घोली वनवासियों के जीवन में मिठास

जमुई। कल तक जंगली पौधे काटकर जीवन यापन करने वाले वनवासी अब पौधों की रखवाली कर जीने की राह तय कर रहे हैं। तकरीबन दो साल पूर्व 2019 में जब एक साथ 11 वनवासियों ने पौधारोपण किया था तो शायद किसी को कल्पना भी नहीं होगी कि इन पौधों से फल भी लिया जा सकेगा।

JagranSun, 20 Jun 2021 07:11 PM (IST)
नींबू की खटास ने घोली वनवासियों के जीवन में मिठास

जमुई। कल तक जंगली पौधे काटकर जीवन यापन करने वाले वनवासी अब पौधों की रखवाली कर जीने की राह तय कर रहे हैं। तकरीबन दो साल पूर्व 2019 में जब एक साथ 11 वनवासियों ने पौधारोपण किया था तो शायद किसी को कल्पना भी नहीं होगी कि इन पौधों से फल भी लिया जा सकेगा। वक्त के साथ सब कुछ बदल गया। 2021 में जब पहला फल टूटा तो खट्टे निबू के रस ने वनवासियों के जीवन में गुड़ से भी ज्यादा मिठास घोल दी। अब और भी वनवासी उत्साहित हो अपनी जमीन पर पौधारोपण की योजना बना रहे हैं। दरअसल 2019 में मुंबई की एक संस्था ने महावीर की धरती से जुड़े लोगों की समृद्धि की इबारत लिखने की ठानी। उक्त कड़ी में ही पहाड़ की तलहटी से सटे सिकंदरा प्रखंड धनिमातरी (लछुआड़) में 11 किसानों को प्रेरित कर तकरीबन डेढ़ एकड़ भूमि पर सामूहिक बगीचा तैयार करने की बुनियाद रखी। तब पौधों की रखवाली बड़ी समस्या थी। अलग-अलग जमीन के टुकड़ों की घेराबंदी में अत्यधिक खर्च आ रहा था। लिहाजा वनवासियों ने सामूहिक बगीचा का कंसेप्ट अख्तियार किया और फिर सामूहिक घेरा के माध्यम से उन किसानों ने घेराबंदी पर की जाने वाली खर्च में बड़ी बचत की। बगीचे में कुल 638 पौधे लगाए गए जिसमें नींबू के 281 तथा अमरुद के 324 पौधे शामिल हैं। फिलहाल नींबू का पहला फल इन लोगों ने तोड़ा है। इससे 20,000 नींबू टूटे। ढाई रुपये की दर से कुल 50,000 की आमदनी हुई है। अमरूद में भी फल आना शुरू हो गया है।

-----------

आदर्श ग्राम योजना के तहत हुआ क्रियान्वित

जेएम फिनांयसिल फाउंडेशन के सहयोग से आदर्श ग्राम योजना के तहत बेटर व‌र्ल्ड फाउंडेशन द्वारा इसे क्रियान्वित कराया गया है। संस्था के ग्राम समन्वयक विद्याकर सिंह ने बताया कि सामूहिक बगीचा में नींबू के 281, अमरुद के 324, बांस के 11 तथा आम के 22 पौधों को मिलाकर कुल 638 पौधे लगाए गए हैं। इसमें कुल लाभान्वित किसानों की संख्या दो महिलाओं सहित 11 है।

-----------

किसानों एवं रोपित पौधों की विवरणी

किसान - नींबू - अमरुद - बांस - आम

कारू राय- 35 - 32 - 1 - 2 सुरेश राय- 45 - 40 - 1 - 2 कौशल्या देवी- 30 - 48 - 1 - 2 हरि राय - 21 - 25 - 1 - 2 शंकर राय - 21 - 25 - 1 - 2 बहादुर राय - 21 - 25 - 1 - 2 मंटू राय - 28 - 40 - 1 - 2 लालधारी राय- 14 - 24 -1 - 2 गिरीश राय - 21 - 25 - 1 - 2 रुणा देवी - 12 - 18 - 1 - 2 चमरू राय - 13 - 22 - 1 - 2

------------

कोट

कार्पोरेट सामाजिक दायित्व परियोजना के तहत भगवान महावीर की जन्मस्थली के इर्द-गिर्द कुल 15 गांवों में विभिन्न प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है। कृषि क्षेत्र से आजीविका के तहत पौधारोपण को विशेष प्राथमिकता दिया जा रहा है। धनिमातरी में किसानों को मिली सफलता के बाद इस वर्ष तकरीबन 15 एकड़ में पौधारोपण की योजना है।

राकेश रोशन परियोजना प्रबंधक बेटर व‌र्ल्ड फाउंडेशन, मुंबई

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.