Shocking VIDEO: किताब के पैसे से शराब पी गया पिता, बिहार के रोहतास में बच्‍चों ने रो-रोकर बयां किया दर्द

बिहार के रोहतास की यह घटना आपको सोचने पर मजबूर कर देगी। वह एक पिता अपने दो बच्‍चों की किताब के पैसे से शराब पी गया। स्‍कूल में हेडमास्‍टर के पूछने पर बच्‍चों ने रो-रोकर इसकी जानकारी दी। शराबबंदी की हकीकत बताता इसका वीडियाे वायरल हो गया है।

Amit AlokSun, 28 Nov 2021 04:42 PM (IST)
बच्‍चों की किताबों के पैसे से शराब पीने वाला पिता तथा यह बताने वाले दाेनों बच्‍चे। तस्‍वीर: इंटरनेट मीडिया।

रोहतास, जागरण संवाददाता। ''का करी मास्टर साहब, किताब के पईसा से पापा दारू पी गईलन।'' (क्‍या करें सर, पापा किताब के पैसे से शराब पी गए।) बिहार के रोहतास जिले के तिलौथू प्रखंड के मध्य विद्यालय पतलुका के दो बच्चों से जब हेडमास्‍टर ने किताब नहीं होने का कारण पूछा तो बच्चों ने न केवल अपना दर्द, बल्कि बिहार में शराबबंदी की हकीकत भी बयां कर दिया। रोते-रोते बच्चों ने बताया कि पापा दारू पीते हैं और किताब के पैसे से भी शराब पी गए। बार-बार कहने पर भी किताब खरीदकर नहीं देते हैं। रो-रो कर यह बताते मासूम बच्चों का वीडियो वायरल होने के बाद अब जिला प्रशासन से लेकर शिक्षा विभाग तक के अधिकारियों के हाथ-पांच फूलने लगे हैं।

पिता के समाने बच्‍चों ने बयां किया दर्द

वायरल वीडियो में स्कूल के एक शिक्षक जब दोनों बच्चों से पूछते हैं कि पांच दिनों से कहने के बाद भी किताब क्यों नहीं लाए तो रोते हुए दोनों बच्चे कारण बाताते हैं। बच्‍चों के जवाब सुन शिक्षक दंग रह जाते हैं, लेकिन वहीं मौजूद बच्चों के पिता मेवालाल के चेहरे पर शिकन नहीं आई।

प्रधानाध्यापक ने पिता की लगाई क्‍लास

प्रधानाध्यापक अनिल कुमार ने मेवालाल को स्कूल बुलाया था और उसके सामने ही बच्चों से किताब नहीं होने की बात पूछी थी। मेवालाल का मासूम बेटा और बेटी दोनों इस सवाल पर डर गए और रोने लगे। समझा-बुझाकर पूछने पर दोनों ने बताया किताब के लिए जो पैसे मिले थे, उससे उनके पिता शराब पी गए। इसके बाद प्रधानाध्यापक ने मेवालाल को काफी डांट लगाई।

शराबबंदी को लेकर लापरवाही उजागर

यह मामला केवल बच्‍चाें की किताब का नहीं, शराबबंदी कानून के उल्‍लंघन का भी है। पिता ने शराब इस कारण पी कि वह उपलब्‍ध हुई। ऐसे में सवाल यह है कि उसकी आपूर्ति किसने और कैसे की? शराबबंदी कानून को लेकर पुलिस की सतर्कता को लेकर भी सवाल पैदा हो गए हैं। हालांकि, इसे कानून-व्‍यवस्‍था का मामला बताते हुए डीईओ संजीव कुमार ने कहा कि यह देखना पुलिस का काम है। जहां तक शिक्षा विभाग की बात है, वह वीडियो का अवलोकन कर रहा है। प्रधानाध्यापक को निर्देश दिया गया है कि वे दोनों बच्चों को किताबें कार्यालय से प्राप्त कर हर हाल में उपलब्ध कराएं। साथ ही अधिकारियों की टीम सोमवार को विद्यालय पहुंचकर पूरे मामले की जांच भी करेगी।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.