शरद पूर्णिमा के अवसर पर हनुमान मंदिर में तीन क्विंटल खीर का लगा भोग, उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

शरद पूर्णिमा पर घरों व मंदिरो में की गई पूजा-अर्चना
Publish Date:Sat, 31 Oct 2020 07:12 AM (IST) Author:

जेएनएन, गया। शरद पूर्णिमा के अवसर पर औरंगाबाद स्थित मुख्य हनुमान मंदिर में शनिवार को महाआरती का आयोजन किया गया। इसमें श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी। दूर- दूर से भक्‍त यहां पहुंचे और हनुमान लला का दर्शन-पूजन किया। इस अवसर पर भगवान को खीर का भोग लगाया गया। करीब तीन क्विंटल खीर का वितरण भक्‍तों के बीच किया गया। इधर घरों में भी लोगों ने खीर में चंद्रमा की रोशनी लगाकर उसे ग्रहण किया।

महाआरती साहिल सोनी के नेतृत्व में किया गया। भव्‍य महाआरती देख भक्‍त मुग्‍ध रह गए। यहां भजनों के बीच तालियों की गूंज होती रही। हनुमान चालीसा से लेकर अन्‍य भजनों से माहौल पूरी तरह भक्‍ितमय हो गया।  कमलेश शर्मा, विजय सिंह यादव, नंद शर्मा, लाल बिहारी सिंह, नंद जी, महेश्वर सिंह, जयशंकर सिंह आदि ने एक से बढ़कर एक भजनों से श्रद्धालुओं के तन-मन को झंकृत कर दिया। देर शाम तक यह सिलसिला चलता रहा। इसके बाद प्रसाद वितरण शुरू किया गया। कार्यक्रम के अंत में महाआरती करने वाले साहिल सोनी को चुनरी देकर मंदिर की ओर से पप्पू गुप्ता ने सम्मानित किया। कहा गया कि शरद पूर्णिमा के दिन आसमान से अमृत की बारिश होती है। इस दिन खीर का भोग लगाने का विशेष महत्‍व है। माना जाता है कि इस खीर काे प्रसाद के रूप में ग्रहण करने वाले को आरोग्‍य की प्राप्ति होती है। इसलिए खीर को चंद्रमा के प्रकाश में रखा जाता है। पूजा भी की जाती है। इसके बाद लोग उसे ग्रहण करते हैं। इस दिन अमूमन सभी घरों में खीर बनाकर उसे चंद्रमा के प्रकाश में रखकर घर के लोग उसे खाते हैं।

इस कार्यक्रम में मंदिर के मुख्य पुजारी देव शरण मिश्र, पूजा व्यवस्थापक पप्पू गुप्ता, सुनील केशरी, आनंद प्रकाश, दिव्य प्रकाश, चंदन कांस्यकार, धीरज कसेरा, ब्रजेश पाठक, रोहित कुमार, श्री नारायण कुमार, आदित्य प्रकाश, आर्य अमर केशरी एवं अन्य श्रद्धालु शामिल हुए।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.