एक हजार विषधर को पकड़ चुके हैं गया के ये शिक्षक, सांपों को पकड़ने के पहले रखते हैं यह शर्त

सुभाष सिंह नियोजत शिक्षक हैंपर उनकी ख्याति सांप पकड़ने के लिए ज्‍यादा हैं। सांप पकड़ने के लिए फतेहपुरवजीरगंजटनकुपपा मोहनपुर समेत कई प्रखंडो से उनकी खोज होती हैं। हर जगह वह पहुंचते भी है। पर सांप पकड़ने के पहले उनकी एक शर्त होती हैं ।

Sumita JaiswalSat, 31 Jul 2021 08:19 AM (IST)
जहरीले नाग को पकड़ते शिक्षक सुभाष सिंह । जागरण फोटो।

फतेहपुर (गया), संवाद सूत्र। गया जिले के फतेहपुर प्रखंड के रघुनाथपुर गांव के रहने वाले सुभाष सिंह की पहचान सांपों के विशेषज्ञ के रूप में होती हैं। आज  उनके गांव की पहचान उनके नाम से ही ज्यादा होने लगी है। 42 साल के सुभाष सिंह नियोजत शिक्षक हैं, पर उनकी ख्याति सांप पकड़ने के लिए ज्यादा हो रही हैं। सांप पकड़ने के लिए फतेहपुर,वजीरगंज, टनकुपपा,मोहनपुर समेत अन्य प्रखंडो से उनकी खोज होती हैं। हर जगह वह पहुंचते भी है। पर शर्त होती हैं  कि पकड़े गए किसी भी सांप की हत्या कोई नहीं करेगा। उनके द्वारा पकड़े गए सभी सांपों को जंगल में छोड़ दिया जाता है।

तीन बार हो  चुके हैं सर्प दंश के शिकार

सुभाष सिंह अपनी जान की  परवाह किए बिना दो साल में कोबरा, गेहूमन एवं साखड जैसे जहरीले करीब एक हजार सांपों को  पकड़ चुके हैं। इस दौरान दो बार घायल भी हो चुके हैं। पर, उन्हें ज्यादा नुकसान नहीं हुआ। सर्प पकड़ने के लिए वह सिर्फ कपड़े का इस्तेमाल करते हैं।

वन विभाग से अनुबंध पर नौकरी का मिला आफर

सुभाष सिंह ने बताया कि जब विभाग को उनके हुनर का पता चला तो उन्हें विभाग में अनुबंध पर नौकरी का आफर दिया गया था। शिक्षक एवं समाज सेवा के कारण उन्‍होनें आफर को ठुकरा दिया था।

 सांपों को पकड़ने का बताया गुर

सुभाष सिंह ने बताया कि बाराचटटी के रहने वाले एक होम गार्ड के जवान उनके इस मामले में गुरू है। गांव में सांप पकड़ते देख उनको भी इस काम को करने की लालसा हुई। जिसके बाद वह इस काम जुटे पड़े। उन्‍होंने बताया कि अधिकतर लोग घर एवं दुकान में सांप पकड़ने के लिए बुलाते हैं। सुभाष सिंह ने बताया कि सांप को पकड़ने के दौरान उसे बिल्‍कुल नहीं लगना चाहिए कि आप उस पर हमला करने वाले हैं। अगर हमला का आभास जैसे ही हुआ, उसे पकड़ पाना मुश्किल हो जाता है। साथ ही सर्पदंश का खतरा बढ़ जाता है। उन्‍हाेंने बताया कि वह प्रण कर चुके हैं कि पकड़े गए किसी भी सांप को किसी को भी मारने नहीं देंगे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.