भभुआ के मंदिर से आभूषणों की चोरी का उद्भेदन, चांदी के मुकुट, सोने की नथिया व बिंदी की हुई थी चोरी

पिछले बुधवार की रात को महरथा गांव स्थित संतोषी मां के मंदिर से अज्ञात चोरों ने चांदी का मुकुट सोने की नथिया सोने की बिंदी चुरा लिया था। उक्त घटना स्थानीय थाना में कांड दर्ज कर अनुसंधान शुरू किया गया। जैतपुरा गांव के दीपक ने चोरी अपनी संलिप्तता स्वीकार की।

Prashant Kumar PandeyWed, 01 Dec 2021 06:34 PM (IST)
मंदिर से आभूषणों की चोरी की सांकेतिक तस्वीर

 संवाद सूत्र, नुआंव: बीते दिनों स्थानीय थाना क्षेत्र के महरथा गांव में स्थित संतोषी मां के मंदिर से चोरों द्वारा आभूषण चोरी की घटना का पुलिस ने एक सप्ताह के अंदर उद्भेदन कर चोरों को गिरफ्तार कर लिया। इस संबंध में जानकारी देते हुए थानाध्यक्ष सुनीत कुमार सिंह ने बताया कि पिछले बुधवार की रात को महरथा गांव स्थित संतोषी मां के मंदिर से अज्ञात चोरों ने चांदी का मुकुट, सोने की नथिया, सोने की बिंदी चुरा लिया था। उक्त घटना स्थानीय थाना में कांड दर्ज कर अनुसंधान शुरू किया गया। अनुसंधान के क्रम में जैतपुरा गांव के दीपक कुमार को पुलिस अभिरक्षा में लेकर कड़ाई से पूछताछ किया गया, तो उसने चोरी की घटना में अपनी संलिप्तता स्वीकार की। उसने बताया कि वह अपने अन्य साथियों उपेंद्र राम पिता लक्ष्मण राम , विनोद मुसहर पिता स्वर्गीय सम्मुख मुसहर दोनो ग्राम जैतपुरा के साथ मंदिर से जेवरात चोरी किया।

कुल सौदा पंद्रह हजार रुपए में हुआ था तय 

चोरी किए गए जेवरात को रतन कुमार वर्मा पिता किशोरी सेठ ग्राम पश्चिम मोहल्ला सुहावल, जिला- गाजीपुर, यूपी वर्तमान पता - ग्राम व पोस्ट भदार, थाना सिकरौल, जिला - बक्सर भाग्यलक्ष्मी ज्वेलर्स को बेच दिया। कुल सौदा पंद्रह हजार रुपए में तय किया गया था। उक्त दुकानदार द्वारा शिवराही बुलियन रिफायनरी वाराणसी में गलावने के बाद सेलम ज्वेलर्स को तेरह हजार रुपए में बेच दिया गया। रतन कुमार वर्मा द्वारा दीपक और उसके साथियों को बारह हजार पांच सौ रुपया दिया गया तथा शेष अपने पास रख लिया गया। दीपक कुमार और रतन कुमार वर्मा को गिरफ्तार कर मंगलवार को जेल भेज दिया गया। 

दीपक कुमार पर नुआंव थाना और यूपी के दिलदारनगर थाने में मुकदमा है दर्ज

दीपक कुमार का पहले से भी अपराधिक इतिहास रहा है। उस पर नुआंव थाना और यूपी के दिलदारनगर थाने में मुकदमा दर्ज है। फरार अभियुक्तों में विनोद मुसहर को बुधवार को जेल भेजा गया । जबकि उपेंद्र राम पिता लक्ष्मण राम अभी फरार चल रहा है। शीघ्र हीं उसे गिरफ्तार करने की कोशिश की जा रही है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.