कोरोना का बहाना बना करा लिया हस्‍ताक्षर और फर्जी आदेश दिखाकर वार्ड सचिव के साथ किया ऐसा

फर्जी हस्‍ताक्षर करा हटाया वार्ड सचिव को। प्रतीकात्‍मक फोटो

गया के बाराचट्टी प्रखंड क्षेत्र में बीडीओ का फर्जी हस्‍ताक्षर दिखाकर वार्ड सचिव को हटाए जाने का मामला प्रकाश में आया है। इसकी शिकायत वार्ड सचिव ने बीडीओ से की है। आरोप लगाया है कि फर्जी तरीके से ऐसा किया गया।

Vyas ChandraTue, 23 Feb 2021 02:02 PM (IST)

संवाद सूत्र, बाराचटटी (गया)। बाराचट्टी प्रखंड की रोही पंचायत के दरबार गांव में वार्ड संख्या दस के सदस्य गरीबन दास ने प्रखंड विकास पदाधिकारी (Block Development Officer) का फर्जी हस्ताक्षर (Fake Sign) दिखाकर वार्ड सचिव सरस्वती देवी को हटा दिया है। इस बात की चर्चा तब हुई जब गरीबन दास ने बीडीओ के आदेश से संबंधित सूचना भी गांव के बिजली के पोल एवं गलियाें में चस्पा दिया।

राशि का मांगा ब्‍योरा तो किया ऐसा

वार्ड सचिव सरस्‍वती देवी ने बताया कि वार्ड क्षेत्र में वर्ष 2019 में नल जल का कार्य किया गया था। इसी बीच सड़क दुर्घटना में वार्ड सचिव के पति सत्येंद्र कुमार की मौत भलुआ में हो गई । मृत्यु के बाद गरीबन दास ने वार्ड सचिव सरस्वती देवी का धोखे से चेक पर हस्‍ताक्षर करवा 70 हजार रुपये निकाल लिए। दोबारा भी वह ऐसा करने गया। इस पर वार्ड सचिव ने कहा कि पूर्व के खर्च का सारा हिसाब पहले कर लें उसके बाद हस्ताक्षर करेंगे। इस पर वार्ड सदस्य भड़क गया।

वार्ड सदस्य रखता है सारा कागजात

वार्ड सदस्य गरीबन दास के पास से वार्ड क्रियान्वयन समिति का सारा कागजात रहता है। जब वार्ड सचिव के ने कागजात एवं नल जल की चाबी मांगी तो उसने ऐसा करने से इन्‍कार कर दिया। वार्ड सचिव सरस्वती देवी ने इसकी शिकायत बीडीओ से की। उनसे कागज व चाभी दिलवाने की मांग की। इसी बीच सरस्‍वती देवी को पता चला कि उसे फर्जी ग्राम सभा का आयोजन करा हटा दिया गया है। वार्ड सदस्‍य ने अपने पोते दीपक कुमार को अनुरक्षक बना दिया है। तब इसकी भी शिकायत बीडीओ से की। जांच रिपोर्ट के आधार पर बीडीओ ने बीते दस फरवरी को चायत सचिव को निर्देश दिया कि अनुरक्षक की बहाली में वार्ड सचिव का हस्ताक्षर फर्जी है। पंचायत सचिव को बीडीओ ने यह भी निर्देश दिया कि अपनी देखरेख में वार्ड सभा करवा कर सरकारी मानदंडों के अनुसार अनुरक्षक कराई बहाली की जाए।

वार्ड सदस्य ने बीडीओ का फर्जी हस्ताक्षर कर निकाली आम सूचना 

वार्ड सदस्य गरीबन दास ने एक फर्जी प्रिंटआउट पेपर निकलवाया जिसमे लिखा कि  प्रखंड विकास पदाधिकारी के निर्देशानुसार नए वार्ड सचिव के चयन के लिए  सभा का आयोजन दस फरवरी को होना है। लेकिन ऐसा कोई आदेश बीडीओ के स्‍तर से नहीं दिया गया।

कोरोना का बहाना बनाकर रजिस्टर पर कराया हस्ताक्षर

दरबार की मंजू देवी बताती है कि हम लोगों से कोरोना के टीका के नाम पर वार्ड सदस्य ने हस्ताक्षर करवाया। लेकिन बाद में पता चला कि यह कार्य वार्ड सभा के लिए करवाया गया है। शबनम खातून कहती है कि जनगणना के नाम पर हम लोगों के घर घर जाकर गरीबन दास ने हस्ताक्षर करवाया। उक्त बातों को गांव के अन्य  लोग भी  स्वीकार कर रहे हैं। ग्रामीणों ने स्पष्ट कहा कि सरस्वती देवी को सचिव पद से हटाने को लेकर ना तो हमलोगों ने किसी को आवेदन दिया है और ना ही किसी तरह की कोई वार्ड सभा या मीटिंग हुई है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.