top menutop menutop menu

मुख्यधारा से जोड़े जा रहे उग्रवाद व नक्सल प्रभावित क्षेत्र के लोग : मंत्री

गया। 71वें गणतंत्र दिवस के मौके पर शहर के गांधी मैदान स्थित हरिहर सुब्रमण्यम स्टेडियम में मुख्य समारोह आयोजित हुआ। इसमें जिले के प्रभारी मंत्री सह शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा ने झडोत्तोलन किया। मंत्री ने ज्ञान व मोक्ष की पावन भूमि को नमन करते हुए जिलावासियों को गणतंत्र दिवस की बधाई दी। उन्होंने वीर सपूतों व स्वतंत्रता सेनानियों खासकर जिले की महान विभूतियों और अपने प्राणों की आहुति देकर देश को आजाद कराने वाले अमर शहीदों को श्रद्धाजलि दी। उन्होंने कहा, राज्य सरकार प्रदेश के समग्र विकास के लिए समर्पित है। विधि व्यवस्था के क्षेत्र में लगातार प्रयासरत होकर जिले में अमन-शाति बनाए रखने के साथ सांप्रदायिक सौहार्द कायम किया गया है। अमन-शाति की बहाली में आम नागरिकों का सहयोग भी अपेक्षित है। पूजा, दर्शन व अपने पितरों के तर्पण के लिए गया व बोधगया में लाखों श्रद्धालु व पर्यटक प्रतिवर्ष आते हैं। गया को अंतरराष्ट्रीय पर्यटन स्थल बनाने के लिए हृदय योजना के अंतर्गत तीव्र गति से कार्य किए जा रहे हैं। बिहार अकेला राज्य है, जहां जनता की समस्या का निराकरण निर्धारित अवधि में लोक शिकायत निवारण अधिकार अधिनियम के अंतर्गत किया जा रहा है। वामपंथ, उग्रवाद व नक्सल प्रभावित क्षेत्र के लोगों को समाज की मुख्य धारा से जोड़ने और उनके सर्वागीण विकास के लिए सुदूरवर्ती ग्रामीण क्षेत्रों में लगातार प्रशासनिक-सह-स्वास्थ्य जाच शिविर का आयोजन किया गया। मंत्री ने कहा, शिक्षा की सुविधा प्रदान करने के लिए जिले में इंजीनियरिंग कॉलेज, जीएनएम कॉलेज व पॉलीटेक्निक कॉलेज खुलवाएं गए हैं। अनुमंडल स्तर पर एएनएम कॉलेज व प्रखंड स्तर पर आइटीआइ कॉलेज खुले हैं। सरकार किसानों को हरसंभव मदद कर रही है। तृतीय कृषि रोडमैप के अंतर्गत कृषि के विकास पर बिहार में कुल एक लाख 74 हजार करोड़ रुपये व्यय किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा, शहरी क्षेत्र में औसतन 24 घटे व ग्रामीण क्षेत्र में औसतन 18 से 20 घटे तक बिजली की आपूर्ति की जा रही है।

मंत्री ने नौजवानों, किसानों व समाज के सभी वर्गो के सहयोग और अपनी क्षमता पर विश्वास के बल पर एक मजबूत एवं विकसित राज्य के रूप में अपनी पहचान कायम कर सकेंगे। साथ ही अपनी अस्मिता की पहचान बना सकेंगे। उन्होंने कहा, जलवायु परिवर्तन आज की सबसे बड़ी समस्या है, समय पर वर्षा न होना, भू-जल स्तर का नीचे जाना, तापमान में अत्यधिक विचलन, वातावरण में नमी का अभाव, जन-जीवन को खासकर गया को बूरी तरह प्रभावित कर रहा है। इसके स्थाई समाधान के लिए जल-जीवन-हरियाली योजना लाई गई है। इस योजना के तहत जिले में उल्लेखनीय कार्य किए गए हैं। नए जलस्रोतों का सृजन किया जा रहा। पर्यावरण संतुलन के लिए बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण किए जा रहे हैं। मंत्री ने टिकारी के स्वतंत्रता सेनानी विष्णु नारायण सिंह को शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया।

-------

इन्हें मिला पुरस्कार

सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए एसएसबी के प्लाटून कमाडर शिवजी लाल को प्रथम पुरस्कार, सीआरपीएफ के प्लाटून कमाडर धीरेंद्र मिश्रा को द्वितीय पुरस्कार, डीएपी महिला के प्लाटून कमाडर रामजतन पासवान को तृतीय पुरस्कार प्रदान किया गया। परेड में भाग लेने वाली सभी टुकड़ियों के प्लाटून कमाडर को सांत्वना पुरस्कार दिया गया। जिनमें सेप के मुसाफिर प्रसाद, एसआरएएफ (पुरुष) के कामेश्वर प्रसाद सिंह टू, बिहार गृह रक्षा वाहिनी के वीरेंद्र सिंह, एनसीसी की रिमझिम, स्काउट गाइड (पुरुष) के गौरव कुमार, स्काउट गाइड (महिला) की सुनाली कुमारी, रामरुचि कन्या उच्च विद्यालय की बैंड पार्टी की आयुषी कुमारी शामिल हैं।

-------

झांकी में शिक्षा विभाग ने मारी बाजी

राजकीय समारोह में शिक्षा विभाग की झाकी को प्रथम स्थान, जिला ग्रामीण विकास अभिकरण को द्वितीय स्थान और स्वास्थ्य विभाग की झाकी को तीसरा स्थान प्रदान किया गया।

------

आयुक्त, आइजी, डीएम व एसएसपी ने भी फहराया तिरंगा

गणतंत्र दिवस पर मगध प्रमंडलीय कार्यालय में आयुक्त असंगबा चुबा आओ ने झंडोत्तोलन किया। मौके पर पुलिस महानिरीक्षक राकेश राठी मौजूद थे। जिला परिषद परिसर में अध्यक्ष करुणा कुमारी ने झंडोत्तोलन किया। जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने डीएम आवास व समाहरणालय, विकास भवन में डीडीसी किशोरी चौधरी ने झडोत्तोलन किया। इसके पूर्व राष्ट्रपिता महात्मा गाधी एवं लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया गया। एसएसपी राजीव मिश्रा व एसडीओ सत्येंद्र कुमार ने भी ध्वजारोहण किया।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.