आज से पॉलीथिन पर प्रतिबंध, घर से थैला लेकर निकलें

जागरण संवाददाता, गया : विश्व में गया शहर प्रदूषण में चौथे स्थान पर है, जिसके कई कारण हैं। एक प्रमुख कारण पॉलीथिन का धड़ल्ले से उपयोग करना भी है। सोमवार से शहर में पॉलीथिन पर प्रतिबंध लगा जाएगा। इसके को लेकर नगर निगम ने सभी तैयारी पूरी कर ली है। निगम ने एक पांच सदस्यीय टीम गठित की है, जो पहले पॉलीथिन से होने वाले नुकसान से दुकानदारों को अवगत कराएगी। इसके बाद भी दुकानदार नहीं माने तो उनसे जुर्माना वसूला जाएगा।

दुकानदार जयप्रकाश नारायण सिंह ने कहा कि हाईकोर्ट के आदेश का पूरा सम्मान किया जाएगा। ग्राहकों को कागज एवं गत्ते के पैकेट में सामान दिए जाएंगे। दुकानदार अनवर इमाम का कहना है कि कपड़े एवं कागज के थैले में ग्राहकों को सामान देने का पूरी तैयारी का ली गई है। फल विक्रेता मदन प्रसाद और कन्हैया प्रसाद ने कहा कि सोमवार से ग्राहकों को पॉलीथिन में फल नहीं दिया जाएगा। फल को कागज के ठोंगे में दिया जाएगा। इसके लिए ग्राहकों को पांच दिन पहले से आग्रह किया जा रहा है कि बाजार निकलें तो थैला साथ रखें।

वहीं, ग्राहक पायल कुमारी, रंजीत कुमार, ¨रतू कुमारी ने कहा कि पॉलीथिन पर प्रतिबंध सराहनीय कदम है। जब दुकानदारों द्वारा पॉलीथिन में सामान नहीं दिए जाएंगे तो लोग अपने आप थैला लेकर बाजार जाएंगे।

-----------

हर दिन शहर से निकलता

है ढाई सौ टन कचरा

प्रत्येक दिन शहर से ढाई सौ टन कचरा निकलता है। कचरे में सबसे अधिक पॉलीथिन की मात्रा रहती है। खुले क्षेत्र में डंपिंग रहने कारण कुछ माह पूर्व असामाजिक तत्वों द्वारा आग लगा दिया गया था, जिससे कई दिनों तक जहरीली धुआं निकलने से लोग काफी परेशान हुए थे। नगर निगम सहायक अभियंता सह सफाई पदाधिकारी शैलेंद्र कुमार सिन्हा ने कहा कि पॉलीथिन के इस्तेमाल में लाने के कारण शहर में दिनोंदिन गंदगी बढ़ रही है। पॉलीथिन के कारण नाले जाम हो रहे हैं। इसी कारण थोड़ी सी बारिश होने पर शहर में कई स्थानों पर जलजमाव की समस्या उत्पन्न हो जाती है। पॉलीथिन पर प्रतिबंध लगने से शहर में 80 फीसद गंदगी समाप्त हो जाएगी। शहर में सबसे अधिक पॉलीथिन का इस्तेमाल सब्जी और किराना दुकानदारों द्वारा किया जा रहा है। कूड़े के ढेर में सबसे अधिक पॉलीथिन दिखाई पड़ता है। पॉलीथिन के खाने पशुओं की मौत हो रही है।

-----------

पॉलीथिन पर प्रतिबंध लगाने के लिए नगर निगम ने तैयारी कर रखी है। टीम भी बनाई गई है। टीम के सदस्य दो दिन तक लोगों को पॉलीथिन के इस्तेमाल नहीं करने के लिए जागरूक करेंगे। उसके बाद कार्रवाई की जाएगी। पूरी तरह से शहर को पॉलीथिन मुक्त बनाएंगे।

-वीरेंद्र कुमार, मेयर

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.