गया के मगध मेडिकल में बनाए जा रहे ऑक्सीजन प्लांट, प्रतिदिन भरे जा सकेंगे 50 मेगा सिलेंडर

मगध मेडिकल अस्‍पताल में शीघ्र चालू होगा ऑक्‍सीजन प्‍लांट। फाइल फोटो

अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल अस्‍पताल के मदर एंड चाइल्ड हेल्थ भवन के पास मिनी ऑक्सीजन प्लांट बनाया जा रहा है। इससे हर रोज 50 मेगा सिलिंडर को भरा जा सकेगा। मिनी प्लांट को अगले दो सप्ताह में चालू होने के आसार हैं।

Vyas ChandraTue, 18 May 2021 10:49 AM (IST)

गया, जागरण संवाददाता। अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल अस्पताल (Anugrah Narayan Magadh Medical College) में ऑक्सीजन की उपलब्धता सुनिश्चित कराने के लिए यहां दो प्लांट का निर्माण (Construction of Two Oxygen Plant) किया जा रहा है। राज्य सरकार से अधिकृत बीएमआईसीएल (BMICL) इन दोनों प्लांट का निर्माण करेग।
एक पखवाड़ा में चालू हो जाएगा प्‍लांट 
अस्पताल के मदर एंड चाइल्ड हेल्थ भवन के पास एक प्लांट पर काम तेजी से चल रहा है। संभावना है कि अगले 13 से 15 दिनों में यह प्लांट मरीजों के लिए चालू हो जाए। इस प्लांट के चालू होने से मेडिकल अस्पताल में औसतन हर रोज 50 मेगा सिलिंडर में ऑक्सीजन भरा जा सकेगा। इससे यहां भर्ती कोविड मरीजों को तत्काल लाभ होगा। दरअसल में यह मिनी ऑक्सीजन प्लांट पिछले साल मदर एंड चाइल्ड हेल्थ वार्ड के लिए पूर्व में आवंटित किया गया था। जिसे कोविड-19 महामारी में ऑक्सीजन की बढ़ी हुई मांग को ध्यान में रखते हुए अभी ही चालू कराने का निर्देश प्राप्त हुआ है। मेडिकल अस्पताल में इस प्लांट के निर्माण पर काम शुरू हो गया है।
25 सौ पीएसए (Pressure Swing Adsorption) क्षमता का बड़ा प्लांट बनाने की भी है योजना
मगध मेडिकल में एक बड़े ऑक्सीजन प्लांट के निर्माण की भी योजना बनी है। मदर एंड चाइल्ड हेल्थ भवन के पीछे बड़ी क्षमता वाले प्लांट का निर्माण होना है। अस्पताल प्रबंधन से मिली जानकारी के मुताबिक 25 सौ पीएसए ऑक्सीजन सिलिंडर भरने की क्षमता वाले इस प्लांट को पूरी तरह से बनने में अभी थोड़ा वक्त लगेगा। तकरीबन दो से तीन माह समय लगने की संभावना है। लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि इस बड़े ऑक्सीजन प्लांट के बनने से यहां महामारी से लेकर सामान्य दिनों में पड़ने वाली ऑक्सीजन की जरूरत को यहीं से पूरा कर लिया जाएगा। मेडिकल अस्पताल में अभी हर दिन तकरीबन 200 से 250 ऑक्सीजन सिलिंडर हर राेज खपत हो रही है। मदर एंड चाइल्ड हेल्थ भवन में कोविड-19 मरीजों के लिए 100 बेड लगाए गए हैं। इन मरीजों तक पाइप लाइन के सहारे ऑक्सीजन पहुंचाई जा रही है।
मिनी प्लांट का बूस्टर आने में लग रहा वक्त, तत्काल सीधे ऑक्सीजन को भरा जाएगा
मिनी प्लांट में काम कर रहे एक कर्मी ने बताया कि ऑक्सीजन प्लांट के लिए बुस्टर एक जरूरी यंत्र होता है। इसे आने में थोड़ा वक्त लग रहा है। तब तब यहां मेगा सिलिंडर में सीधे ही ऑक्सीजन भरने का काम शुरू कर दिया जाएगा। दूसरी तरफ, 540 बेड का जो भवन बनाया जा रहा है। उनमें से 140 बेड पर पर ऑक्सीजन पाइप शीघ्र चालू होगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.