एक तो लॉकडाउन के कारण महीनेभर बंद रही दुकान, ऊपर से जल गया सारा सामान, अब कैसे चुकेगा कर्ज

गया के इस दुकानदार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा। कर्ज लेकर दुकान खोला था। मगर कोरोना ने रोजगार छीन लिया। बचा-कुचा धंधा अगलगी लेकर डूब गई। अब बैंक के लोन की वजह से परिवार का खाना पीना भी बंद है।

Prashant KumarTue, 15 Jun 2021 03:36 PM (IST)
दुकान में अग्निकांड के बाद जला हुआ समान। जागरण।

संवाद सूत्र, खिजरसराय (गया)। गया जिले के महकार थाना इलाके के जमुआवां पंचायत अंतर्गत बारा गांव में सोमवार की देर रात्रि शम्भू सिंह के किराना सह श्रृंगार स्टोर में बिजली के शॉट सर्किट से आग लग गयी। सुबह दुकान से धुआं उठते देख ग्रामीणों ने दुकान मालिक को इसकी सूचना दी।

इसके बाद दुकान खोलने पर नुकसान का पता चला। अगलगी की घटना में करीब आठ लाख रुपये का सामान जल कर राख हो गया। ग्रामीणों ने बताया कि बारा गांव के आसपास लगभग 10 गांव में होने वाले शादी समारोह एवं अन्य कार्यो में लगने वाले सामान इस दुकान में हमेशा उपलब्ध रहता था। यह दुकान करीब एक साल पहले खोली गई थी।

अगलगी की घटना से दुकान में रखे गए किराना के सभी सामान, श्रृंगार के महंगे महंगे आइटम समेत सारे सामान जल कर राख हो गया। इतनी बड़ी घटना से दुकानदार के साथ साथ स्थानीय लोगों में भी काफी मायूसी है। लोगों ने बताया कि दुकानदार ने बैंक से कर्ज लेकर बिजनेस स्टार्ट किया था। अब उसे यह चिंता भी सत्ता रही है कि बैंक का कर्ज और ब्याज कैसे चुकाएंगे।

शंभू के परिवार की माली हालत बेहद खराब है। दुकान में आग लगने की सूचना के बाद परिवार के किसी सदस्‍य ने न तो कुछ खाया है और न ही एक भी निबाला हलक से नीचे उतारा। अंदेशा है, आज रात चूल्‍हा भी नहीं जलेगा। बैंक के कर्ज ने पूरे परिवार की नींद हराम कर दी है। सरकारी मदद मिलने की उम्‍मीद भी बहुत कम है।

दुकान संचालक शम्भू सिंह ने अंचलाधिकारी के पास आवेदन देकर मुआवजे की गुहार लगाई है। अंचलाधिकारी विनोद चौधरी ने बताया कि अगलगी की घटना की जानकारी मिली है। कर्मचारी भेज कर वस्तुस्थिति की रिपोर्ट मंगाई जा रही है। रिपोर्ट मिलने के बाद प्रावधान के तहत मुआवजे के लिए सरकार को पत्राचार किया जाएगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.