Gaya: हम की विधायक पहुंचीं तो न चिकित्‍सक मिले और न कर्मचारी, कहा-पीएचसी की हालत दयनीय

बाराचट्टी की विधायक ज्‍योति देवी ने मोहनपुर प्राथमिक स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र का निरीक्षण किया। उन्‍होंने कहा कि जब वे पहुंचीं तो अस्‍पताल में न डॉक्‍टर थे और न कर्मचारी। इसकी शिकायत उन्‍होंने प्रभारी डीएम से की है। उन्‍होंने कार्रवाई का आश्‍वासन दिया है।

Vyas ChandraMon, 10 May 2021 09:53 AM (IST)
क्षेत्र भ्रमण करतीं विधायक ज्‍योति देवी। जागरण

बाराचट्टी (गया), संवाद सूत्र। एनडीए की सहयोगी पार्टी हम (HAM) की विधायक ज्योति देवी इन दिनों बाराचट्टी विधानसभा क्षेत्र का लगातार भ्रमण कर रही हैं। इस दौरान कमियों को दूर करने के लिए वे अधिकारियों के संपर्क में रहती हैं। इसी क्रम में जब उन्‍होंने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मोहनपुर का  औचक निरीक्षण किया तो वहां चिकित्सा पदाधिकारी, चिकित्सक तथा स्वास्थ्य कर्मी नहीं मिले। विधायक ने बताया कि केंद्र की हालात काफी चिंताजनक है। यहां से 15 किलोमीटर दूर बाराचटटी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र जाकर मोहनपुर के लोग कोरोना संक्रमण जांच या सरकारी स्वास्थ्य सुविधा का लाभ लेने को लाचार है।

डीडीसी से की गई शिकायत, कार्रवाई का आश्‍वासन

विधायक ने बताया कि जिला पदाधिकारी को फोन किया परंतु आज छुट्टी पर चले गए हैं। प्रभार में रहे जिला विकास आयुक्त को उक्त जानकारी दिए है। उनहोंने  कार्रवाई का आश्वासन दिया है। बाराचट्टी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का भी निरीक्षण विधायक ने किया। वहां की स्थिति पर उन्‍होंने संतोष जाहिर किया। 

बाराचट्टी में कोरोना सेंटर को लेकर विधायक की पहल तेज

विधायक ज्योति देवी ने बताया कि बाराचट्टी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी के अलावा पांच चिकित्सक पदस्थापित हैं। मोहनपुर और बाराचटटी प्रखंड बिहार झारखंड सीमा क्षेत्र पर स्थित है। इस इलाके के गांव जीटी रोड से अंदर सुदूरवर्ती जंगलों पहाड़ों में बसे हैं। जिसकी दूरी जिला मुख्यालय से लगभग सौ किलोमीटर से अधिक पड़ती है। कोरोना कि इस महामारी में कोरोना संक्रमित लोग गया पहुंचते-पहुंचते काफी गंभीर हो जाते हैं। ऐसी स्थिति में बाराचटटी में ही कोरोना सेंटर बने इसके लिए मैंने जिला पदाधिकारी से बात की हैै।विधायक ने कहा कि बाराचट्टी में कोरोना संक्रमित आठ लोगों की मौत हुई हैं। यह अत्यंत ही दुखद है। आपदा राहत कोष से मृतकों के स्वजनों को चार-चार लाख दिए जाएंगे। विधायक ने कहा कि मौत की भरपाई करना तो संभव नहीं है। लेकिन सहायता राशि से पीड़ि‍त परिवार को मरहम लगाने का काम किया जाएगा।  

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.