कोरोना के नए वैरिएंट ओमीक्रान को लेकर कैमूर प्रशासन अलर्ट, वैक्सीनेशन और टेस्टिंग पर दिया जा रहा जोर

ओमीक्रान के खतरे से पूरे विश्व डरा हुआ है। कोरोना वायरस के इस नए वैरिएंट से बचाव के लिए विभाग ने टीकाकरण के साथ आरटीपीसीआर जांच की गति को भी तेज कर दिया है। साथ ही बाहर से आने वालों पर खास नजर रखी जा रही है।

Rahul KumarWed, 01 Dec 2021 12:24 PM (IST)
ओमीक्रान को लेकर कैमूर प्रशासन अलर्ट। सांकेतिक तस्वीर

कैमूर, जागरण संवाददाता। कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमीक्रान के आने के अंदेशे ने फिर से एक बार स्वास्थ्य विभाग की नींद उड़ा दी है। शादी ब्याह और उत्सवों में भीड़ को देखते हुए विभाग ने भी अपनी तैयारियां तेज कर दी हैं। जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डा. रवीद्र चौधरी ने बताया कि नए वैरिएंट के प्रसार पर प्रभावी नियंत्रण के लिए जिले में तीन अलग अलग स्थलों पर आक्सीनज प्लांट भभुआ, मोहनिया एवं रामगढ़ और विशेष कोरोना वार्ड लगभग बन कर तैयार हैं। इसके अलावा सदर अस्पताल और मोहनियां अनुमंडलीय अस्पताल में आइसीयू भी तैयार किया गया है। 

टेस्टिंग पर दिया जा रहा है जोर

कोरोना वायरस के इस नए वैरिएंट से बचाव के लिए विभाग ने टीकाकरण के साथ आरटीपीसीआर जांच की गति को भी तेज कर दिया है। इसके मद्देनजर रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड सहित अन्य महत्वपूर्ण सार्वजनिक स्थलों पर जांच संबंधी विशेष मुहिम का संचालन किया जा रहा है। चूंकि इस नए वैरिएंट के बारे में ज्यादा कुछ नहीं जाना जा सका है और एंटीजन टेस्ट के माध्यम से पता लगाना मुश्किल है, इसलिए फिलहाल समुदाय को कोविड सुरक्षा मानकों का सख्ती से अमल करने की सलाह दी जा रही है। मास्क का नियमित उपयोग, भीड़ वाले स्थानों पर जाने से परहेज, हाथों की नियमित सफाई व खांसते व छींकते समय मुंह को ढक के रखने के साथ साथ बिना किसी देरी के अपना पूर्ण टीकाकरण सुनिश्चित कराकर संक्रमण की आशंका को कम किया जा सकता है। 

प्रवासियों पर भी विशेष नजर 

स्वास्थ्य विभाग नए ओमिक्रोन वेरिएंट से बचाव  के मद्देनजर जिले के बाहर से आने वाले लोगों की मानिटरिंग और जांच को लेकर भी सतर्कता बरत रही है। सभी पीएचसी प्रभारियों को भी इस संदर्भ में निर्देश दिया गया है।

दूसरी डोज के बिना अधूरा है सुरक्षा चक्र  

 जिन लोगों का टीकाकरण अभी भी अधूरा है, उन्हें संक्रमण के किसी भी लहर से संक्रमित होने की आशंका भी अधिक है। जारी साक्ष्यों ने प्रमाणित किया है कि पूर्ण टीकाकृत व्यक्ति के संक्रमित होने की संभावना कम है। इसलिए टीकारकण की महत्ता को नकारा नहीं जा सकता है। लोगों को बेवजह पूर्ण टीकाकरण में किसी तरह की देरी नहीं करनी चाहिए। यह आपके पूरे समुदाय को संक्रमण के खिलाफ एक सुरक्षात्मक कवच मुहैया कराता है। उन्होंने बताया कि फिलहाल जिला स्वास्थ्य विभाग ने अपनी संपूर्ण कोविड टीकाकरण लक्ष्य में  8 लाख 36 हजार 91 लाभुकों  को उनका पहला डोज और 3 लाख 74 हजार 440 दूसरे डोज के लिए योग्य लाभुकों को टीकाकृत कर दिया है। अभी भी संपूर्ण टीकाकरण लक्ष्य को प्राप्त कर नए वारिएंट के खिलाफ कवच तैयार करना बाकी है। गौरतलब है की कैमूर जिले का संपूर्ण कोविड टीकाकरण लक्ष्य 11 लाख है। 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.