Jiutiya Special : औरंगाबाद की सांस्कृतिक पहचान है दाउदनगर की जिउतिया, आज स्त्रियां करेंगी सामूहिक रूप से पूजा

लोकयान के सभी तत्वों की प्रतिनिधि संस्कृति औरंगाबाद के दाउदनगर की जिउतिया लोकोत्सव को माना जाता है क्योंकि यहां इस पर्व का एक अलग ही रूप देखने को मिलता है। यहां यह नौ दिनों तक चलने वाला लोकोत्सव है। इसमें लोक-साहित्य लोक-व्यवहार लोक-कला और लोक-विज्ञान की प्रचुरता एकसाथ दिखती है।

Prashant Kumar PandeyTue, 28 Sep 2021 04:38 PM (IST)
बिहार के औरंगाबाद में जिउतिया पर्व अत्यंत अनोखे तरीके से मनाया जाता है

उपेंद्र कश्यप, दाउदनगर (औरंगाबाद) :  यूं तो जिउतिया या जीवित्पुत्रिका व्रत पूरे हिन्दी पट्टी क्षेत्र में मनाया जाता है। किंतु बिहार के दाउदनगर में इसका अलग स्वरूप और अंदाज है। यहां यह नौ दिवसीय लोकोत्सव है, जो न्यूनतम वर्ष 1860 से आयोजित हो रहा है। यह अकेला ऐसा पर्व है जो लोक संस्कृति की संपूर्ण अभिव्यक्ति के लिए बने शब्द “फोकलोट” (इसे लोकायन या लोकयान भी कहते हैं) के सभी चार तत्वों की एक साथ प्रचुरता में प्रस्तुति देखने का अवसर हर वर्ष आश्विन कृष्ण पक्ष में उपलब्ध कराता है। यह पर्व आश्विन कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को होता है। इस बार यह व्रत 29 सितंबर दिन बुधवार को है।  

लोक और संस्कृति की व्यापक अभिव्यक्ति

लोक और संस्कृति की व्यापक अभिव्यक्ति के लिए एक शब्द है- लोकायन या लोकयान या फोकलोट। नृतत्वशास्त्री ‘लोकयान’ के अंतर्गत चार खंड बताते हैं। लोक-साहित्य, लोक-व्यवहार, लोक-कला या कलात्मक लोकयान, और चौथा लोक-विज्ञान व औद्योगिकी है। जिउतिया लोक संस्कृति में इन चारों की उपस्थिति प्रचुरता के साथ है। ऐसा बिहार की अन्य संस्कृतियों के साथ नहीं है।

लोक साहित्य की झलक

अपना मौलिक, समृद्ध व मौखिक (कुछ लिखित) लोक साहित्य है। इसमें लोक जीवन का दुख दर्द, हर्ष उल्लास का अनुभव तथा जीवन पर वैचारिक प्रतिक्रियाएं मिलती हैं। पर्व-त्योहारों, देवी-देवताओं तथा प्रकृति के विविध रूपों का चित्र मिलता है। साहित्य वाचन परंपरा में झुमर, लावनी, मुहावरे या वीरता के गीत के रूप में जीवित है। चकड़दम्मा, झूमर में विविधता, रंगीनीयत और मधुरता होती है। सरस गीत हैं, जिसमें स्थानीय इतिहास, भूगोल और विशेषताओं को भी पर्याप्त जगह मिली है।

लोक व्यवहार का संगम

लोक-व्यवहार न तो साहित्य है न ही कला, इसमें विश्वास, प्रथा, अन्धविश्वास, कर्मकांड, लोकोत्सव, परिपाटी शामिल है। यहां का समाज इससे गहरे जुड़ाव रखता है। जिउतिया से जिउ के समान जुड़े जमात में यह कुट-कुट कर भरा हुआ है।

लोक कला की प्रदर्शनी

लोक-कला या कलात्मक लोकयान में लोक नृत्य, लोक-नाट्य, लोक-नटन, लोक चित्र, लोक- दस्तकारी, लोक वेषभूषा व लोक-अलंकरण शामिल हैं। यहाँ की मिट्टी के कण-कण में कला है तो हर शख्स कलाकार। उर्वरता इतनी कि भर जिउतिया समारोह सब कलाकार बन जाते हैं। ये अप्रशिक्षित लोक कलाकार मंझे हुए प्रशिक्षित व प्रोफेशनल कलाकारों को चुनौती देते दिखते हैं। बच्चे ही कलाकार, निर्देशक, पटकथा लेखक, स्त्री-पुरुष पात्र सब वही हैं।

लोक विज्ञान से समाज कल्याण

चौथा और अंतिम समावेश लोक-विज्ञान व औद्योगिकी का है, जिसमें लोकोपचार, लोकौषधियां, लोक नुस्खे, लोक भोजन खाद्य, लोक कृषि रुढियां, जादू टोने शामिल हैं। यहां जब लोक कलाकार अपनी खतरनाक प्रस्तुति देते हैं तो उसमें नुस्खे और लोकौषधियों की उपयोगिता होती है। शरीर में चाकू-छूरी घुसाना हो या फिर दममदाड, डाकिनी, ब्रह्म, काली, गर्म लौह पिंड या दहकते जंजीर को दूहने की प्रस्तुति।

1860 से पहले किन्तु, कब से यह परंपरा:- 

कसेरा टोली चौक पर प्रस्तुत होने वाले एक लोक गीत की पंक्ति है- आश्विन अंधरिया दूज रहे, संवत 1917 के साल रे जिउतिया, जिउतिया जे रोपे ले, हरिचरण, तुलसी, दमड़ी, जुगुल, रंगलाल रे जिउतिया, अरे धन भाग रे जिउतिया। तोहरा अहले जिउरा नेहाल, जे अहले मन हुलसइले, नौ दिन कइले बेहाल... । इससे यह स्पष्ट होता है कि हरिचरण, तुलसी, दमड़ी, जुगुल और रंगलाल ने इसका प्रारंभ संवत 1917 अर्थात 1860 ई.सन में किया था। क्या ऐसे किसी लोक संस्कृति का जन्म होता है? शायद नहीं! इस जाति विशेष के पूर्वज भी मानते हैं कि- इमली तल होने वाले जिउतिया लोकोत्सव का नकल किया गया था। इसी कारण इस उत्सव में ‘नकल’ (अर्थात देख कर उसकी नकल करना) खूब होता है। हालांकि इमली तल कब से हो रहा था, इसका कोइ प्रमाण लोक गीत में भी नहीं मिलता। 

आज स्त्रियां करेंगी सामूहिक रूप से पूजा

करीब 60 हजार आबादी वाले नगर निकाय दाउदनगर में जीमूतवाहन भगवान के चार चौक बने हुए हैं और यहीं सार्वजनिक और सामूहिक रूप से स्त्रियां व्रत करती हैं। व्रत कथा सुनतीं हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.