भभुआ में 42 हेक्टेयर भूमि में हो रही विभिन्न फलों की बागवानी, 105 ने किया ऑनलाइन आवेदन, जानें कितनी मिल रही सब्सिडी

सरकार उद्यान विभाग के माध्यम से विभिन्न फलों की बागवानी करने के लिए 50 प्रतिशत अनुदान दे रही है। किसानों की रुचि अब परंपरागत खेती से हटकर औषधी फलों व अन्य खेती के प्रति बढ़ रहा है। उद्यान विभाग किसानों को प्रशिक्षित भी कर रहा है।

Prashant Kumar PandeyPublish:Sun, 05 Dec 2021 03:44 PM (IST) Updated:Sun, 05 Dec 2021 03:44 PM (IST)
भभुआ में 42 हेक्टेयर भूमि में हो रही विभिन्न फलों की बागवानी, 105 ने किया ऑनलाइन आवेदन, जानें कितनी मिल रही सब्सिडी
भभुआ में 42 हेक्टेयर भूमि में हो रही विभिन्न फलों की बागवानी, 105 ने किया ऑनलाइन आवेदन, जानें कितनी मिल रही सब्सिडी

 भभुआ: जिले के किसानों को जल जीवन हरियाली योजना के तहत सरकार उद्यान विभाग के माध्यम से विभिन्न फलों की बागवानी करने के लिए 50 प्रतिशत अनुदान दे रही है। जिले के किसानों की रुचि अब परंपरागत खेती से हटकर औषधी फलों व अन्य खेती के प्रति बढ़ रहा है। उद्यान विभाग जिले के किसानों को विभिन्न प्रकार की खेती करने के वैज्ञानिक तरीके को सिखाने के लिए राज्य और राज्य के बाहर भेज कर प्रशिक्षित भी कर रहा है।

केला, आम, अमरूद पपीता की खेती कर आर्थिक रूप से मजबूत हो रहे किसान

विभाग से मिली जानकारी के अनुसार निजी भूमि पर बागवानी करने वाले किसानों को पौधा लगाने के लिए अनुदान भी दिया जाता है। जिले के किसान मुख्यमंत्री बागवानी मिशन के तहत केला, आम, अमरूद पपीता की खेती कर आर्थिक रूप से मजबूत हो रहे हैं। योजना के तहत फलदार पौधे लगाने पर लागत राशि का 50 प्रतिशत अनुदान किसानों को विभाग द्वारा उपलब्ध कराया जाता है। इस संबंध में उद्यान की सहायक निदेशक तबस्सुम परवीन ने बताया कि उद्यान विभाग द्वारा संचालित कल्याणकारी योजनाओं का लाभ किसानों को दिया जा रहा है। योजनाओं की जागरूकता को लेकर किसानों को समय-समय पर प्रेरित भी किया जाता है। 

बागवानी करने को लेकर 105 किसानों ने दिया आवेदन

मुख्यमंत्री बागवानी मिशन के अंतर्गत 2021-22 में कैमूर जिले के कई प्रखंड क्षेत्रों के किसानों के लिए 42 हेक्टेयर खेती करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। निर्धारित लक्ष्य के अनुसार किसान आम अमरूद केला पपीता की खेती करेंगे। बागवानी करने को लेकर 105 किसानों ने आवेदन दिया है। प्राप्त आवेदन के अनुरूप भौतिक लक्ष्य के सापेक्ष किसानों को पौधे भी उपलब्ध करा दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि आम अमरूद, पपीता, केला की बागवानी को लेकर 30,230 पौधे भी उपलब्ध करा दिए गए हैं। योजना का लाभ लेने के लिए किसानों को आनलाइन आवेदन करना होगा। सूक्ष्म बागवानी योजना के अंतर्गत एकीकृत उद्यान विकास योजना 2020-21 में अनार, नींबू , मीठा संतरा का भी लक्ष्य निर्धारित किया गया है।