गया डीएम ने पिंडदानियों से की यह अपील, कहा- कोविड संक्रमित मिले तो हर हाल में 10 दिन रहना होगा आइसोलेट

20 सितंबर से पितृपक्ष मेला की शुरुआत के पहले गया डीएम ने पिंडदानियों से यहां ना आने की अपील की। कहा- कोई श्रद्धालु आ जाए तो और संक्रमित मिले तो हर हाल में 10 दिन आइसोलेट करें। होटल धर्मशाला गेस्ट हाउस में कोविड जांच में बाधा पर प्राथमिकी दर्ज करें।

Sumita JaiswalTue, 14 Sep 2021 08:46 AM (IST)
गया डीएम बैठक में अधिकारियों को पिंडदानियों से संबंधित निर्देश देते हुए, सांकेतिक तस्‍वीर ।

गया, जागरण संवाददाता। जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने सिविल सर्जन व डीपीएम को कोविड जांच में तेजी लाने का निर्देश दिया है। सोमवार को कलेक्ट्रेट में साप्ताहिक समीक्षा बैठक के दौरान कहा कि जिला एवं राज्य के बाहर से आने वाले सभी यात्रियों का शत प्रतिशत कोविड जांच करवाई जाए। पितृ-तर्पण करने आए श्रद्धालुओं एवं अन्य व्यक्तियों की कोविड जांच के लिए विष्णुपद मंदिर परिसर में विशेष जांच कैम्प एवं मोबाइल वैन के माध्यम से जांच करवाना सुनिश्चित करें। जिला प्रशासन, गया द्वारा पितृपक्ष मेला का आयोजन एवं इससे संबंधित व्यवस्था नहीं की गई है। किसी होटल, धर्मशाला, गेस्ट हाउस में ठहरे यदि किसी व्यक्ति के द्वारा कोरोना जांच में बाधा उत्पन्न किया जाता है तो संबंधित व्यक्ति के विरुद्ध आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज की जाएगी।

नहीं होगा पितृपक्ष मेला, डीएम ने की न आने की अपील

20 सितंबर से सात अक्टूबर तक पितृपक्ष है। इसके पहले गया में माहौल  पितृपक्ष जैसा दिखने लगा है। औसतन 100 पिंडदान हर रोज हो रहे हैं। इसे देखते हुए डीएम ने सोमवार को यह भी स्पष्ट किया है कि गयाजी में इस बार भी कोविड-19 के कारण पितृपक्ष मेले का आयोजन नहीं होगा। जो श्रद्धालु पिंडदान करने आएंगे, उन्हें कर्मकांड करने से रोका नहीं जाएगा। हालांकि कोरोना की तीसरी लहर की संभावना को देखते हुए जिलाधिकारी ने अनुरोध किया कि लोग अभी गयाजी आकर भीड़ नहीं लगाएं। जो लोग गयाजी आएं, वे कोरोना गाइडलाइन का पालन जरूर करें।

ड्यूटी से अनुपस्थित रेडियोलाजी चिकित्सक पर कसेगी नकेल

 मगध मेडिकल अस्पताल के अधीक्षक डा. प्रदीप अग्रवाल ने  कहा कि अस्पताल में रेडियोलाजिस्ट के पद पर दो चिकित्सकों डा. सुभाष कुमार ङ्क्षसह व डा. मधुरेन्द्र पांडेय द्वारा 18 एवं 19 अगस्त 2021 को योगदान दिया गया है। लेकिन चिकित्सक मधुरेन्द्र पांडेय बिना किसी सूचना के अस्पताल से योगदान करने के बाद से अनुपस्थित हैं। वहीं डा. सुभाष कुमार ङ्क्षसह योगदान करने के बाद से छुट्टी का आवदेन देकर अनुपस्थित हैं। जिलाधिकारी ने इसे गंभीरता से लिया। अधीक्षक को स्पष्ट निर्देश दिया कि दोनों चिकित्सकों से स्पष्टीकरण पूछना सुनिश्चित करें। अगले तीन दिनों के अंदर यदि दोनों चिकित्सक अपने कर्तव्य पर वापस नहीं लौटते हैं तो उनके विरुद्ध कार्रवाई करना सुनिश्चित करें। अनुपस्थित अवधि का वेतन संबंधित चिकित्सकों को नहीं देना है। अधीक्षक ने बताया कि वायरल बुखार से संबंधित मरीज भर्ती हैं। जिलाधिकारी ने निदेश दिया कि सभी भर्ती मरीजों की आरटीपीसीआर जांच करवाएं।

जल जीवन हरियाली में 65.27 अंकों के साथ गया पहले नंबर पर

जासं, गया: उप विकास आयुक्त ने बताया कि गया जिला जल जीवन हरियाली अभियान में 65.27 अंक प्राप्त कर प्रथम स्थान हासिल किया है। बताया गया कि सार्वजनिक जल संचयन संरचनाओं यथा तालाब/पोखर/आहर/पईन का जीर्णोद्धार के लिए 5 एकड़ से अधिक की संख्या 27 है। लघु जल संसाधन विभाग द्वारा 14 जल संचयन संरचनाओं का कार्य प्रारंभ किया गया है। जिनमें 13 का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। शेष में कार्य प्रक्रियाधीन है। छोटी छोटी नदियां/नालों एवं पहाड़ी क्षेत्रों के जल संग्रहण क्षेत्रों में चेक डैम एवं जल संचयन के अन्य संरचनाओं का निर्माण के लिए पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग द्वारा पूरे जिले में 51 संरचनाओं का कार्य प्रारंभ किया गया है। जिनमें से शत प्रतिशत 51 संरचनाओं का कार्य पूर्ण कर लिया गया है।

बैठक में नगर आयुक्त, उप विकास आयुक्त, अपर समाहर्ता, सहायक समाहर्ता, सिविल सर्जन, जिला भूअर्जन पदाधिकारी, अधीक्षक एवं प्राचार्य व दूसरे अधिकारी उपस्थित थे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.