कैमूर में तीनों नदियां उफनाई, बाढ़ के पानी से घिरे आधा दर्जन गांव

कैमूर। जिले में हल्की बारिश के बाद नदियों के उफान पर हो जाने से असरेशा नक्षत्र में ही बाढ़ का खतरा उत्पन्न हो गया। प्रखंड क्षेत्र में पड़ने वाली तीनों नदियां दुर्गावती कर्मनाशा व कुदरा के एकाएक उफान पर हो जाने से कई गांवों का मुख्य सड़क से संपर्क कट गया है।

JagranTue, 03 Aug 2021 04:48 PM (IST)
कैमूर में तीनों नदियां उफनाई, बाढ़ के पानी से घिरे आधा दर्जन गांव

कैमूर: जिले में हल्की बारिश के बाद अचानक नदियों के उफान पर हो जाने से असरेशा नक्षत्र में ही बाढ़ का खतरा उत्पन्न हो गया। प्रखंड क्षेत्र में पड़ने वाली तीनों नदियां दुर्गावती, कर्मनाशा व कुदरा के एकाएक उफान पर हो जाने से कई गांवों का मुख्य सड़क से संपर्क कट गया है। इसके अलावा खेतों में लगी धान की फसल व धान के पौधे लगाने के लिए बचे बिचड़े, सब्जी व भदई फसल पूरी तरह से डूब गई है। हल्की बारिश के चलते नदियों में पानी आने से किसानों को भारी क्षति होने की बात बताई जा रही है। पनसेरवां, बरहियां, बियां, सदुल्लहपुर, कान्हीं, आंटडीह व नरहन बाढ़ के पानी से घिर गया है। बाढ़ की भयावहता के कारण इन जगहों का मुख्य सड़क से संपर्क भंग हो गया है। बरहियां में लोग नाव से आ-जा रहे हैं। जबकि सदुल्लहपुर गांव के लोग धनवतियां, सरयां होते हुए काफी दूरी तय कर रामगढ़ पहुंच रहे हैं। गोड़सरा दुर्गावती नदी में पुल से दक्षिण पानी के दबाव से सड़क के बह जाने से बियां सराय, कुल्हड़ियां आदि गांवों के लोगों का रामगढ़ प्रखंड मुख्यालय से संपर्क कट गया है। इन जगहों पर खेतों में लगी धान की फसल भी डूब गई है। पूर्व प्रमुख संजय सिंह ने बताया कि इसरी गांव में अकेले हमारा दो सौ बीघा से अधिक धान की फसल डूब गई है। जबकि दैतरा बाबा स्थान के समीप रामगढ़ व अंसी मौजा में सौ एकड़ खेत में लगी सब्जी की फसल डूब कर नष्ट हो गई है। भदई फसल भी इस बाढ़ की भेंट चढ़ गई है। मवेशियों के लिए चारा के रूप में बाजरा, मक्का भी बाढ़ की भेंट चढ़ गई। इससे पशुओं को भी चारा की आफत हो गई है। दो प्रदेशों को जोड़ने वाला रामगढ़ बड़ौरा दिलदारनगर पथ पर यूपी की सीमा में बाढ़ का पानी सड़क पर आने से इस मुख्य मार्ग में सभी तरह के आवागमन ठप हो गए हैं।

वहीं बक्सर मोहनियां पथ पर अंसी के दैतरा बाबा स्थान के समीप छलका पर एक फीट पानी बाढ़ का चल रहा है। लबेदहां लबेदहीं व जमुरना भी बाढ़ के पानी से घिर गया है। इस संबंध में सीओ कुमारी अर्चना ने बताया कि बाढ़ से घिरे गांवों का दो दिन से दौरा किया जा रहा है। बाढ़ का पानी घट रहा है। प्रशासन के स्तर से बाढ़ प्रभावित जगहों पर निपटने के लिए नाविक की व्यवस्था की जा रही है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.