खलिहान में गेहूं रखकर पैक्स मेंखरीदारी शुरू होने का इंतजार कर रहे किसान

खलिहान में गेहूं रखकर पैक्स मेंखरीदारी शुरू होने का इंतजार कर रहे किसान

कैमूर के चांद प्रखंड क्षेत्र के किसान अपने गेहूं की फसल की कटनी लगभग करा चुके हैं।

JagranSun, 18 Apr 2021 04:51 PM (IST)

गया। कैमूर के चांद प्रखंड क्षेत्र के किसान अपने गेहूं की फसल की कटनी लगभग करा चुके हैं। किसान गेहूं को खलिहान में रख कर पैक्स में खरीदारी शुरू होने का इंतजार कर रहे हैं। सरकार की घोषणा के अनुसार 20 अप्रैल 15 जुलाई तक गेहूं की खरीद की जाएगी। 20 अप्रैल आने में महज कुछ ही दिन बचे हुए हैं। पैक्स में गेहूं खरीद की कोई हलचल नहीं होने से किसान निराश हैं।

जिला सहकारिता पदाधिकारी रामाश्रय राम की बात से किसानों में निराशा है। जिसमें उन्होंने कोरोना से गेहूं खरीद प्रभावित होने की बात कही थी। किसान डीएम नवदीप शुक्ला के आश्वासन पर गेहूं खलिहान में रखकर पैक्स के द्वारा खरीद का इंतजार कर रहे हैं। मौसम खराब होने या बूंदाबांदी होने से किसान फसल खराब होने से डर जाते हैं। शादी का मौसम होने से एवं कोरोना काल में किसानों को पैसे की आवश्यकता है। अधिकतर किसान मजबूरी में औने पौने दाम पर गेहूं बेच दे रहे हैं। किसानों को प्रति क्विंटल 350 रुपये नुकसान उठाना पड़ रहा है। किसानों की समस्या से किसान मजदूर संघर्ष समिति कैमूर ने डीएम को लिखित पत्र देकर अवगत कराया।

डीएम ने आश्वासन दिया कि सरकार की घोषणा के अनुसार 20 अप्रैल से गेहूं की खरीद शुरू कर दी जाएगी। गेहूं खरीद के लिए पैक्स क्रैश क्रेडिट के लिए प्रस्ताव भेजा जा चुका है। अधिकारियों के द्वारा आश्वासन से किसानों को उम्मीद है की गेहूं समर्थन मूल्य का लाभ मिलेगा। वहीं पैक्स अध्यक्षों के द्वारा गेहूं खरीद की बात की जाती है तो साफ पल्ला झाड़ लेते हैं।

पाढी पैक्स अध्यक्ष कुमार गौरव ने कहा कि गोदाम में धान भरा हुआ है। जगह नहीं है कि गेहूं की खरीद की जाए। यही बात चांद पैक्स अध्यक्ष धनन्जय सिंह ने भी कही। गेंहू खरीद पर किसान मजदूर संघर्ष समिति चांद के समन्वयक अर्जुन सिंह ने सख्त लहजे में चेतावनी दी की पैक्स के द्वारा गेहूं की खरीद नहीं की जाएगी तो समिति अनिश्चितकालीन धरना पर बैठेगी। राधे सिंह, राजीव सिंह, श्याम विहारी कुशवाहा, रामचंद्र सिंह, संजय कुमार सिंह आदि ने बताया कि पैक्स अध्यक्ष जिला सहकारिता पदाधिकारी से मिलकर समय समाप्त करने की रणनीति पर काम कर रहे हैं।

किसानों ने बताया कि किसानों के द्वारा गेहूं बेच दिया जाएगा तब पैक्स के द्वारा गेहूं की खरीद कागज पर कर अच्छा मुनाफा कमाया जाएगा।

इस संबंध में जिला सहकारिता पदाधिकारी रामाश्रय राम ने भी संतोषजनक जवाब नहीं दिया और गेहूं खरीद पर फिलहाल पल्ला झाड़ लिया।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.