भभुआ में कोरोना से मरे 133 मृतकों के आश्रितों के घाव पर लगा मरहम, पांच करोड़ 98 लाख की मिली सहायता

कोरोना के प्रथम चरण में जिले के 13 लोगों की मौत हुई थी। उसके बाद मुख्यमंत्री राहत कोष से सभी को चार लाख की दर से 52 लाख रूपये दिए गए। वहीं दूसरे चरण में कुल 133 की मौत हुई। इसके लिए कुल पांच करोड़ 32 लाख दिए गए।

Prashant Kumar PandeyThu, 02 Dec 2021 03:58 PM (IST)
भभुआ में कोरोना से मरे 133 लोगों के आश्रितों को मिली सहायता राशि

 संवाद सहयोगी, भभुआ: जिले में कोरोना की इंट्री 2020 के अप्रैल माह में हुई। उसके बाद से कोरोना के लगातार मरीज मिलते रहे। फिलहाल बीते कुछ माह से कोरोना के मरीज नहीं मिल रहे हैं। कोरोना के प्रथम चरण में जिले के 13 लोगों की मौत हुई थी। उसके बाद मुख्यमंत्री राहत कोष से सभी को चार लाख रूपये की दर से आश्रितों को 52 लाख रूपये उपलब्ध कराए गए। वहीं दूसरे चरण में कोरोना वायरस का प्रकोप काफी तेज रहा। जिसमें कुल 133 लोगों की मौत हुई। चार लाख रूपये की दर से सभी मृतकाें के आश्रितों को मुख्यमंत्री राहत कोष से कुल पांच करोड़ 32 लाख रुपये उपलब्ध कराए गए। अब केंद्र सरकार के हस्तक्षेप के बाद राज्य आपदा रिस्पांस कोष की मद से 132 मृतकों के आश्रितों को 50 हजार रुपये की दर से पुन: भुगतान किया गया है। एक को 50 हजार रुपये का आवंटन प्राप्त नहीं है।

डीबीटी के माध्यम से ट्रांसफर कर दी गई राशि 

आवंटन प्राप्त होने के बाद राशि उनके आश्रित के खाता में उपलब्ध कराई जाएगी। एक को छोड़ शेष 132 मृतकों के आश्रिताें के खाता में यह राशि डीबीटी के माध्यम से ट्रांसफर कर दी गई है। सूत्रों की मानें तो अब तक कैमूर जिले में कोरोना से मरने वालों की संख्या 156 बताई जा रही है। जबकि कोरोना से मरने वालों के बारे में आवेदन अब तक कुल 219 प्राप्त हुए है। 133 को अनुग्रह राशि का भुगतान हो चुका है। 

प्रखंड - दूसरे चरण में मृतकों की संख्या 

रामपुर- 10 

चांद - 4 

अधौरा - 2 

मोहनियां - 21 

भगवानपुर - 11 

कुदरा - 17 

भभुआ- 38 

रामगढ़ - 11 

चैनपुर - 8 

दुर्गावती - 6 

नुआंव - 4

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.