रक्षाबंधन पर बहनों के लिए सिटी बस सेवा रही फ्री

गया बिहार राज्य पथ परिवहन निगम की ओर से गया शहर में रक्षाबंधन के मौके पर बहनों के लिए सिटी बस सेवा फ्री कर दी गई है। गया जंक्शन से मगध मेडिकल कॉलेज तक में कहीं भी बहनें इन बसों में चढ़कर अपने भाइयों को राखी बांधने के लिए जा सकती हैं।

JagranPublish:Sun, 22 Aug 2021 11:10 PM (IST) Updated:Sun, 22 Aug 2021 11:10 PM (IST)
रक्षाबंधन पर बहनों के लिए सिटी बस सेवा रही फ्री
रक्षाबंधन पर बहनों के लिए सिटी बस सेवा रही फ्री

गया : बिहार राज्य पथ परिवहन निगम की ओर से गया शहर में रक्षाबंधन के मौके पर बहनों के लिए सिटी बस सेवा फ्री कर दी गई है। गया जंक्शन से मगध मेडिकल कॉलेज तक में कहीं भी बहनें इन बसों में चढ़कर अपने भाइयों को राखी बांधने के लिए जा सकती हैं। उन्हें आज किसी भी तरह का किराया नहीं देना पड़ेगा। रक्षाबंधन के अवसर पर इस कार्यक्रम का शुभारंभ नगर विधायक प्रेम कुमार ने किया।सरकारी बस डिपो में आयोजित कार्यक्रम में फीता काटकर उन्होंने इस कार्यक्रम का शुभारंभ किया। रक्षाबंधन के इस पावन अवसर पर बस को आकर्षक ढंग से सजाया गया। नगर विधायक ने समस्त जिले वासियों को त्योहार की शुभकामनाएं दी। उन्होंने आज सिटी बस सर्विस में महिलाओं के लिए फ्री सेवा की सराहना की। इससे पहले बिहार राज्य पथ परिवहन निगम गया के क्षेत्रीय प्रबंधक अशोक कुमार सिंह ने नगर विधायक का बुके देकर स्वागत किया । आज पूरे दिन सिटी बस सर्विस गया में महिलाओं के लिए फ्री की गई है।

---

भाई-बहन के स्नेह का पर्व रक्षाबंधन पर हर तरफ खुशी का माहौल -रक्षाबंधन का त्यौहार शहर समेत गांव कस्बों में पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है। आज के दिन सभी बहनें अपने भाइयों की कलाई पर राखी बांधकर उनके स्वस्थ जीवन और उनकी सफलता की कामना कर रहीं हैं। भाई- बहन के स्नेह का यह पर्व हर जगह उल्लास और खुशी लिए हुए है। छोटे, बड़े, बुजुर्ग सभी खुश नजर आ रहे हैं। घरों में रौनक देखते बन रही है।

रक्षाबंधन पर 4 हजार बहनों ने फ्री सिटी बस सर्विस का लिया लाभ :

बिहार राज्य पथ परिवहन निगम की ओर से गया शहर में रक्षाबंधन के मौके पर बहनों के लिए सिटी बस सेवा फ्री की गई थी। गया जंक्शन से मगध मेडिकल कॉलेज तक में कहीं भी बहनें इन बसों में चढ़कर अपने भाइयों को राखी बांधने के गयीं। किसी भी तरह का किराया नहीं देना पड़ा। करीब 4 हजार बहनों ने मुफ्त सेवा का लाभ लिया।