नवादा में शराब के साथ जब्त बोलेरो हुई दुर्घटनाग्रस्त तो रजौली थानाध्‍यक्ष की खुली पोल, वीडियो हो रहा वायरल

पुलिस गश्त में उपयोग किया जा रहे बोलेरो के दुर्घटनाग्रस्त होने का वीडियो वायरल हो रहा है। दरअसल यह बोलेरो एक शराब मामले में जब्‍त किया गया था। वाहन मालिक ने आरोप लगाया है कि रजौली थानाध्यक्ष जब्त वाहन का नंबर प्लेट हटाकर अवैध रूप से उपयोग कर रहे

Sumita JaiswalSun, 01 Aug 2021 10:48 AM (IST)
वाहन मालिक ने वरीय पुलिस पदाधिकारियों से न्‍याय की गुहार लगाई, सांकेतिक तस्‍वीर।

रजौली (नवादा), संवाद सूत्र।  थाना क्षेत्र में एनएच31 पर पुलिस गश्त में उपयोग किया जा रहा बोलेरो गाड़ी के दुर्घटनाग्रस्त होने का वीडियो धड़ल्ले से इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो रहा है। दरअसल, यह बोलेरो एक शराब मामले में जब्‍त किया गया था। वायरल वीडियो में बोलेरो पंडित लाइन होटल के सामने एक गैरेज में बनवाता देखा जा रहा है। इससे पुलिस के कार्यशैली पर सवाल उठ रहा है। सूत्रों के अनुसार जब्त बोलेरो से गश्त कर रही पुलिस द्वारा ट्रक को रोकने के क्रम में टक्कर मारा गया था। बोलेरो में रहे निजी वाहन चालक गम्भीर रूप से जख्मी बताया जा रहा है। इस घटना की जानकारी मिलते ही वाहन मालिक ने वरीय पदाधिकारियों को लिखित आवेदन देकर न्याय की गुहार लगाई है।

क्या है मामला

चार अगस्त 2020 को रात्रि लगभग साढ़े आठ बजे समेकित जांच चौकी से रजौली थाने में पदस्थापित एसआइ संजय कुमार सिन्हा द्वारा जांच के दौरान झारखंड से आ रहे बोलेरो संख्या JH02AZ7123 में रहे विदेशी शराब के साथ वाहन मालिक अजित यादव सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया था। उस समय तत्कालीन थानाध्यक्ष सुजय कुमार विद्यार्थी थे। वाहन को बिहार मद्यनिषेध एवं उत्पाद अधिनियम के तहत जब्त वाहन एवं गिरफ्तार तीनों लोगों पर कांड संख्या 287/20 में प्राथमिकी दर्ज की गई थी।

वाहन मालिक का आरोप

वाहन मालिक अजित यादव का पुलिस पर आरोप है कि रजौली थानाध्यक्ष द्वारा जब्त वाहन बोलेरो का नंबर प्लेट हटाकर अवैध रूप से लगातार उपयोग किया जा रहा था। जबकि मामला उच्च न्यायालय में विचाराधीन है। जून 10 को उच्च न्यायालय पटना के दोहरी बेंच में रहे मुख्य न्यायाधीश संजय करोल एवं न्यायाधीश एस कुमार द्वारा बोलेरो संख्या जेएच02ए जेड7123 को रिलीज करने का आदेश दे दिया गया था। इसी बीच थाने में जब्त बोलेरो के दुर्घटनाग्रस्त होने की खबर 30 जुलाई को मिली। सूचना मिलने पर रजौली थाने पहुंचा। थानाध्यक्ष सह इंस्पेक्टर दरबारी चौधरी से बोलेरो के बारे में जानकारी लेनी चाही। तो उन्होंने गलती स्वीकार करते हुए गाड़ी के दुर्घटनाग्रस्त होने की बात बताई। साथ ही गाड़ी के मरम्मत कर वापस देने की बात कही। क्षतिग्रस्त बोलेरो के बन जाने के बाद मेरे संतुष्ट नहीं होने पर शो रूम में बनाने की बात कही। वाहन मालिक ने बताया कि इससे पूर्व रहे सभी थानाध्यक्षों द्वारा अपने पद का गलत इस्तेमाल किया गया। जब्त वाहन का उपयोग किया जाता रहा है। परिणामत: 6 माह का नया बोलेरो पुलिस के वजह से कबाड़ा बन गया।

वरीय पदाधिकारियों से लगाई न्याय की गुहार

शनिवार को नावदा डीएम यशपाल मीणा एवं एसपी धुरत सायली सावलाराम को वाहन मालिक ने लिखित आवेदन देकर दुर्घटनाग्रस्त हुए वाहन को लेकर न्याय की गुहार लगाई है। आवेदन के साथ उच्च न्यायालय के आदेश भी सलंग्न की गई है। इधर, थानाध्यक्ष इस मामले में कुछ भी बोलने से परहेज कर रहे हैं।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.