गया में बालू के अवैध खनन पर बडी कारवाई, बड़ी मात्रा में बालू जप्‍त, 23 के खिलाफ एफआइआर

गया जिले के टिकारी थाना क्षेत्र में प्रवाहित नदियों से बालू का अवैध कारोबार रुकने का नाम नही ले रहा है। पुलिस की सक्रियता और कार्रवाई पर बालू माफिया का सिंडिकेट भारी पड़ रहा है। खनन विभाग ने 72 लाख 20 हजार रुपया राजस्व की क्षति का अनुमान लगाया है।

Sumita JaiswalSun, 25 Jul 2021 08:40 AM (IST)
गया जिले के टिकारी थाना क्षेत्र में जप्‍त बालू के साथ पुलिसकर्मी, जागरण फोटो।

टिकारी(गया), संवाद सहयोगी। गया जिले के टिकारी थाना क्षेत्र में प्रवाहित नदियों से बालू का अवैध कारोबार रुकने का नाम नही ले रहा है। पुलिस की सक्रियता और कार्रवाई पर बालू माफिया का सिंडिकेट भारी पड़ रहा है। पूर्व की करवाई को छोड़ दें तो पिछले एक सप्ताह में टिकारी और बेलागंज सीमा क्षेत्र में अवैध बालू के खनन और भंडारण के विरुद्ध पुलिस ने दो बड़ी कार्रवाई करते हुए 150 हजार घन फुट भंडारित बालू पकड़ा गया है। इस कारोबार में संलिप्त 23 लोगों के विरुद्ध टिकारी थाने में एफआईआर दर्ज किया गया है। खनन विभाग ने 72 लाख 20 हजार रुपया राजस्व की क्षति का अनुमान लगाया है।

दो दिन पूर्व अलीपुर थाना क्षेत्र में बालू के अवैध धंधे से जुड़े दस लोगों पर नामजद् प्राथमिकी दर्ज करायी गई है। बालू चोरी से सरकार को लाखों रुपये का नुकसान हुआ है। बालू के अवैध खनन को लेकर खान एवं भूतत्व विभाग के साथ कई थानों की पुलिस ने हसनपुर में छापेमारी की। नदी के पास 90 हजार घन फुट बालू छुपा कर रखा पाया गया था। बालू के अवैध खनन, परिवहन और भंडारण के मामले में 10 नामजद लोगों समेत कई अन्य आज्ञात लोगों पर प्राथमिकी दर्ज करायी गई है। खान निरीक्षक ने केस दर्ज कराया है। केस के अनुसार बालू खनन के इस कृत्य को बिहार खनिज (समानुदान अवैध खनन, परिवहन एवं भंडारण निवारण) नियमावली, 2019 का स्पष्ट उल्लंघन है। जो दंडनीय अपराध है। इससे सरकार को 40 लाख रुपये से अधिक की क्षति हुई है।

इसी प्रकार एक सप्ताह पूर्व बालू के अवैध खनन को लेकर खान एवं भूतत्व विभाग ने कई थानों की पुलिस के साथ हरणा में की गई छापेमारी की करबाई में 13 लोगों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज की गई है। छापेमारी के दौरान बुढ़ नदी के पास दो स्थानों पर करीब 60 हजार घन फुट बालू डम्प पाया गया था। पुलिस ने बालू के अवैध खनन, परिवहन और भंडारण के आरोप में 13 लोगों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज दर्ज करते हुए सभी को नामजद अभियुक्त बनाया गया है। खान निरीक्षक सत्येंद्र प्रसाद सिंह के लिखित प्रतिवेदन पर टिकारी थाना में केस दर्ज किया गया है। दर्ज प्राथमिकी के अनुसार बालू खनन के इस कृत्य को बिहार खनिज (समानुदान अवैध खनन, परिवहन एवं भंडारण निवारण) नियमावली, 2019 का स्पष्ट उल्लंघन है।बालू अवैध भंडारण के कारण सरकार को 32 लाख बीस हजार रुपये की राजस्व क्षति की बात कही गई है।अवैध खननकर्ता, बालू भंडारित जमीन के मालिक और अन्य के विरुद्ध बिहार खनिज नियमावली 2019 और पर्यावरण संरक्षण अधिनियम के तहत प्राथमिकी करायी गई है। उक्त दोनों दर्ज प्राथमिकी में बालू के शामिल सभी लोगों को नामजद अभियुक्त बनाया गया है।

टिकारी थानाध्यक्ष राहुल रंजन ने बताया कि बालू के अवैध खनन और भंडारण के विरुद्ध लगातार छापेमारी की करबाई जारी है। कई हाइवा, ट्रक, जेसीबी और ट्रैक्टर जप्त किए जा चुके हैं। अवैध बालू के रैकेट में शामिल लोगों को चिन्हित कर उनके विरुद्ध करबाई की जा रही है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.