समाज में पीड़ित व्यक्ति की आवाज थे बाबा आंबेडकर: सांसद

समाज में पीड़ित व्यक्ति की आवाज थे बाबा आंबेडकर: सांसद

जासं गया संविधान निर्माता डॉ. भीमराव आंबेडकर की 130वीं जयंती बुधवार को जिला जदयू कार्यालय में हर्षाेल्लास पूर्वक मनाई गई।

JagranWed, 14 Apr 2021 05:34 PM (IST)

जासं, गया: संविधान निर्माता डॉ. भीमराव आंबेडकर की 130वीं जयंती बुधवार को जिला जदयू कार्यालय में हर्षाेल्लास पूर्वक मनाई गई। इस अवसर पर कार्यालय के कर्पूरी सभागार में समारोह का आयोजन किया गया। जहां मुख्य अतिथि जनता दल यू गया संसदीय क्षेत्र के सांसद विजय कुमार ने बाबा साहब के तैलीय चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें नमन किया गया। उन्होंने कहा कि बाबा साहेब आंबेडकर एक व्यक्ति नहीं बल्कि वे संकल्प का दूसरा नाम थे।

समाज में दबे-कुचले हर पीड़ित लोगों की आवाज थे। उनको भारत की सीमा में बांधना सही नहीं है। उनको विश्व के रूप में देखना चाहिए। जिला अध्यक्ष द्वारिका प्रसाद ने चित्र पर पुष्प अर्पित करके कहा कि भीमराव आंबेडकर के बेटे की मृत्यु हुई। उन्हें उसी दिन जरूरी मीटिग के लिए लंदन जाना था। मृत्यु की खबर से अंदर में वह टूट गए। लेकिन उन्होंने अपने आंसू रोककर परिवार से कहा कि मैं लंदन जाऊंगा। यदि मैं वहां नहीं गया तो मेरे देश के लाखों लोगों के अधिकारों की हत्या कर दी जाएगी। मैं अपने एक बेटे के लिए लाखों बेटों को नहीं मार सकता। जदयू नेता बृजराज पांडेय ने कहा कि आंबेडकर ने आजाद भारत को एक महान संविधान दिया। जयंति समारोह में पुष्पांजलि अर्पित करने वाले नेताओं में श्रीकांत प्रसाद, अजय कुमार सिंह, अरविद चरण प्रियदर्शी, मो. शाहजाद शाह,अरुण कुमार राव, अवध बिहारी पटेल, नरेश प्रसाद, विनोद यादव ,बबन चन्दवंशी, अखिलेंद्र कुमार, शिवनाथ कुमार निराला, गोपाल प्रसाद ,बिरजू प्रजापत, मसीद आलम आदि नेताओं ने बाबा साहब के चित्र पर पुष्प अर्पित किया।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.