लोक आस्था के महापर्व छठ पूजा पर को ले दिखा हर तरफ उत्साह

मोतिहारी । लोक आस्था का चार दिवसीय महापर्व गुरुवार को उदयीमान सूर्य को अ‌र्घ्य के साथ संपन्न हो गया।

JagranThu, 11 Nov 2021 11:35 PM (IST)
लोक आस्था के महापर्व छठ पूजा पर को ले दिखा हर तरफ उत्साह

मोतिहारी । लोक आस्था का चार दिवसीय महापर्व गुरुवार को उदयीमान सूर्य को अ‌र्घ्य के साथ संपन्न हो गया। व्रत को ले व्रतियों ने 36 घंटे का निर्जल उपवास रख भगवान भास्कर को अ‌र्घ्य दिया। छठ पूजा के दौरान शहर के किसी भी घाट से अनहोनी की सूचना नहीं है। व्रतियों के साथ उनके परिवार के सदस्यों ने भी छठ घाट पर छठी मईया की पूजा-अर्चना की। पूजा को ले कई व्रती गाजे-बाजे के बीच तो कोई दंड देते घाट पहुंचे। कई घाटों पर व्रती घंटों पानी में खड़े होकर भगवान भास्कर की आराधना करते दिखे। आस्था का महाकुंभ शहर के सभी छोटे बड़े घाटों पर देखा गया। घाटों पर बुधवार की संध्या अ‌र्घ्य के बाद व्रतियों ने मनोकामना पूर्ण होने के साथ कोशी भरी। साथ ही उदयीमान सूर्य को अ‌र्घ्य के पूर्व भी छठ घाटों पर व्रतियों के परिजनों ने कोशी भरा। इसके उपरांत व्रतियों ने उदयीमान सूर्य की पूजा अर्चना के बाद अ‌र्घ्य दिया, जिसके बाद चार दिवसीय छठ पूजा का अनुष्ठान संपन्न हो गया। शहर के रोईंग क्लब, कदम घाट, मलंग घाट, वृक्षेस्थान, गायत्री मंदिर घाट, रधुनाथपुर छठ घाट, गोपालपुर छठ घाट, मजुराहां, राजाबाजार, आजाद नगर, चांदमारी दुर्गा मंदिर, ब्रह्मस्थान, एमएस कॉलेज मैदान, बंजरिया, चैलाहा, चीनी मिल, बरियारपुर, अटल उद्यान पार्क, शहीद प्रकाश उद्यान, जानपुल, हनुमानगढ़ी, मनरेगा पार्क, मोतीझील, चिकनी आदि छठ घाटों पर हजारों की संख्या में लोग छठ पूजा को लेकर उपस्थित दिखे। शहर के मिस्कॉट स्थित कदम घाट पर पूजा समिति के स्वयं सेवक लोगों का सहयोग करते दिखे। शहर में रोईंग क्लब छठ घाट को सजाने व संवारने की जिम्मेवारी वेडिग प्लान को दी गई थी। वही वृक्षेस्थान, कदम घाट व मंगल घाट घाटो के शादी एस डॉट कॉम के संचालक सुमित कुमार द्वारा नीजि कोष से किया गया। वे बीते 12 वर्षो ने लगातार इन घाटों पर लाइटिग के सजाने व संवारने का काम करते आ रहे है। इस बार यहां छठ पूजा को लेकर सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जहां कई जाने माने कलाकारों ने छठ गीतों की प्रस्तुती दी गई। इन घाटों पर मेला जैसा आयोजन दिखा। वहीं हनुमानगढ़ी छठ घाट पर भी हजारों की संख्या में छठ व्रतियों ने भागवान भास्कर को अ‌र्घ्य दिया।

कोशी से जगमग रहे छठ घाट संध्याकालीन अ‌र्घ्य के बाद मंगल कार्य व मनोकामना पूर्ण होने पर व्रतियों ने घर के आंगन में कोशी भरा। वहीं उदयीमान सूर्य को अ‌र्घ्य के पूर्व भी छठ घाटों पर कोशी भरी गई। घाटों पर कोशी भरने के लिए व्रतियों के परिजनों का पहुंचना रात के करीब दो बजे से शुरू हो गया। यह क्रम करीब चार बजे तक चलता रहा। इसके बाद उदयीमान सूर्य को अ‌र्घ्य देने के लिए व्रती घाटों पर पहुंचने लगी। जिन घाटों पर 20 से 25 की संख्या में कोशी भरी जा रही थी वहां के मनोरम ²श्य देखने लायक थे।

शांति व्यवस्था को गश्त लगाते रहे अधिकारी छठ घाटों पर जिला प्रशासन द्वारा पूर्व में ही दंडाधिकारियों के साथ पुलिस बल की तैनाती कर रखी थी। साथ ही जिन घाटों पर भीड़ का अनुमान था, वहां नियंत्रण कक्ष स्थाई रूप से बनाया गया था। इसके बावजूद अधिकारी स्वयं सुरक्षा व्यवस्था का जायजा देर रात तक लेते दिखे। यह मुस्तैदी सुबह में भी देखने को मिली। जहां पुलिस अधिकारी वाहनों से गश्त लगाते दिखे तो घाटों पर तैनात जवान भी सुरक्षा को लेकर कमर कस मिले।

बच्चों में दिखा उत्साह, घाटों की हुई वीडियोग्राफी छठ घाटों पर सबसे अधिक उत्साहित बच्चे दिखे। नए परिधान में बच्चे पूजा अर्चना के बाद पटाखा फोड़ काफी खुश हो रहे थे। बच्चों के साथ सुरक्षा को लेकर उनके परिजन भी उनके साथ उनका उत्साहव‌र्द्धन करते देखे गए। कई जगहों पर युवाओं ने पटाखा फोड़ने की जिम्मेदारी ले रखी थी। वहीं प्रशासन ने सुरक्षा के मद्देनजर भीड़भाड़ वाले करीब दर्जन भर घाटों पर वीडियोग्राफी के लिए कर्मियों को तैनात कर रखा था, जो सुबह में भी काफी मुस्तैद दिखे। घाट पर कैमरे की आंख से मनचलों व उपद्रवियों पर पैनी नजर रखना प्रशासन का मुख्य उद्देश्य था।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.