तड़के अहिरौली धाम से उठे और पहुंच गए नारदेश्वर आश्रम

बक्सर सिद्धाश्रम में भगवान श्रीराम की यात्रा की स्मृति में आयोजित वार्षिक आध्यात्मिक आयोजन पंचकोसी

JagranThu, 25 Nov 2021 09:42 PM (IST)
तड़के अहिरौली धाम से उठे और पहुंच गए नारदेश्वर आश्रम

बक्सर : सिद्धाश्रम में भगवान श्रीराम की यात्रा की स्मृति में आयोजित वार्षिक आध्यात्मिक आयोजन पंचकोसी परिक्रमा गुरुवार की तड़के अहिरौली द्वार से उठकर दूसरा पड़ाव नदांव के नारदेश्वर आश्रम पहुंचा। नदांव में मौजूद नारदेश्वर महादेव की विधिवत पूजा अर्चना के बाद साधु-संतों के साथ श्रद्धालुओं ने नारद सरोवर की परिक्रमा की और प्रसाद के रूप में स्वादिष्ट खिचड़ी खाई। पूरे दिन मेला स्थल पर भजन-कीर्तन होता रहा और भक्तजनों ने वहीं टेंट में रात गुजारी।

इससे पूर्व अहिल्या स्थान अहिरौली में रात्रि विश्राम के बाद गुरुवार की तड़के पंचकोस यात्रा नदांव के लिए रवाना हुआ। जहां पहुंचने के बाद श्रद्धालुओं व साधु-संतों ने नारद सरोवर में स्नान किया। इसके बाद वहां स्थित मंदिर में जाकर नारदेश्वर शिव का दर्शन-पूजन किए और खिचड़ी बनाकर खुद खाए तथा सगे-सम्बन्धियों को भी खिलाए। इस दौरान सिद्धाश्रम व्याघ्रसर (बक्सर) पंचकोसी परिक्रमा समिति की ओर से खिचड़ी प्रसाद का वितरण किया गया। देर शाम वहां प्रवचन का भी आयोजन हुआ। जिसमें संत-विद्वानों ने पंचकोस के महत्व का उल्लेख करते हुए दूसरे विश्राम स्थल नारदेश्वर आश्रम के पौराणिक महत्ता की चर्चा की। कार्यक्रम का नेतृत्व कर रहे बसांव पीठाधीश्वर आचार्य अच्युत प्रपन्नाचार्य जी महाराज ने बताया कि त्रेतायुग में भगवान श्रीराम अपने अनुज लक्ष्मण के साथ महर्षि विश्वामित्र के निर्देश पर देवर्षि नारद से आशीर्वाद लेने के लिए नदांव स्थित उनके आश्रम पर पहुंचे थे। जहां देवर्षि ने खिचड़ी खिलाकर उनकी आव-भगत की थी। उसी परंपरा के अनुसार यहां खिचड़ी खाने के बाद रात्रि विश्राम किया जाता है। इस दौरान सइसड़ मठ के प्रभारी उद्धव प्रपन्नाचार्य जी महाराज, स्वामी सुदर्शनाचार्य जी महाराज, स्वामी कुलशेखराचार्य जी महाराज, डा. छविनाथ त्रिपाठी, कृष्णानंद शास्त्री, जगदीश द्विवेदी आदि प्रवक्ताओं ने पंचकोस के महत्व व नारदेश्वर आश्रम की पौराणिक महत्ता पर विस्तृत रूप से व्याख्यान दिए। मेला में समिति के कोषाध्यक्ष रोहतास गोयल, सुरेश राय, बबन सिंह, मनोज जी, पंडित दीनानाथ आदि समाजसेवियों व स्थानीय मुखिया प्रतिनिधि पिकू चौहान काफी सक्रिय दिखे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.