top menutop menutop menu

गणित के बाद हिन्दी में दूसरे की जगह परीक्षा देते मुन्नाभाई पकड़ाया

बक्सर : मैट्रिक परीक्षा में भले ही सुरक्षा के लाख दावे किए गए हों, लेकिन परीक्षार्थियों के भी हिम्मत की दाद देनी होगी। परीक्षा में कदाचार करना तो दूर अपनी जगह पर दूसरे परीक्षार्थी को बैठाकर इन परीक्षार्थियों ने तो पूरी व्यवस्था को ही चैलेंज कर दिया है। सदर अनुमंडल पदाधिकारी कृष्ण कुमार उपाध्याय ने बताया कि छद्म परीक्षार्थी को गिरफ्तार कर लिया गया है लेकिन सवाल खड़ा हो रहा है कि क्या यही आखिरी छद्म परीक्षार्थी है या और हैं। एसडीओ ने बताया कि परीक्षा के पांचवें दिन फाउंडेशन स्कूल परीक्षा केन्द्र से मातृभाषा के अंतर्गत हिन्दी की परीक्षा देते परीक्षा की दूसरी पाली में एक मुन्नाभाई को पकड़ा गया। जिले के नावानगर थाना अंतर्गत चकौड़ा निवासी आकाश कुमार पिता वृजनंदन कुमार सिंह की जगह पर भोजपुर के उदवंतनगर निवासी रवीन्द्र सिंह का पुत्र मनु कुमार परीक्षा दे रहा था। केन्द्राधीक्षक धीरज कुमार ने छद्म परीक्षार्थी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने के लिए मुफस्सिल थाना में आवेदन दिया है। गणित की परीक्षा में पकड़ा गया था चंदन जिस तरह हिन्दी की परीक्षा में दूसरे की जगह परीक्षा देते एक मुन्नाभाई को गिरफ्तार किया गया। ठीक इसी तरह परीक्षा के दूसरे दिन गणित के इम्तहान में भी चंदन कुमार पिता अरुण कुमार यादव को मुकेश कुमार पिता सुरेश सिंह की जगह पर परीक्षा देते पकड़ा गया था। जिसके बाद परीक्षा सेंटर पर हड़कंप मच गया था। अब तक हत्थे चढ़े दो छद्म परीक्षार्थी अब तक दो छद्म परीक्षार्थियों को प्रशासन ने पकड़ा है। ध्यान देने वाली बात है कि ये दोनों परीक्षार्थी एक ही परीक्षा सेंटर फाउंडेशन स्कूल परीक्षा केन्द्र से पकड़े गए हैं। उल्लेखनीय यह कि अपने स्थान पर दूसरे परीक्षार्थी को बैठाने वाले ये दोनों परीक्षार्थी नावानगर के चकौड़ा के रहने वाले हैं। इससे प्रमाणित होता है कि नावानगर के चकौड़ा के परीक्षार्थियों ने परीक्षा में जबरदस्त सेटिग की है। इनसेट., पांचवें दिन 595 ने छोड़ी परीक्षा, कोई निष्कासन नहीं - आज द्वितीय भारतीय भाषा की होगी परीक्षा, 24 को ऐच्छिक विषय के साथ होगा समापन जागरण संवाददाता, बक्सर : जिले के विभिन्न 29 परीक्षा केन्द्रों पर संचालित मैट्रिक की परीक्षा पांचवें दिन शुक्रवार को भी शांतिपूर्ण संपन्न हो गई। हालांकि, इस दौरान एक मुन्नाभाई को जरूर गिरफ्तार किया गया लेकिन, किसी परीक्षार्थी को कदाचार के आरोप में निष्कासन का सामना नहीं करना पड़ा। जिला कार्यक्रम पदाधिकारी राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा राजेन्द्र प्रसाद चौधरी ने बताया कि पांचवें दिन की परीक्षा शांतिपूर्ण संपन्न हो गई। इस दौरान कहीं से किसी प्रकार की अप्रिय घटना की सूचना है। जाहिर हो, पांचवें दिन मातृभाषा के अंतर्गत हिन्दी, बंगला एवं मैथिली विषय का इम्तहान लिया गया। अधिकारी ने बताया कि इस दिन दोनों पालियों में आयोजित परीक्षा में कुल 595 परीक्षार्थियों ने परीक्षा छोड़ दी। पहली पाली में 15 हजार 336 परीक्षार्थियों को परीक्षा देनी थी। हालांकि, इस पाली में 15 हजार 042 परीक्षार्थी ही उपस्थित हुए। इस तरह 294 परीक्षार्थी परीक्षा से गैरहाजिर रहे। वहीं, दूसरी पाली में 15 हजार 717 परीक्षार्थी परीक्षा में उपस्थित हुए। जबकि, इस पाली में 301 परीक्षार्थी अनुपस्थित रहे। दूसरी पाली में 16 हजार 018 परीक्षार्थियों को परीक्षा देनी थी। इस तरह दोनों पालियों में कुल 31 हजार 354 परीक्षार्थियों को परीक्षा देनी थी। परन्तु, कुल 30 हजार 759 परीक्षार्थी ही इसमें उपस्थित हो पाए। इसके तहत छठे दिन शनिवार को द्वितीय भारतीय भाषा की परीक्षा ली जाएगी। जबकि, 24 फरवरी सोमवार को ऐच्छिक विषय की परीक्षा के साथ इसका समापन हो जाएगा।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.