top menutop menutop menu

जलजमाव की समस्या से नहीं मिली निजात

आरा। विगत 24 घंटे से शहर में बारिश नहीं हुई है लेकिन शहर के विभिन्न प्रमुख सड़कों पर जलजमाव से लोगों को निजात नहीं मिली। शहर के कई सड़कों पर जलजमाव की समस्या लंबे समय से राहगीरों के लिए सिरदर्द बनी है। स्थानीय पकड़ी-गैस एजेंसी रोड अंर्तगत उर्दू प्राथमिक विद्यालय के समक्ष, चंदवा मोड़, हाऊसिग कालोनी मोड़ से चंदवा, बाजार समिति रोड, धोबीघटवा, बिहारी मिल, गोढ़ना, पितंबरा माई मंदिर रोड, सदर अस्पताल रोड और अबरपुल पड़ाव आदि जगहों पर जलजमाव की समस्या से लोगों को निजात नहीं मिल रही। महापौर रुबी तिवारी बताती है कि बिहारी मिल और चंदवा मोड़ की देखरेख की जिम्मेदारी राष्ट्रीय उच्च मार्ग के अधीन है। उनके विभागीय अधिकारी को जानकारी दी गई है। गोढ़ना रोड का मामला टेंडर प्रक्रिया में है। अन्य जगहों पर यथोचित कार्रवाई चल रही है। इस बीच जलजमाव की समस्या के खिलाफ विरोध आंदोलन सड़कों पर होने लगा। आज स्थानीय धोबीघटवा मोड़ जनअधिकार पार्टी की जिला इकाई द्वारा धान की रोपनी कर विरोध जताया गया। वहीं नगर व्यवसायी मंच ने आगामी 8 जुलाई को सड़क-जाम कर विरोध जताने की सूचना जिला प्रशासन को दी है। इधर जलजमाव से परेशान लोगों ने भी कुछ प्रतिक्रिया दी है।

-----

फोटो फाइल

05 आरा 57

----

कहते है कतिरा मुहल्ला निवासी बिकटेश कुमार:

जलजमाव से कई प्रमुख सड़कों पर पैदल चलना मुश्किल हो गया है। शहर के अंदर आवागमन का मुख्यमार्ग बिहारी मिल, धोबीघटवा मोड़ और चंदवा मोड़ की हालत जानलेवा हो चुकी है। दो-ढाई फुट से अधिक गढ्ढे से वाहनों के गुजरने के दौरान दुघर्टनाओं की आशंका प्रबल हो गई है। नगर निगम और जिला प्रशासन लोगों की परेशानी समझ नहीं रहीं।

------

फोटो फाइल

05 आरा 56

-----

बताते है पकड़ी मुहल्ला के दवा व्यवसायी अशोक सिंह

शहर की कई सड़कों पर जलजमाव का सबसे बड़ा कारण बड़े नाले की उड़ाही में कोताही है। जलजमाव की समस्या लंबे समय से आवागमन को बाधित कर रही है। जिसकी जानकारी नगर निगम और प्रशासन को है। जिले के आला अधिकारियों को भी लगभग प्रतिदिन जलजमाव से होकर गुजरना पड़ रहा है लेकिन आमलोगों के दर्द को नजरअंदाज किया जा रहा है।

------

फोटो फाइल

05 आरा 59

---

बोलते है नवादा थाना चौक निवासी सेवानिवृत प्रधान सहायक त्रिवेणी राय:

जिला मुख्यालय स्थित प्रमुख सड़कों पर जलजमाव की समस्या लंबे समय से बरकरार है। यह सवाल नगर निगम और जिला प्रशासन के लिए चुनौतीपूर्ण है। सड़क की जिम्मेदारी किसी भी विभाग के पास के है लेकिन साफ-सफाई की जिम्मेदारी से नगर निगम की बनती है। जिसमें नगर निगम प्रशासन बुरी तरह फेल साबित हो रही है।

-----

फोटो फाइल

05 आरा 58

-----

कहते हैं राजेन्द्रनगर निवासी अधिवक्ता विनोद सिंह:

शहर में जलजमाव की समस्या दुर्भाग्यपूर्ण है। नगर निगम प्रशासन की शहर में गली-सड़क की साफ-सफाई की जिम्मेदारी सर्वविदित है। आखिर सड़कों पर जलजमाव क्यों है। नगरवासियों से नियमित टैक्स की वसूली किस काम के लिए की जाती है। नगर निगम प्रशासन की नाकामी साफ झलक रही है। इस सवाल को लेकर विरोध होना चाहिए।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.