जार्ज पंचम की प्रार्थना को ले बना था होली सेवियर चर्च

भोजपुर । शहर के प्रमुख चर्चो में से एक है जार्ज पंचम का चर्च। स्थानीय वीर कुंवर सिंह मैदान क

Publish:Thu, 24 Dec 2015 10:49 PM (IST) Updated:Thu, 24 Dec 2015 10:49 PM (IST)
जार्ज पंचम की प्रार्थना को ले बना था होली सेवियर चर्च
जार्ज पंचम की प्रार्थना को ले बना था होली सेवियर चर्च

भोजपुर । शहर के प्रमुख चर्चो में से एक है जार्ज पंचम का चर्च। स्थानीय वीर कुंवर सिंह मैदान के पश्चिमी-दक्षिणी हिस्सा और सदर अनुमंडलाधिकारी के आवास के बीच में अवस्थित है एक प्राचीन चर्च, ऐतिहासिक दृष्टिकोण से यह बहुत ही महत्वपूर्ण है। यह अपनी विशिष्ट बनावट और मजबूती के कारण लोगों को आकर्षित करता है। यह कभी जार्ज पंचम के प्रेयर के लिए निर्माण कराया गया था। वर्तमान समय में आर्थिक संकट के कारण इसकी स्थिति अच्छी नहीं है।

कहा जाता है कि वर्तमान अश्वरोही सैन्य पुलिस मुख्यालय के पास पहले ब्रिटिश अश्वारोही फौज का कैंप था। ब्रिटिश हुकूमत में सन् 1911 में भारत की राजधानी कोलकात्ता से दिल्ली बनी। इंगलैड के सम्राट जार्ज पंचम को कोलकात्ता से दिल्ली जाने के क्रम में आरा में एक रविवार पड़ता था। इस रविवार के मद्देनजर बहुत ही धार्मिक प्रवृति के जार्ज पंचम के प्रेयर के लिए इस चर्च का निर्माण कराया गया था। प्रेयर के दिन आरा रेलवे स्टेशन से चर्च तक रेड कारपेट बिछाया गया था। जार्ज पंचम के बाद इस चर्च में फौजी प्रेयर करते थे। आजादी के पूर्व इसमें एक लाइब्रेरी थी, जिसमें अधिकांश धार्मिक पुस्तकों के अलावे अन्य पुस्तकें थीं। आजादी के बाद अंग्रेज फौजियों के यहां से जाने के बाद चर्च आफ नार्थ इंडिया, भागलपुर के अधीन यह चर्च आ गया। बाद में चर्च आफ नार्थ इंडिया, भागलपुर ने इस चर्च को मेथोडिस्ट चर्च को सौंप दिया। बताया जाता है कि चर्च में पुलपीट(प्रार्थना वेदी) के पीछे के हिस्से में बहुत ही आकर्षक रंगीन शीशे लगे थे, जिस पर जीसस की तस्वीर बनी थी। इस शीशे से जब सूर्य की रौशनी चर्च में आती थी तो बहुत सुन्दर लगता था। साथ ही पादरी के बैठने के लिए एक बहुत ही सुन्दर कुर्सी भी थी। ये सारी चीजें चोरी हो गयी। इस चर्च में समय-समय पर कई संस्थाएं संचालित हुई हैं।