वीकेएसयू में एक अगस्त से शुरू होगा स्नातक में दाखिला, अभ्यर्थियों को नहीं जाना पड़ेगा कॉलेज

वीकेएसयू में एक अगस्त से शुरू होगा स्नातक में दाखिला, अभ्यर्थियों को नहीं जाना पड़ेगा कॉलेज

वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय में स्नातक पार्ट वन सत्र 2020-23 में एक अगस्त से ऑनलाइन दाखिला शुरू होगा। आगामी 31 जुलाई को प्रथम मेधा सूची जारी की जाएगी।

Publish Date:Thu, 16 Jul 2020 11:26 PM (IST) Author: Jagran

भोजपुर । वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय में स्नातक पार्ट वन सत्र 2020-23 में एक अगस्त से ऑनलाइन दाखिला शुरू होगा। आगामी 31 जुलाई को प्रथम मेधा सूची जारी की जाएगी। नामांकन शुल्क का भुगतान अभ्यर्थियों को कॉलेजों के पेमेंट गेटवे पर करना होगा, जो विवि की वेबसाइट पर उपलब्ध रहेगा। विवि के विभिन्न 18 अंगीभूत और 39 संबद्धता प्राप्त कॉलेजों में दाखिला दिया जाएगा। इसका निर्णय विवि में नामांकन समिति की वीडियो कांफ्रेंसिग की बैठक में लिया गया। इसकी अध्यक्षता कुलपति प्रो देवी प्रसाद तिवारी ने की। इसमें छात्र कल्याण अध्यक्ष डॉ. केके सिंह के अलावा सभी अंगीभूत और दो दर्जन से अधिक संबद्धता प्राप्त कॉलेजों के प्राचार्य शामिल हुए। बैठक के बाद डॉ. के के सिंह ने बताया कि कोरोना महामारी का मौजूदा दौर लंबा चलेगा। असाधारण काल में असाधारण तरीके से ही नामांकन लिया जा सकता है। इसलिए विवि प्रशासन ने कोरोना काल में नामांकन एक अगस्त से शुरू करने का निश्चय किया है। कोरोना महामारी और आवागमन में परेशानी को लेकर छात्र-छात्राओं को ऑनलाइन नामांकन की सुविधा दी गई है। छात्र घर बैठे अपने स्मार्ट मोबाइल से ऑनलाइन नामांकन ले सकते हैं। उन्हें नामांकन लेने वाल कॉलेज में जाने की आवश्यकता नहीं है। ऑनलाइन नामांकन औपबंधिक होगा। जब हालात सामान्य होंगे तो नामांकित छात्र-छात्राओं को अपने कॉलेज में जाकर डाक्यूमेंट्स का सत्यापन करना होगा। सत्यापन करने के बाद ही नामांकित छात्र-छात्राओं को पंजीयन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि नामांकन की प्रक्रिया पहले भी शुरू की जा सकती थी, लेकिन सीबीएसई का रिजल्ट के इंतजार में विलंब हुआ। बता दें विगत 14 जुलाई को सीबीएसई रिजल्ट जारी हो गया और उन्हें 20 जुलाई तक नामांकन के लिए ऑनलाइन आवेदन करने का समय दिया गया है। विवि के विभिन्न संकायों में करीब 70 छात्र-छात्राओं का नामांकन देना है।

-------------

भरे गए मा‌र्क्स के आधार पर जारी होगी मेधा सूची

स्नातक पार्ट वन में विभिन्न संकायों में नामांकन ऑनलाइन आवेदन में भरे गए मा‌र्क्स के आधार पर ही दिया जाएगा। अभ्यर्थियों द्वारा भरे गए ऑनलाइन आवेदन के आधार पर मेधा सूची जारी की जाएगी। यह नामांकन तब तक अधूरा माना जाएगा। सामान्य हालात होने पर संबंधित कॉलेज छात्र-छात्राओं के मूल डक्यूमेंट्स की जांच करके सत्यापन करके सत्यापन करेंगे। इसके बाद उसका नामांकन सही माना जाएगा।

--------

कॉलेजों को पेमेंट गेटवे जमा करना है 23 तक

स्नातक पार्ट वन में ऑनलाइन नामांकन के लिए विवि के सभी कॉलेजों में शुल्क भुगतान के लिए पेमेंट गेटवे बनाना है। पेमेंट गेटवे यानी उस कॉलेज के बैंक का नाम और उसका खाता नंबर होता है। इसे कॉलेज प्रबंधन आगामी 23 जुलाई तक विवि प्रशासन को ऑनलाइन उपलब्ध करा देंगे। छात्र कल्याण अध्यक्ष डॉ. सिंह ने बताया कि नामांकन लेने वाले छात्र-छात्राएं इसी पेमेंट गेटवे के माध्यम से दाखिला शुल्क जमा करना है। विवि 18 अंगीभूत और 39 संबद्धता प्राप्त कॉलेजों को पेमेंट गेटवे बनाना है।

------------

----------------

31 जुलाई को जारी होगी मेधा सूची

स्नातक पार्ट वन सत्र 2020-23 में नामांकन के लिए विवि प्रशासन आगामी 31 जुलाई को जारी को मेधा सूची जारी करेगा। छात्रों को मेधा सूची के आधार पर कॉलेजों में ऑनलाइन नामांकन मिलेगा। बता दें कि विवि में 70 हजार से अधिक छात्र-छात्राओं का नामांकन होना है, इसलिए विवि को कई चरणों में मेधा सूची करनी पड़ सकती है।

-------------

वेतन कोषांग से सत्यापन के बिना एरियर भुगतान संभव नहीं

जागरण संवाददाता, आरा: वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के शिक्षक और कर्मचारियों का एरियर का भुगतान वेतन कोषांग से सत्यापन के बाद होगा। इधर वीर कुंवर सिंह शिक्षक संघ के नेता प्रो विश्वनाथ चौधरी ने विवि प्रशासन से जल्द एरियर भुगतान करने की मांग करते रहे हैं। जबकि विवि प्रशासन बिना वेतन कोषांग के सत्यापन को देने के लिए तैयार नहीं है। बता दें कि उच्च शिक्षा विभाग के अनुसार वेतन कोषांग से सत्यापन के बाद ही कर्मियों के एरियर का भुगतान किया जाएगा। कुलसचिव कर्नल श्यामानंद झा ने बताया कि विवि के कर्मचारी और शिक्षकों के वेतन भुगतान के लिए 51 करोड़ की राशि मिली है, ताकि 2016 से 2019 तक का एरियर भुगतान किया जा सके। उन्होंने बताया कि तकनीकी कारणों से अभी तक 70 फीसद से अधिक कर्मियो के वेतन का सत्यापन नहीं हुआ है। हालांकि विवि प्रशासन ने इस संबंध में सभी कागजात को वेतन कोषांग को सौंप चुका है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.