स्मार्ट सिटी भागलपुर का वेंडिंग जोन बनकर तैयार, एक साल बाद भी दुकानों का नहीं हो सका आवंटन

स्‍मार्ट सिटी भागलपुर का वेंडिंग जोन बनकर तैयार हो गया है। लेकिन साल भर बाद भी दुकानों का आवंटन नहीं हो सका है। इसको लेकर परेशानी बरकरार है। दुकान आवंटन को लेकर कई तरह के विवाद सामने आ रहे हैं।

Abhishek KumarSat, 30 Oct 2021 12:05 PM (IST)
स्‍मार्ट सिटी भागलपुर का वेंडिंग जोन बनकर तैयार हो गया है। सांकेतिक तस्‍वीर।

जागरण संवाददाता, भागलपुर। नाथनगर के कर्णगढ़ के शहर का इकलौता वेंडिंग जोन ध्वस्त होने लगा है। दीनदयाल अंत्योदय योजना राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन की योजना से शहर में इकलौता वेंडिंग जोन नगर निगम ने बनवाया।। प्राथमिकता के आधार पर दंगा पीडि़त 106 में से 74 वेंडरों दुकान आवंटित भी कर दिया। लेकिन, दुकानदारों ने अपनी मांग को लेकर वेंडिंग जोन मेंं नहीं बैठे। नतीजा, वेंडिंग जोन में पिछले एक वर्ष से सन्नटा पसरा है। देखरेख के अभाव में वेंडिंग जोन शुरू होने के पहले ही ध्वस्त होने लगा। दीवार क्षतिग्रस्त हो रहा है। टीन शेड उजडऩे लगे हैं। 143 दुकानों पर 75.97 लाख रुपये खर्च करने के बाद वेंडरों को इसका फायदा नहीं मिला।

दरअसल आनन-फानन लाटरी के माध्यम से दुकानें आवंटित तो कर दी गई। लेकिन वेंडर आपस में दो गुटों में बंट गए। मुख्य सड़क के किनारे वाली दुकान आवंटन की मांग पर वेंडरों के बीच विवाद शुरू हो गया। दंगा पीडि़त फुटकर विक्रेता संघ के अध्यक्ष बालकृष्ण साह ने निगम पर आरोप लगाया है कि निगम ने नियम को ताक पर रखकर आवंटन किया है। सब्जी व अनाज की दुकानों के बीच मछली विक्रेता को आवंटित कर दी। इस विवाद को निगम नही सुलझा पाया है।

दरअसल शुक्रवार को समस्या निदान के लिए नगर प्रबंधक रवीश चंद्र वर्मा ने वेंडिंग जोन परिसर का निरीक्षण किया। उन्होंने फुटकर विक्रेता संघ के साथ बैठक किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि जल्द ही समस्या दूर होगी। जिन वेंडरों को दुकानें आवंटित की गई है। उसे व्यवस्थित किया जाएगा।

क्या है मामला

89 के दंगा पीडि़त दुकानदार कर्णगढ़ में पीडब्ल्यूडी की जमीन पर वर्ष 1991 में कब्जा कर जीविका चला रहे थे। 2011 में न्यायालय ने 106 दुकानदारों को अतिक्रमण हटाने का निर्देश दिया। दंगा पीडि़त फुटकर दुकानदार संघ ने पीडब्ल्यूडी की जमीन को नगर निगम में स्थानांतरित कराया। आठ वर्ष से वेंङ्क्षडग जोन निर्माण को लेकर आंदोलन भी हुआ।  

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.