कटाव की जद में खगडिया के दो मतदान केंद्र, कोसी लगातार कर रही कटाव

बाढ़ के बाद अब खगडि़या में कटाव का खतरा मंडराने लगा है। कोसी नदी लगातार कहर बरपा रही है। अब दो मतदान केंद्र भी कटाव की जद में हैं। इस पर दबाव बना हुआ है। इससे प्रशासन की भी...!

Abhishek KumarSat, 18 Sep 2021 03:10 PM (IST)
बाढ़ के बाद अब खगडि़या में कटाव का खतरा मंडराने लगा है।

 संवाद सूत्र, बेलदौर (खगडिय़ा)। जिले के चोढ़ली जमींदारी बांध के अंदर कोसी नदी किनारे अवस्थित गांधीनगर गांव में कोसी एक बार फिर तेजी से कटाव कर रही है। इससे ग्रामीणों में दहशत व्याप्त है। कोसी कटाव करते-करते तेजी से प्राथमिक विद्यालय गांधीनगर के नए भवन की ओर बढ़ रही है।

-प्राथमिक विद्यालय गांधीनगर में पंचायत चुनाव को लेकर बनाए गए हैं दो मतदान केंद्र

-गांधीनगर में कोई दूसरा सरकारी भवन नहीं है, बनाना पड़ सकता है चलंत बूथ

अब तक कई भवन नदी में हो चुकी है समाहित

पुराने भवन पहले ही कोसी में विलीन हो चुके हैं। अब नए भवन से मात्र 15 फीट की दूरी पर कोसी बह रही है और रफ्तार से कटाव कर रही है। बेलदौर बीडीओ सुनील कुमार ने चिंता जताते हुए कहा कि विद्यालय में दो मतदान केंद्र बनाए गए हैैं। उक्त गांव में कोई अन्य सरकारी भवन नहीं है। ऐसे में चलंत मतदान केंद्र बनाने की आवश्यकता पड़ सकती है। दूसरी ओर बेलदौर सीओ ने कटाव स्थल का जायजा लिया है और इस ओर बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल- दो का ध्यान आकृष्ट कराया है। बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल- दो के कार्यपालक अभियंता गणेश प्रसाद सिंह ने जागरण को बताया कि वहां फ्लड फाइङ्क्षटग कार्य चलाया जा रहा था। दो-तीन दिनों पहले फ्लड फाइटिंग कार्य बंद किया गया है। पुन: स्थिति का अवलोकन कर आगे के कार्य पर विचार विमर्श किया जाएगा।

कटाव से हर साल परेशान रहते हैं लोग

खगडिय़ा के लोग कटाव से हर साल परेशान रहते हैं। प्रशासन की ओर से मदद का भरोसा तो दिया जाता है, पर पीडि़त परिवार तक नहीं पहुंच पाता है। यही कारण है कि हर साल विस्थापित परिवारों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। ये लोग बांध और रोड किनारे किसी तरह जिंदगी काट रहे हैं। सबसे अधिक परेशानी बरसात के मौसम में होती है। विस्थापित परिवार के बच्चों का पठन पाठन भी बंद हो जाता है।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.