TMBU : प्रो. नीलिमा गुप्ता ने ग्रहण किया प्रभार, डेढ़ साल बाद मिला विवि‍ को नियमित कुलपति, 12 साल बाद महिला VC

प्रो. नीलिमा गुप्ता ने तिमांविवि में कुलपति का ग्रहण किया प्रभार।

TMBU डॉ. नीलिमा गुप्ता ने टीएमबीयू के 65वें कुलपति के रूप में ग्रहण किया पद्भार। डेढ़ वर्ष बाद इस विवि को नियमिति कुलपति मिला। इनसे पहले 41वीं कुलपति शीला किस्कू और 49वीं थीं प्रेमा झा थीं। उन्‍होंने काफी लोगों ने बधाई दी है।

Dilip Kumar shuklaTue, 02 Mar 2021 09:56 AM (IST)

जागरण संवाददाता, भागलपुर। तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय (टीएमबीयू) में प्रो. नीलिमा गुप्ता ने 65वें कुलपति के रूप में पद्भार ग्रहण कर लिया। इस विवि को करीब डेढ़ साल बाद नियमित कुलपति मिला है।

प्रो. गुप्ता ने कहा कि विश्वविद्यालय में ऐसे विषयों की पढ़ाई होगी, जिससे रोजगार मिल सके। उन्होंने रिसर्च के स्तर में सुधार कर उसे बेहतर बनाने की बात कही। कहा, केवल डिग्री के लिए रिसर्च का काम हो ऐसा नहीं होगा। इसकी गुणवत्ता बढ़ाई जाएगी।

पुराने मामले की होगी समीक्षा

कुलपति ने कहा कि आरोप-प्रत्यारोप से जुड़े पुराने मामलों की बारीकी से समीक्षा होगी। यदि कार्रवाई के लिए मामले पेंडिंग हैं तो उन्हें पूरा कराया जाएगा। पेचीदा मामलों की विशेष रूप से समीक्षा कर उसे अंजाम तक पहुंचाया जाएगा।

खेल और सांस्कृतिक गतिविधियों को दिया जाएगा बढ़ावा

टीमएबीयू में ठप पड़े खेल और सांस्कृतिक गतिविधियों को बढ़ावा देने की बात प्रो. गुप्ता ने कही। उन्होंने कहा कि परीक्षा और परीक्षाफल प्रकाशन को लेकर भी गंभीरता बरती जाएगी। ताकि छात्रों को परेशानी नहीं उठानी पड़े।

छात्राओं के लिए रहूंगी हमेशा मौजूद

छात्राओं के उत्थान को लेकर कुलपति ने कहा कि मैं खुद महिला हूं। इस कारण छात्राओं की समस्या जानने के लिए खुद उनके बीच जाऊंगी। उन्हें बेहतर संसाधन दिलाने का प्रयास होगा। छात्राओं के लिए मैं हमेशा मौजूद रहूंगी। उनसे लगातार संवाद करती रहूंगी।

महिला कुलपति

तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय (टीएमबीयू) को 12 साल के लंबे अंतराल के बाद महिला कुलपति के रूप में प्रो. नीलिमा गुप्ता मिली हैं। इसके पूर्व एक जून 2000 से 27 जुलाई 2000 तक शीला किस्कू 41वीं कुलपति रही थी। जबकि 20 नवंबर 2006 से 20 नवंबर 2009 तक 49वें कुलपति के रूप में डॉ. प्रेमा झा तैनात रही थी। श्रीमती झा ने अपना तीन साल का कार्यकाल पूरा किया था। महिला कुलपति से छात्राओं को विशेष उम्मीदें हैं। हालांकि नई कुलपति ने छात्राओं को लेकर कहा है कि उनकी प्राथमिकता में वे होंगी।

दीक्षा समारोह की तिथि अब तक तय नहीं होने पर नई कुलपति ने कहा है कि इसके लिए वे राजभवन बात करेंगी। इस मामले को लेकर कुलपति ने मंगलवार को अपने अधिकारियों की एक बैठक सिंडिकेट हॉल में बुलाई है। जिसमें तैयार हुए सर्टिफिकेट, लिए गए शुल्क, वापस होने वाले शुल्क, दीक्षा समारोह की तैयारी को लेकर समीक्षा होगी।

नई कुलपति को टीएमबीयू के सेवानिवृत शिक्षक संघ के सचिव डॉ. राम चरित्र सिंह और अध्यक्ष अर्जुन यादव, कांग्रेस नेता सबौर के सुजीत झा ने बधाई दी है। पीजी महिला छात्रावास ओबीसी समेत दो, तीन छात्रावास की छात्राएं अधीक्षक डॉ. किरण सिंह के नेतृत्व में पहुंची थी। जिसमें स्वाति कुमारी, नीतू कुमारी एवं निकिता कुमारी समेत अन्य शामिल थी। विश्वविद्यालय के चतुर्थ और तृतीय वर्गीय कर्मचारी संघ द्वारा भी कुलपति का प्रशासनिक भवन में बुके देकर स्वागत किया गया।

राजभवन ने टीमएबीयू के एफए को हटाया

राजभवन ने टीएमबीयू के एफए पद्माकांत झा को हटा दिया है। उन पर टीएनबी कॉलेज में नियुक्त 14 कर्मियों के भुगतान में नियमों की अनदेखी और टीएनबी कॉलेज प्राचार्य से जुड़े मामले में तथ्यों को दरकिनार करने का आरोप लगाकर प्रभारी कुलपति ने राजभवन को रिपोर्ट दी थी। इसी रिपोर्ट को आधार मानकर राजभवन ने सोमवार को आदेश जारी किया है। इससे संबंधित पत्र राजभवन के सचिव आरएल चोंग्थू ने जारी किया है। श्री झा 19 दिसंबर 2018 को टीमएबीयू में नियुक्त हुए थे।

यूजीसी के फंड का लेखा-जोखा कर लें तैयार

तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय (टीएमबीयू) में सोमवार को 12 अंगीभूत कॉलेजों के प्राचार्यों और उनके प्रतिनिधियों के साथ सिंडिकेट हॉल में बैठक हुई। जिसमें कुलपति प्रो. नीलिमा गुप्ता ने कॉलेज प्राचार्यों से यूजीसी के 10वें, 11वें और 12वें प्लान के अनुदान की राशि के हिसाब के बारे में पूछा। उन्होंने बताया कि 12 और 13 को टीएमबीयू में यूजीसी की टीमें आने वाली है। उस वक्त कॉलेजों को अपना प्रजेंटेशन तैयार रखना है।

कुलपति ने कहा कि यूजीसी से जो भी फंड मिले हैं, उसका पूरा हिसाब कॉलेजों को इक_ा कर लेना है। कितनी राशि कब-कब मिली, कितने कार्य पूरे हुए, कितने अब तक फंड के अभाव में अधूरे हैं, कितनी राशि का उपयोगिता प्रमाण पत्र भेजा गया, कितनी राशि स्वीकृत हुई थी और कितनी मिली है। इसके अलावा भी कई जरूरी निर्देश दिए गए हैं। ताकि यूजीसी टीम के समक्ष कॉलेजों को दिक्कत ना हो।

बैठक में सेवानिवृत होने वाले शिक्षक डॉ. शैलेश्वर प्रसाद को कुलपति ने सम्मानित किया। इस दौरान प्रति-कुलपति प्रो. रमेश कुमार, कुलसचिव डॉ. निरंजन प्रसाद यादव, सीसीडीसी डॉ. केएम सिंह, एसएम कॉलेज के प्राचार्य डॉ. रमन सिन्हा, मारवाड़ी कॉलेज के प्राचार्य डॉ. केसी झा, बीएन कॉलेज, सबौर कॉलेज समेत अन्य कॉलेजों के प्राचार्य मौजूद थे।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.