किशनगंज में आवारा पशुओं को पकडने गई नगर परिषद की टीम पर लाठी-डंडे से हमला, दो की हालत गंभीर

किशनगंज में आवारा पशुओं को पकड़ने गई टीम पर लोगों ने हमला कर दिया। इससे कई लोग घायल हो गए। इसमें से दो की हालत गंभीर बनी हुई है। उन्‍हें बेहरत उपचार के लिए रेफर कर दिया गया है।

Abhishek KumarThu, 10 Jun 2021 07:34 PM (IST)
किशनगंज में आवारा पशुओं को पकड़ने गई टीम पर लोगों ने हमला कर दिया। सांकेतिक तस्‍वीर।

संवाद सहयोगी, किशनगंज। नगर परिषद द्वारा डीएम के निर्देश पर दो मार्च से शहरी क्षेत्रों में लगातार आवारा पशुओं की धड़-पकड़ अभियान चलाया जा रहा है। अभियान के विरोध में पशुपालकों के संरक्षकों ने गुरुवार को अस्पताल के पीछे पासवान टोली में आवारा पशुओं को पकडऩे गयी टीम पर भीड़ ने पुलिस टीम के सामने लाठी डंडे से जानलेवा हमला कर दिया। हमला में टीम के लगभग आधा दर्जन कर्मी सहित दो कर्मी गंभीर रूप से घायल हो गए। टीम के सदस्य किसी तरह वहां से जान बचाकर नगर परिषद पहुंचे।

घटना की जानकारी मिलते ही सर्किल इंस्पेक्टर श्याम किशोर यादव, प्रभारी थानाध्यक्ष सतीश कुमार हिमांशु दलबल के साथ मौके पर पहुंची। पुलिस को देख पशुपालक मौके से फरार हो गए। भीड़ द्वारा हमले में घायल लख्खी राम मुर्मू और लख्खी राम सुरेन दोनों कर्मियों की स्थिति खराब देखकर नगर परिषद कार्यपालक पदाधिकारी दीपक कुमार ने दोनों को विभागीय वाहन से बेहतर इलाज के लिए सदर अस्पताल पहुंचाया। वहीं घायल सुभान किस्कू ने बताया कि नगर परिषद के निर्देश पर हमलोग टीम बनाकर हर दिन की तरह पासवान टोली में सुवरों को पकड़ रहे थे, अचानक लगभग दो सौ लोग लाठी डंडे व धारदार हथियार लेकर हम लोंगों पर हमला बोल दिया। इसके बाद भीड़ ने टीम को बंधक बनाकर मारपीट करते हुए दोबारा से सुवरों को पकडऩे पर गोली मार देने की धमकी दी।

बंधक बनाने के दौरान भीड़ ने आठ कर्मियों का मोबाइल भी छीन लिया। वहीं मौके पर पुलिस अधिकारियों के पहुंचते ही भीड़ में शामिल हमलावर भाग खडे हुए। घटना के संबंध में नगर परिषद दीपक कुमार द्वारा कई बार पशु पालकों से शहर में विचरण कर रहे सुवरों को हटाने की अपील की गयी थी। 27 मई को नगर परिषद की बैठक में जिलाधिकारी ने सख्ती बरते हुए 17 पशुपालकों पर प्राथमिकी दर्ज करवाने का निर्देश दिया था। निर्देश की अवहेलना होने के बाद डीएम के निर्देश पर दो मार्च से नगर परिषद द्वारा शहर में सुवरों को पकडऩे के लिए ठाकुरगंज टीम को बुलाकर पशुओं को पकडऩे का अभियान चलाया जा रहा है। इस बीच पशु संरक्षकों द्वारा पहले भी टीम पर हमला करने की योजना बनायी गयी थी। गुरुवार को महिलाओं को भीड़ में शामिल कर हमला कर दिया गया।

वहीं भीड़ द्वारा वाहन के शीशे तोड़ वाहन को आग लगाने की भी कोशिश की गयी। घटना की सूचना मिलने के बाद पहुंचे एसडीओ शहनवाज अहमद नियाजी ने कहा विधि व्यवस्था को बिगाडऩे वाले और कानून को अपने हाथ मे लेने वाले पर कार्रवाई की जाएगी। हमलावर के विरुद्ध टाउन थाना में केस दर्ज कर कड़ी कार्रवाई की नप के निर्देश पर दिया गया है। प्राथमिकी दर्ज करवाए गए पशुपालकों को जल्द ही गिरफ्तार किया जाऐगा।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.