स्‍मार्ट सिटी भागलपुर: जय प्रकाश उद्यान परिसर में होगा राष्ट्रीय स्तर का बैडमिंटन इंडोर हाल, दो करोड़ रुपये होंगे खर्च

स्‍मार्ट सिटी भागलपुर स्मार्ट सिटी योजना से करीब दो करोड़ रुपये होंगे खर्च जय प्रकाश उद्यान परिसर में निर्माण कार्य शुरू। पूर्व से बने चार कोर्ट का होगा जीर्णोद्धार तीन नए कोर्ट का होगा निर्माण राष्ट्रीय स्तर की होगी प्रतियोगिता।

Dilip Kumar ShuklaThu, 29 Jul 2021 09:57 AM (IST)
2014 में आल इंडिया सब जूनियर रैंकिेंग और 2019 में सब जूनियर नेशनल चैंपियनशिप प्रतियोगिता का आयोजन हो चुका है।

जागरण संवाददाता, भागलपुर। जयप्रकाश उद्यान परिसर में राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं के लिए सूबे का पहला बैडमिंटन इंडोर हाल बनेगा। इसमें स्मार्ट सिटी की योजना से करीब दो करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। हाल दिसंबर तक बनकर तैयार हो जाएगा। जिसके बाद इसमें जिला स्तर से राष्ट्रीय स्तर तक की प्रतियोगिताएं होंगी।

दरअसल, राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता के लिए कम से कम सात कोर्ट का होना जरूरी है। वर्तमान में चार कोर्ट इंडोर में हैं, पर वे जीर्ण-शीर्ण अवस्था में पड़े हुए हैं। सभी कोटों का जीर्णोद्धार होगा।

किया जाएगा विस्तार

स्मार्ट सिटी की योजना से तीन बैडमिंटन कोर्ट का विस्तार किया जाएगा। इसके लिए फाउंडेशन का कार्य शुरू हो गया है। वृक्षों को दूसरी जगह शिफ्ट कराया जा रहा है।

उडेन फ्लोर वाले होंगे सभी कोर्ट

इंडोर हाल में बनने वाले सभी सात कोर्ट उडेन फ्लोर वाले होंगे। खिलाडिय़ों के लिए जिम की भी सुविधा होगी। करीब 700 दर्शकों की क्षमता वाली गैलरी का निर्माण होगा। शौचालय, चेजिंग कक्ष, पार्किंग और लाइङ्क्षटग की व्यवस्था होगी। आधुनिक डिजाइन का भवन लोगों को आकर्षित करेगा।

बिहार बैडमिंटन संघ के इवेंट सचिव सत्यजीत सहाय ने बताया कि इतना बड़ा हाल बिहार में कहीं नहीं है। यहां लगातार खिलाडिय़ों की संख्या बढ़ रही है। अब यहां राष्ट्रीय स्तर के इवेंट भी कराए जा सकेंगे।

हालांकि बड़े आयोजनों के लिए हवाई सेवा का नहीं होना बड़ी बाधा है। हवाई जहाज उड़ान भरने लगे तो देश के विभिन्न हिस्सों से खिलाडिय़ों को भागलपुर आने में सुविधा होगी।

अधूरे नाला निर्माण से सुरखीकल में जलजमाव की समस्या

सुरखीकल मेाहल्ले में जलनिकासी की समस्या से लोग बेहाल है। यहां नाला निर्माण पर खर्च करने के बाद भी सड़क पर जलजमाव की नौबत बनी हुई है। संवेदक ने आधा अधूरा नाला निर्माण कार्य छोड़ दिया है। 1200 फीट नाले का निर्माण होना था पर एक हजार फीट ही कार्य किया है। जबकि शेष भाग में नाला निर्माण के बाद जलजमाव की समस्या का निदान हो सकता है। लेकिन कार्य अवरूद्ध होने से बारिश व नाले के पानी की गलियों में जमा हो जाता है। जिससे घर से बाहर कदम रखने में लोगों को परेशानी होती है। पार्षद प्रीति देवी ने योजना शाखा प्रभारी से शिकायत दर्ज की। उन्हेांने आश्वासन दिया कि ठेकेदार के साथ निगम का एग्रीमेंट नहीं हो सका है, होने के बाद काम शुरू करवा दिया जाएगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.