इस बार होली पर शराब तस्कर पर पुलिस रखेगी विशेष नजर, एसपी ने टीम ने किया गठन

पूर्णिया में तस्करों पर विशेष नजर रखने के लिए एसपी द्वारा विशेष टीम गठित कर निगरानी किया जा रहा है।

पूर्णिया में शराब तस्करों पर विशेष नजर रखने के लिए एसपी दया शंकर द्वारा विशेष टीम गठित कर निगरानी किया जा रहा है। शराब की खेप और कारोबारी को गिरफ्तार कर नेटवर्क को ध्वस्त करने में जुटा हुआ है।

Abhishek KumarSat, 27 Feb 2021 08:10 AM (IST)

जागरण संवाददाता, पूर्णिया। उत्पाद अधिनियम को सख्ती से लागू कर आगामी होली के अवसर पर चोरी-छिपे भी जाम ना छलके इसके लिए पुलिस अभी से ही चौकसी बरत रही है। शराब की खेप सीमावर्ती क्षेत्र से पूर्णिया सहित अन्य जिलों तक नहीं पहुंचे इसके लिए एसपी दया शंकर द्वारा विशेष टीम गठित कर निगरानी किया जा रहा है। विशेष टीम सीमावर्ती इलाके में सघन वाहन जांच एवं तकनीकी अनुसंधान पर कार्रवाई कर शराब की खेप और कारोबारी को गिरफ्तार कर नेटवर्क को ध्वस्त करने में जुटा हुआ है। दो दिन पूर्व उत्पाद अधिनियम के कई कांडों में वांछित बंगाल के दो बड़े शराब सप्लायर की गिरफ्तारी पुलिस की बड़ी सफलता मानी जा रही है।

कहा जा रहा है कि अब पुलिस दोनों शराब सप्लायर के नेटवर्क को खंगालने से स्थानीय स्तर पर शराब सप्लायर से जुड़े कई शराब माफिया के चेहरा से पर्दा उठ सकेगा। ऐसे लोगों का नाम सामने लाने के लिए पुलिस गिरफ्तार शराब सप्लायर दार्जिङ्क्षलग निवासी बिस्वाल बोस और सिलीगुड़ी निवासी सुशील साह को रिमांड पर लेकर पूछताछ के अलावा दोनों के जब्त मोबाइल के आधार पर तकनीकी अनुसंधान की तैयारी शुरू कर दी है। पुलिस मोबाइल नंबर का कॉल डिटेल निकालकर यह जानने की कोशिश कर रही है कि आखिर दोनों शराब सप्लायर का पूर्णिया एवं अन्य किस-किस जिले के शराब धंधेबाज से संपर्क था, जहां शराब सप्लाई किया जाता था।

पूर्णिया के पुराने शराब कारोबारी बन गए हैं मुख्य शराब तस्कर

शराबबंदी के बाद धड़ल्ले से हो रही शराब तस्करी का खेल थमने का नाम नहीं ले रहा है। हाल के दिनों पुलिस और उत्पाद विभाग की सख्ती से कारोबार थोड़ा धीमा जरूर हुआ है। लेकिन बताया जाता है कि तस्कर होली की तैयारी में अभी से शराब की खेप मंगाकर स्टॉक करने में जुट गए हैं। ताकि उस समय अधिक मुनाफा कमाया जा सके। इसके लिए तस्कर अपना मार्ग भी बदल रहे हैं। बताया जाता है कि शराब तस्करी के खेल में पूर्णिया के कुछ पुराने शराब कारोबारी की संलिप्तता है। जो दिखावा वाले कुछ सफेद कारोबार के इतर शराब तस्करी का काला कारोबार कर रहा है। बताया जाता है कि अवैध रूप से भी शराब तस्करी का कारोबार अब सिंडिकेट के रूप में काम कर रहा है, जो पूर्णिया के अलावा सीमांचल और कोसी के जिलों तक शराब की बड़ी खेप सप्लाई करता है। बाजार में यह बात तक चर्चा में है कि पुराने शराब कारोबारी के नाम के प्रति शराब के आदतन को काफी विश्वास है। ऐसे धंधेबाज का नाम लेकर शराब कारोबारी ऑरिजिनल होने का दावा कर ग्राहकों को डिलीवरी दे रहा है। पुलिस अगर बंगाल के गिरफ्तार सप्लायर से सघन पूछताछ करेगी और उसके पूरे संपर्क की जांच करेगी तो कई खुलासा हो सकता है।

पूर्णिया पुलिस के कंधे कई जिला शराब सप्लाई रोकने का जिम्मा::

बिहार और बंगाल के सीमावर्ती क्षेत्र स्थित पूर्णिया पुलिस के कंधे कई जिला तक शराब सप्लाई रोकने का जिम्मेदारी है। बंगाल से शराब तस्करी की खेप पूर्णिया के रास्ते पूर्णिया के अलावा कोसी-सीमांचल सहित मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर, बेगुसराय, खगडिय़ा, दरभंगा, मधुबनी तक पहुंचता है। लगातार ऐसी कई शराब की खेप बरामद हुई है जो पूर्णिया नहीं बल्कि अन्य जिला में लेकर जाया जा रहा था। इसलिए पूर्णिया पुलिस द्वारा थाना, ओपी के अलावा विशेष टीम गठित कर उत्पाद अधिनियम के पर सख्ती बरतने में लगाया गया है।

गिरफ्तार बंगाल के शराब सप्लायर से पूछताछ एवं मोबाइल नंबर का डिटेल निकालकर बारिकी के साथ जांच पड़ताल शुरू कर दी गई है। इस जांच में जो भी स्थानीय तस्कर की संलिप्तता सामने आएगी ठोस कार्रवाई की जाएगी। -दया शंकर, एसपी।  

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.