बिहार शिक्षक नियोजन: नियुक्ति पत्र को लेकर अब धरातल पर महाआंदोलन, 29 को गर्दनीबाग पहुंचेंगे मधेपुरा से शिक्षक अभ्यर्थी

बिहार शिक्षक नियोजन लंबे समय से बिहार में शिक्षकों की बहाली नहीं हुई है। 2019 में निकाली गई वैकेंसी को लेकर शिक्षक अभ्यर्थी लगातार इंटरनेट मीडिया के माध्यम से अपनी आवाज उठाते रहे हैं। अब ये एक दफा फिर पटना के गर्दनीबाग में गोलबंद होकर महाआंदोलन करने जा रहे हैं।

Shivam BajpaiSat, 27 Nov 2021 01:48 PM (IST)
पटना के गर्दनीबाग में महाआंदोलन का आह्वान।

संवाद सूत्र, मधेपुरा: बिहार शिक्षक नियोजन: सीटेट उत्तीर्ण बहाली मोर्चा जिला इकाई की बैठक रासबिहारी विद्यालय के प्रांगण में जिलाध्यक्ष संजय कुमार के अध्यक्षता में हुई। बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि 29 नवंबर को पटना के गर्दनीबाग में होने वाले राज्यस्तरीय महाआंदोलन में शामिल होंगे। बैठक में अभ्यर्थी जवाहर, अनमोल, भूषण, रूपेश, अखिलेश, विनोद, दिलीप, संध्या उपस्थित रहे। 

गौरतलब हो कि 2019 को निकाली गई शिक्षक नियोजन की प्रक्रिया अब तक पूरी नहीं हो पाई है। पहले कोर्ट तक पहुंचे मामले ने इसपर ब्रेक लगाकर रखी। फिर कोर्ट से मिली हरी झंडी के बाद दो चरणों में काउंसलिंग हुई और अब ये दो माह से रुकी हुई है। इससे पहले भी शिक्षक अभ्यर्थी पटना में धरना प्रदर्शन कर चुके हैं। वहीं, कोरोना काल से लेकर अब तक शिक्षक अभ्यर्थियों ने कई दफा इंटरनेट मीडिया पर अपनी आवाज बुलंद करते हुए कई आनलाइन कैंपेन भी चलाए हैं।

बिहार की विपक्षी पार्टियां अभ्यर्थियों की मांगों को लेकर उनका साथ दे रही हैं। गर्दनीबाग में होने वाले आंदोलन को लेकर शिक्षक अभ्यर्थी लगातार इंटरनेट मीडिया पर ज्यादा से ज्यादा की संख्या में आने की अपील भी कर रहे हैं तो वहीं राजनीतिक दल भी इनके आंदोलन का समर्थन करते हुए दिखाई दे रहे हैं।

अतिथि सहायक प्राध्यापकों ने मंत्री को सौंपा मांग पत्र

संवाद सूत्र, सिंहेश्वर (मधेपुरा): बीएन मंडल विवि में शुक्रवार को कार्यक्रम के उद्घाटन में पहुंचे परिवहन मंत्री शीला मंडल को अतिथि सहायक प्राध्यापकों ने मांग पत्र सौंपा है। इसमें अतिथि शिक्षकों के सेवा को नियमित करते हुए 65 वर्ष करने का मांग शामिल था। आवेदन देते हुए बीएनएमयू अतिथि सहायक प्राध्यापक संघ के संयोजक सह मधेपुरा लोकसभा प्रभारी डा. राजीव जोशी ने कहा कि उनलोगों की बहाली यूजीसी के द्वारा निर्धारित नियमित बहाली के मानदंड के अनुसार हुआ है। इस कारण से भी सरकार को चाहिए कि उन लोगों के सेवा को विस्तारित कर 65 वर्ष कर दिया जाए। इस मौके पर जदयू के शिक्षा प्रकोष्ठ के प्रदेश महासचिव डा. एमएस रहमान उर्फ बाबूल, भाजयुमो नेता सह बिहार राज्य अतिथि सहायक प्राध्यापक संघ के प्रदेश कार्यकरिणी समिति सदस्य डा. ब्रजेश ङ्क्षसह सहित अन्य मौजूद थे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.