भूकंपरोधी भवन बनाने में पारंगत होंगे राजमिस्त्री, इंजीनियर दे रहे इस तरह प्रशिक्षण

कटिहार के राजमिस्‍त्री अब भूकंपरोधी मकान बनाएंगे।

कटिहार के राजमिस्‍त्री अब भूकंपरोधी मकान बनाएंगे। इसके लिए उन्‍हें इंजीनियरों की टीम द्वारा प्रशिक्षण दिया जा रहा है। गुरुवार को सभी प्रखंडों में प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया। इसमें बड़ी संख्‍या में राजमिस्‍त्री ने भाग लिया।

Abhishek KumarThu, 25 Feb 2021 03:12 PM (IST)

जागरण टीम, कटिहार। सभी प्रखंडों में राज मिस्त्रियों का सात दिवसीय प्रशिक्षण जारी है। इस दौरान मिस्त्रियों को खासकर भूकंपरोधी मकान बनाने व पुराने भवन के शुद्धिकरण कार्य को लेकर तकनीकी जानकारी दी जा रही है। प्रशिक्षण के दौरान प्रति दिन के हिसाब से प्रति मिस्त्री सात सौ रुपए का भुगतान भी दिया जाएगा।

फलका : फलका प्रखंड मुख्यालय के प्रांगण में स्थित ट्रायसेम भवन में राज मिस्त्री का सात दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का उद्घाटन प्रमुख सतीश मंडल, बीडीओ रेखा कुमारी, सीओ गुलाम शाहिद एवं सीआई आरिफ हुसैन ने संयुक्त रूप से किया। प्रशिक्षण लेने पहुंचे सभी अभ्यर्थी को गमछा और परिचय पत्र दिया गया। प्रमुख सतीश मंडल ने राज्य सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि अब गांव के राज मिस्त्री भी प्रशिक्षण प्राप्त कर बेहतर मकान निर्माण कर सकेंगे और उन्हें वा•िाब मजदूरी भी मिलेगा। प्रशिक्षण में पटना से आए प्रशिक्षण प्रभारी इंजीनियर राज नारायण, ट्रेनर इंजीनियर मनोज कुमार गुप्ता, मास्टर ट्रेनर भीम प्रसाद यादव द्वारा राज मिस्त्री को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। सीआई आरिफ हुसैन ने बताया कि प्रशिक्षण शिविर में भाग लेने वाले सभी राजमिस्त्री को दिन का भोजन मुफ्त में दिया जाएगा तथा प्रतिदिन 700 रुपये के हिसाब से भत्ता भी मिलेगा। प्रशिक्षण समापन के बाद राजमिस्त्री को प्रमाण पत्र भी दिया जाएगा। प्रशिक्षण के दौरान प्रभारी इंजीनियर राज नारायण यादव ने बताया कि नेपाल की सीमा से सटे आठ जिले यहां भूकंप के सर्वाधिक खतरनाक जॉन वी में आते हैं। भूकंप रोधी भवनों के निर्माण तथा पुराने भवनों के शुद्धिकरण के लिए राज्य में राज मीस्त्रियों को प्रशिक्षण देने का कार्य बिहार राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा किया जा रहा है। प्रशिक्षण के दौरान पर्यवेक्षक संतोष कुमार भी वहां पहुंच आवश्यक जानकारी ली। प्रशिक्षण को सफल बनाने में अंचल के नाजिर जीवन रजक की अहम भूमिका रही।

कदवा : प्रखंड मुख्यालय स्थित सभागार में राज मिस्त्री का सात दिवसीय प्रशिक्षण का शुभारंभ किया गया। बुधवार को उप विकास आयुक्त अरुण कुमार ठाकुर ने इसका उदघाटन किया। न्होंने बताया कि इस प्रशिक्षण में राज मिस्त्री को भूकंप रोधी घर बनाने की जानकारी के साथ अन्य कई प्रकार की उपयोगी जानकारी दी जाएगी। बाद में उप विकास आयुक्त ने मुखिया के साथ बैठक किया। उक्त बैठक में विभिन्न योजनाओं के क्रियान्वयन की जानकारी लिया। मौके पर भर्री मुखिया विनोदानंद साह ने पंचायत में उप स्वस्थ्य केंद्र बनने के बाद भी चिकित्सक की पदस्थापना नहीं होने, कबीर अंत्येष्टि की राशि एवं कन्या दान की राशि 2013 से बकाया होने की बात कही। साथ ही बाढ़ में मजदूरों का जॉब कार्ड बह जाने के बाद मनरेगा से पुन: नहीं बनाए जाने की शिकायत की। उन्होंने बताया कि मजदूर बार बार कार्यालय का चक्कर लगा रहे हैं लेकिन कार्ड नहीं बन रहा है। बाद में पदाधिकारी ने विभिन्न पदाधिकारी एवं कर्मियों के साथ बैठक की। उन्होंने स्पष्ट निर्देश दिया कि जनता का कार्य पारदर्शिता पूर्ण तरीके से किया जाए। वहीं महम्मदपुर की एक वृद्ध ने प्रधानमंत्री आवास की शिकायत की। इस अवसर पर बीडीओ, सीईओ, पीओ के अलावा कई पदाधिकारी एवं कर्मी मौजूद थे।

बारसोई : जब भी पक्का मकान बनाते हैं तो उन्हें भूकंप रोधी मकान ही बनाना चाहिए अगर वे ऐसा नहीं करते हैं तो उनके निर्माण को कानूनन वैध नहीं माना जाएगा। यह बातें अंनुमंलाधिकारी पवन कुमार मंडल ने प्रखंड कार्यालय परिसर स्थित सछ्वावना मंडप नामक भवन में राज मिस्त्रियों के सात दिवसीय प्रशिक्षण शिविर के उदघाटन मौके पर कही। एसडीओ ने कहा कि कटिहार जिला भूकंप की ²ष्टि से भूकंप जोन पांच में आता है जो सर्वाधिक संवेदनशील है। ऐसे में यहां बनने वाला मकान अवश्य ही भूकंप रोधी होनी चाहिए और जो मकान पूर्व में बन गए हैं उनका सु²ढ़ीकरण भी होना आवश्यक है। बता दें कि बिहार राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा जिला प्रशासन की देखरेख में सभी प्रखंडों में 30 अनुभवी राज मिस्त्रियों को प्रोजेक्टर एवं अभ्यास कार्य के माध्यम से बहू आपदा रोधी यथा भूकंप, बाढ़, चक्रवाती तूफान आदि भवन निर्माण विषय पर सात दिवसीय प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इसकी शुरुआत अंचलाधिकारी अमर कुमार राय तथा पटना से आए तीन साधन सेवी विशेषज्ञ अभियंताओं की उपस्थिति में अनुमंडल अधिकारी पवन कुमार मंडल ने किया। इस अवसर पर अंचल नाजिर जितेंद्र राय, प्रशिक्षण संचालक अभिनव कुमार, इंजीनियर आदिल खान, मास्टर ट्रेनर प्रदीप कुमार आदि मौजूद थे।

प्राणपुर : बिहार राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की ओर से प्रखंड मुख्यालय स्थित सभा कक्ष भवन में तीस अनुभवी राजमिस्त्रियों का सात दिवसीय प्रशिक्षण आरंभ हुआ। प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ प्रमुख अमित साह, सीओ विनय कुमार, जदयू प्रखंड अध्यक्ष लड्डू ङ्क्षसह व प्रोफेसर राजेंद्र नाथ मंडल ने संयुक्त रुप से किया। इस अवसर पर सीओ श्री कुमार ने कहा कि भूकंप जोन में पडऩे वाले जिले में भूकंप रोधी मकान का निर्माण किया जाना अत्यंत आवश्यक है। इसी के तहत गृह निर्माण से पूर्व सतर्कता के तहत भूकंपरोधी भवन निर्माण को लेकर प्रशिक्षण दिया जा रहा है। प्रशिक्षक फरहान बिन सलीम ने राजमिस्त्रियों को भूकंपरोधी मकान निर्माण के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए प्रशिक्षण के प्रथम दिन मकान लेआउट करने के बारे में जानकारी दी। प्रशिक्षक मोहम्मद आदिल हुसैन ने ईंट की जोड़ाई से पूर्व ईंट को पांच से छह घंटे भींगा कर ही प्रयोग करने की बात बताई। मास्टर ट्रेनर पवन कुमार पासवान ने बताया कि सात दिवसीय प्रशिक्षण के बाद राजमिस्त्रियों को सात सौ रुपये की दर से 49 सौ रुपए का चेक एवं प्रमाण पत्र दिए जाएंगे। मौके पर प्रभात मिश्रा, मु. खुर्शीद आलम सहित कई अन्य लोग उपस्थित थे।

अमदाबाद : प्रखंड मुख्यालय स्थित आईटी भवन में बुधवार से बिहार राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण पटना के सौजन्य से एवं जिला आपदा प्रबंधन द्वारा राज मिस्त्रियों का भूकंप रोधी भवन निर्माण को लेकर सात दिवसीय प्रशिक्षण की शुरुआत हुई। कार्यक्रम के शुभारंभ के दौरान अंचल पदाधिकारी अनिल कुमार संतोषी, अंचल निरीक्षक मनोज कुमार ठाकुर भी मौजूद रहे। प्रशिक्षण देने का कार्य प्रशिक्षण प्रभारी उत्कर्ष विभोर मास्टर ट्रेनर आकाश गोस्वामी, राजेश कुमार द्वारा किया जा रहा है। प्रशिक्षण प्रभारी उत्कर्ष विभोर ने बताया कि 24 फरवरी से दो मार्च तक 30 राज्य मिस्त्रियों को भूकंप रोधी भवन संरचना, निर्माण सामग्री की गुणवत्ता, भूकंप रोधी भवन निर्माण, भवन निर्माण संबंधी अंगों से परिचय, सामग्री भंडारण, नई तकनीक की जानकारी, पुराने भवन को रेटो फिङ्क्षटग से कैसे बनाएं आदि विषय की जानकारी दी जाएगी।

समेली : प्रखंड क्षेत्र के किसान भवन बखरी के प्रांगण में राजमिस्त्रियों को भूकंपरोधी भवन निर्माण को लेकर सात दिवसीय प्रशिक्षण की शुरुआत हुई। अंचलाधिकारी गुलाम शाहिद ने इसका उदघाटन किया। इस अवसर पर पटना के प्रशिक्षक गोङ्क्षवद गौरव, काजीमी वासित व सतीश राय ने 30 मिस्त्रियों को प्रशिक्षण दिया। प्रशिक्षक ने बताया कि बिहार राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा आयोजित इस प्रशिक्षण में तकनीकी पहलूओं की जानकारी दी जा रही है। प्रशिक्षण समापन के बाद राजमिस्त्रीयों को प्रमाण पत्र भी दिया जाएगा। इसमें भवन की आकृति नियम के निर्माण, सामग्रियों के उपयोग, भंडारण एवं जांच की सरल विधियां ईट को चार से छह घंटे पानी में फुलाकर ही उपयोग, सरिया को बांधने की सही तकनीक, घरों को जंग से बचाने के लिए पेवर लगाना, पॉकेट में खड़ा करने सहित आवश्यक जानकारी दी जा रही है। भूकंपरोधी निर्माण के तकनीक के उपयोग को समावेशित करते हुए एक मॉडल भवन का निर्माण भी कराया जाएगा। वही इस मौके पर कृषि पदाधिकारी रविरंजन गौतम, किसान सलाहकार सुनील शर्मा, गणेश कुमार निषाद, प्रमोद राणा आदि मौजूद थे।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.