नियोजित शिक्षकों को अब बैंक से लोन लेने के लिए नहीं लगाना होगा चक्कर, आवेदन करने के 24 घंटे के अंदर 7.5 लाख का लोन देगा एसबीआइ

शिक्षकों को एसबीआई ने बड़ा तोहफा दिया है।

शिक्षकों को एसबीआई ने बड़ा तोहफा दिया है। अब उन्हें लोन लेने के लिए भटकने की जरूरत नहीं है। आवेदन करने के 24 घंटे के अंदर एसबीआई उन्हें साढ़े सात लाख रुपये तक का लोन उपलब्ध करा देगा। इसके लिए परेशानी नहीं झेलनी होगी।

Publish Date:Tue, 26 Jan 2021 12:32 PM (IST) Author: Abhishek Kumar

जागरण संवाददाता, लखीसराय। समान काम समान वेतन के लिए लम्बे समय तक नियोजित शिक्षक हड़ताल पर रहे, मगर कोरोना महामारी ने उसे विफल कर दिया । फलस्वरूप, लगभग बीच वर्षों की नौकरी करने के बाद भी नियोजित शिक्षकों की आर्थिक स्थिति दयनीय बनी हुई है। 

शिक्षा विभाग के आदेशानुसार नियोजित शिक्षकों को पीएनबी के बजाय एसबीआई से वेतन भुगतान किए जाने के कारण आॢथक समस्या का समाधान निकलता दिख रहा है । एसबीआई की नई लखीसराय बाजार शाखा (कोड 61450 ) जो कबैया थाना के निकट है, में नियोजित शिक्षकों को मात्र 24 घंटे में 7.5 लाख का पर्सनल लोन दिया जा रहा है। नयी शाखा की इस पहल से नियोजित शिक्षकों खुशी देखी जा रही है।

एसबीआई की नई शाखा में पर्सनल लोन के अतिरिक्त बिजनेस लोन, होम लोन, कार लोन, करेन्ट अकाउंट, म्यूचुअल फंड, एनपीएस, एवं पीपीएफ की भी सुविधा दी जा रही है ।

एसबीआई लखीसराय बाजार शाखा में कर्मी एवं अधिकाअधिकारी के रूप मे मुख्य प्रबंधक पंकज कुमार वर्मा, प्रबंधक रोहित कुमार, उपप्रबंधक मनीषा कुमारी, सॢवस मैनेजर घनश्याम पंकज, सहायक अरविन्द दास और प्रशिक्षु अधिकारी नेहा कुमारी कार्यरत हैं । इन सभी कर्मियों का व्यवहार मित्रतापूर्ण है । बैंक आने वाले ग्राहक को सम्मान पूर्वक बैठाकर पानी चाय पिलाकर बैंकिंग सेवा दी जा रही है जो बैंकिंग क्षेत्र के लिए एक नई मिसाल है। यूं तो इस बैंक के सभी कर्मी अच्छे हैं, लेकिन सर्विस मैनेजर घनश्याम पंकज, सहायक अरविन्द दास और प्रशिक्षु अधिकारी नेहा कुमारी के कार्य तथा व्यवहार की जितनी तारीफ की जाय वो कम है। नियोजित शिक्षक संघ के सिराज कादरी ने इसको लेकर बैंक प्रबंधन को साधुवाद दिया है।

दरअसल, शिक्षकों को फिलहाल लोन लेने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। लोन के लिए आवेदन देने के बाद उन्हें बैंकों का चक्कर लगाना पड़ रहा था। लेकिन अब उन्हें परेशान होने की जरूरत नहीं है।  

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.